Skip to main content

दिल्ली चिडियाघर

अभी पिछले दिनों चिडियाघर जाना हुआ। दिल्ली घूमने का जिक्र एक दिन मैंने विपिन से कर दिया। वे तुरन्त राजी हो गये। मैंने अविलम्ब चिडियाघर का प्रस्ताव रखा, जिसे उन्होंने मान लिया। रविवार को जाना तय हुआ। शनिवार को धीरज भी गांव से आ गया था।
मैं पहले भी यहां आ चुका था लेकिन तब कैमरा नहीं था। इसलिये इस बार आने का मुख्य उद्देश्य फोटो खींचना ही था। दोपहर से लेकर शाम अन्धेरा होने तक का समय हमारे पास था।
चालीस रुपये प्रति व्यक्ति टिकट और साथ में मुझे कैमरे का पचास रुपये का टिकट भी लेना पडा। चिडियाघर में खाने की कोई भी वस्तु लाना मना है ताकि दर्शक जानवरों को न खिला दें। सूक्ष्म खान पान के लिये अन्दर इन्तजाम है।
मुझे जाने से पहले कुछ जानकारों ने बताया था कि प्रवेश करने के बाद बायीं तरफ मत जाना बल्कि दाहिनी तरफ जाना। कारण? कि बडे बडे जानवर शेर आदि दाहिनी तरफ ही हैं। अगर बायें जायेंगे तो बन्दरों व हिरणों से ही पाला पडेगा, जब तक शेरों तक आयेंगे तो काफी थक चुके होंगे। चूंकि मैं पहले आ चुका था, इसलिये इस बात की जानकारी मुझे भी थी लेकिन मेरा मकसद शेर वगैरा देखना नहीं था। इसलिये प्रवेश करते ही सभी सलाहों को नजरअन्दाज कर दिया। बायीं तरफ चल पडे।
दिल्ली चिडियाघर की खास बात है कि यहां जानवर खुले में हैं। गिने-चुने जानवर ही पिंजरे में हैं। शेर, तेंदुए सब खुले में विचरते हैं। दर्शकों और जानवरों के बीच में मात्र एक बडी सी पानी की खाई है। खाई का डिजाइन ही जानवरों की हद तय करता है। एक जगह तो एक लंगूर खाई पार करके दर्शक दीर्घा में बैठ गया था। बन्दर प्रजाति के लिये खाई पार करना ज्यादा मुश्किल नहीं है। दीवारों और पेडों की टहनियों के प्रयोग के अलावा थोडा सा अपने दिमाग का इस्तेमाल करके ये जीव ऐसा आसानी से कर सकते हैं।
सर्दी का मौसम होने के कारण गुनगुनी धूप निकली थी। सभी जानवर बाहर निकले थे। मगरमच्छों को ज्यादातर दर्शकों ने नकली सिद्ध कर दिया। यह जीव घण्टों बिना हिले डुले एक ही मुद्रा में पडा रहता है। जो दर्शक आधे घण्टे पहले मगरमच्छ को देखकर गये थे, उन्होंने आधे घण्टे बाद भी उसे उसी मुद्रा में देखकर, पत्थर कंकड मारकर यह सिद्ध कर दिया कि ये मोम आदि के पुतले हैं। प्रशासन ने वहां एक सूचना भी टांग रखी है- मगरमच्छों को पत्थर न मारें, यह जिन्दा है।
शेर, बाघ और तेंदुए सभी के लिये शेर ही थे। धीरज मेरे पास आया और बोला कि वहां चीते का बाडा है। अभी तक शेर, बाघ, सफेद बाघ आदि सब दिख गये थे, लेकिन चीता नहीं दिखा था। मैं तुरन्त उधर लपका। दूर से ही जब ‘चीता’ दिखा तो मैंने धीरज को लताडा- यह चीता दिखता है तुझे? तेन्दुए को चीता कहता है।
हिमालयन काले भालू का बाडा खाली दिखा। निराशा हुई। हिमालय के इस खूंखार जीव को कैद में देखने की बडी तमन्ना थी। भगवान करे यह जीव मुझे कभी खुले में न मिले।
विपिन को शायद कुछ जल्दी थी। अभी दिन छिपने के काफी गुंजाइश थी। जब पूरा चक्कर लगा लिया गया तो मैंने कहा कि चलो, कुछ देर बैठते हैं। विपिन ने तुरन्त मना कर दिया कि अब क्या रह गया देखने को? बाहर निकलकर कुछ खाने की इच्छा जाहिर की तो फिर से मना कर दिया कि तुम्हें खाना हो, तो खा लो, हम नहीं खायेंगे। विपिन अगले ही सप्ताह मेरे साथ ऋषिकेश जाने वाले हैं। डर है कि कहीं वहां भी सुकून और खाने के मामले में विवाद न हो जाये।
कुछ फोटो हैं। इनमें से कुछ जानवरों के नाम मैं भूल गया हूं।












ये एक ही मुद्रा में घण्टों पडे रहते हैं। मुंह खुला है तो घण्टों तक खुला ही रहेगा।

जंगली सूअर




दरियायी घोडा










तेन्दुआ


ईमू


आज रविवार होने के कारण अच्छी भीड थी।





Comments

  1. वाह जी :) पीली टी शर्ट वाला प्राणी जाना पहचाना सा लगा । नाम तो हमें भी मालूम नहीं उसका .............बढिया रही चिडियाघर की सैर :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Sahi baat hai.yeh parani tou poore bharat m vicharta rahta hai..aapko kasmir to kanyakumari kahi bhi mil sakta hai..."Neeraj jee aapki nazaroo se chidiyaghar dekhkar, phir iccha ho gayi chidiyaghar jaane kee....dhanyabaad

      Delete
  2. Prani evam pakshio ka asli nivas to jungle hi hai, photos acche hai

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

पुस्तक-चर्चा: पिघलेगी बर्फ

पुस्तक मेले में घूम रहे थे तो भारतीय ज्ञानपीठ के यहाँ एक कोने में पचास परसेंट वाली किताबों का ढेर लगा था। उनमें ‘पिघलेगी बर्फ’ को इसलिये उठा लिया क्योंकि एक तो यह 75 रुपये की मिल गयी और दूसरे इसका नाम कश्मीर से संबंधित लग रहा था। लेकिन चूँकि यह उपन्यास था, इसलिये सबसे पहले इसे नहीं पढ़ा। पहले यात्रा-वृत्तांत पढ़ता, फिर कभी इसे देखता - ऐसी योजना थी। उन्हीं दिनों दीप्ति ने इसे पढ़ लिया - “नीरज, तुझे भी यह किताब सबसे पहले पढ़नी चाहिये, क्योंकि यह दिखावे का ही उपन्यास है। यात्रा-वृत्तांत ही अधिक है।”  तो जब इसे पढ़ा तो बड़ी देर तक जड़वत हो गया। ये क्या पढ़ लिया मैंने! कबाड़ में हीरा मिल गया! बिना किसी भूमिका और बिना किसी चैप्टर के ही किताब आरंभ हो जाती है। या तो पहला पेज और पहला ही पैराग्राफ - या फिर आख़िरी पेज और आख़िरी पैराग्राफ।

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।