Posts

2013 की घुमक्कडी का लेखा-जोखा

डायरी के पन्ने- 18

गढमुक्तेश्वर में कार्तिक मेला

वाराणसी से मुरादाबाद पैसेंजर ट्रेन यात्रा

इलाहाबाद से मुगलसराय पैसेंजर ट्रेन यात्रा

डायरी के पन्ने- 17

दिल्ली चिडियाघर

डायरी के पन्ने - 16

मेडता रोड से मेडता सिटी रेलबस यात्रा

हिसार से मेडता रोड पैसेंजर ट्रेन यात्रा

हर की दून यात्रा- गंगाड से दिल्ली

हर की दून यात्रा- दिल्ली से गंगाड

डायरी के पन्ने- 15

एक लाख किलोमीटर की रेल यात्रा

गोकर्ण, कर्नाटक

शिमोगा से मंगलुरू ट्रेन यात्रा

लोंडा से तालगुप्पा रेलयात्रा और जोग प्रपात

डायरी के पन्ने- 14

दूधसागर जलप्रपात

कोंकण रेलवे

जामनेर-पाचोरा नैरो गेज ट्रेन यात्रा

डायरी के पन्ने- 13

अजन्ता गुफाएं

लद्दाख साइकिल यात्रा के तकनीकी पहलू

लद्दाख साइकिल यात्रा- इक्कीसवां दिन- श्रीनगर से दिल्ली

डायरी के पन्ने- 12

लद्दाख साइकिल यात्रा- बीसवां दिन- मटायन से श्रीनगर

लद्दाख साइकिल यात्रा- उन्नीसवां दिन- शम्शा से मटायन

लद्दाख साइकिल यात्रा- अट्ठारहवां दिन- मुलबेक से शम्शा

लद्दाख साइकिल यात्रा- सत्रहवां दिन- फोतूला से मुलबेक

लद्दाख साइकिल यात्रा- सोलहवां दिन- ससपोल से फोतूला

लद्दाख साइकिल यात्रा- पन्द्रहवां दिन- लेह से ससपोल

डायरी के पन्ने- 11

लद्दाख साइकिल यात्रा- चौदहवां दिन- उप्शी से लेह

लद्दाख साइकिल यात्रा- तेरहवां दिन- तंगलंग-ला से उप्शी

लद्दाख साइकिल यात्रा- बारहवां दिन- शो-कार मोड से तंगलंग-ला

शो-कार (Tso Kar) झील

लद्दाख साइकिल यात्रा- ग्यारहवां दिन- पांग से शो-कार मोड

लद्दाख साइकिल यात्रा- दसवां दिन- व्हिस्की नाले से पांग

डायरी के पन्ने- 10

लद्दाख साइकिल यात्रा- नौवां दिन- नकी-ला से व्हिस्की नाला

लद्दाख साइकिल यात्रा- आठवां दिन- सरचू से नकी-ला

लद्दाख साइकिल यात्रा- सातवां दिन- जिंगजिंगबार से सरचू

लद्दाख साइकिल यात्रा- छठा दिन- गेमूर से जिंगजिंगबार

लद्दाख साइकिल यात्रा- पांचवां दिन- गोंदला से गेमूर

लद्दाख साइकिल यात्रा- चौथा दिन- मढी से गोंदला

डायरी के पन्ने- 9

लद्दाख साइकिल यात्रा- तीसरा दिन- गुलाबा से मढी

लद्दाख साइकिल यात्रा- दूसरा दिन- मनाली से गुलाबा

लद्दाख साइकिल यात्रा- पहला दिन- दिल्ली से प्रस्थान

लद्दाख साइकिल यात्रा का आगाज़

डायरी के पन्ने- 8

साइकिल से लद्दाख यात्रा

शिमला कालका रेल यात्रा

डायरी के पन्ने- 7

सराहन में जानलेवा गलती

सराहन से बशल चोटी तथा बाबाजी

सराहन की ओर

पालमपुर का चिडियाघर और दिल्ली वापसी