Skip to main content

लद्दाख साइकिल यात्रा- सोलहवां दिन- ससपोल से फोतूला

इस यात्रा वृत्तान्त को शुरू से पढने के लिये यहां क्लिक करें
19 जून 2013
चूंकि नौ बजे ससपोल से चल पडा तो इसका अर्थ है कि साढे सात बजे उठ भी गया होऊंगा। कल लेह में नहाया था, आज तो सवाल ही नहीं। गेस्ट हाउस चूंकि घर ही होते हैं। और यह भी काफी बडा था। खूब ताक-झांक कर ली, कोई नहीं दिखा। आन्तरिक हिस्से में मैं झांका नहीं करता। कुछ देर बाद जब लडकी दिखाई पडी तो पता चला कि उसकी मम्मी लामायुरू गई हैं, वहां कोई पूजा है। घर में लडकी अकेली ही थी। उसने नाश्ते के बारे में पूछा, मैंने तुरन्त हां कर दी। पूछने लगी कि यहीं आपके कमरे में लाऊं या आप अन्दर चलोगे रसोई में। मेरी इच्छा तो थी कि लद्दाखी घर में अन्दर जाऊं लेकिन पापी मन अकेली लडकी की वजह से मना भी कर रहा था। कह दिया कि यहीं ले आओ। वह जैसा तुम चाहो कहकर चली गई। अचानक पुनः प्रकट हुई। बोली नहीं भैया, आप अन्दर ही चलो, कोई परेशानी नहीं है। मुझे काफी सारा सामान उठाकर लाना पडेगा। मैं झट पीछे पीछे हो लिया।
मैं जनवरी में चिलिंग में दो दिनों तक होमस्टे के तौर पर एक लद्दाखी घर में ठहर चुका था। यह भी लगभग उसी की तरह था- मोटे मोटे नरम गद्दे, बैठने को लम्बे चौडे पीढे, चाहो तो उन पर सो जाओ। और सामने बुद्ध भगवान। दीवारों पर रैक बनाकर बर्तन सजाकर रखे थे। और जबरदस्त साफ सफाई।
...
इस यात्रा के अनुभवों पर आधारित मेरी एक किताब प्रकाशित हुई है - ‘पैडल पैडल’। आपको इस यात्रा का संपूर्ण और रोचक वृत्तांत इस किताब में ही पढ़ने को मिलेगा।
आप अमेजन से इसे खरीद सकते हैं।



ससपोल गांव

ससपोल के पास सिन्धु



सिन्धु के साथ साथ राष्ट्रीय राजमार्ग-1


खालसी में एक पुल

खालसी में पुल के ऊपर पुल

खालसी से तीन किलोमीटर आगे वो तिराहा जहां से दाहिने सडक बटालिक जाती है और बायें कारगिल।


सिन्धु छोडकर इस संकरी घाटी में प्रवेश करते हैं।

नदी पार कर रहे हैं ये

यह थी अपनी वेशभूषा। आंखों पर चश्मा होता था और कोई नहीं कह सकता था कि यह भारतीय है या विदेशी।


रास्ते में मिला एक छोटा सा गोम्पा

लामायुरु की ओर


वहीं नीचे से आया हूं अभी। इस चढाई ने जान निकाल दी थी।


लामायुरू से कुछ पहले ‘मूनलैण्ड’ है।

मूनलैण्ड


मूनलैण्ड और मून

यह है मूनलैण्ड का जबरदस्त फोटो



यह चित्र मुझे बडा प्यारा लगता है, किसी स्वप्नलोक की तरह।

लामायुरू में आपका स्वागत है।


लामायुरू में मेला है।



अलविदा लामायुरू! फिर मिलेंगे।

लामायुरू से आगे।



अगला भाग: लद्दाख साइकिल यात्रा- सत्रहवां दिन- फोतूला से मुलबेक

मनाली-लेह-श्रीनगर साइकिल यात्रा
1. साइकिल यात्रा का आगाज
2. लद्दाख साइकिल यात्रा- पहला दिन- दिल्ली से प्रस्थान
3. लद्दाख साइकिल यात्रा- दूसरा दिन- मनाली से गुलाबा
4. लद्दाख साइकिल यात्रा- तीसरा दिन- गुलाबा से मढी
5. लद्दाख साइकिल यात्रा- चौथा दिन- मढी से गोंदला
6. लद्दाख साइकिल यात्रा- पांचवां दिन- गोंदला से गेमूर
7. लद्दाख साइकिल यात्रा- छठा दिन- गेमूर से जिंगजिंगबार
8. लद्दाख साइकिल यात्रा- सातवां दिन- जिंगजिंगबार से सरचू
9. लद्दाख साइकिल यात्रा- आठवां दिन- सरचू से नकी-ला
10. लद्दाख साइकिल यात्रा- नौवां दिन- नकी-ला से व्हिस्की नाला
11. लद्दाख साइकिल यात्रा- दसवां दिन- व्हिस्की नाले से पांग
12. लद्दाख साइकिल यात्रा- ग्यारहवां दिन- पांग से शो-कार मोड
13. शो-कार (Tso Kar) झील
14. लद्दाख साइकिल यात्रा- बारहवां दिन- शो-कार मोड से तंगलंगला
15. लद्दाख साइकिल यात्रा- तेरहवां दिन- तंगलंगला से उप्शी
16. लद्दाख साइकिल यात्रा- चौदहवां दिन- उप्शी से लेह
17. लद्दाख साइकिल यात्रा- पन्द्रहवां दिन- लेह से ससपोल
18. लद्दाख साइकिल यात्रा- सोलहवां दिन- ससपोल से फोतूला
19. लद्दाख साइकिल यात्रा- सत्रहवां दिन- फोतूला से मुलबेक
20. लद्दाख साइकिल यात्रा- अठारहवां दिन- मुलबेक से शम्शा
21. लद्दाख साइकिल यात्रा- उन्नीसवां दिन- शम्शा से मटायन
22. लद्दाख साइकिल यात्रा- बीसवां दिन- मटायन से श्रीनगर
23. लद्दाख साइकिल यात्रा- इक्कीसवां दिन- श्रीनगर से दिल्ली
24. लद्दाख साइकिल यात्रा के तकनीकी पहलू




Comments

  1. बहुत दिनों बाद इस ब्लॉग पर आई हूँ ... एक से एक फोटो ...अभी पढ़ा तो नहीं ही है ...:-P

    ReplyDelete
  2. नीरज जी! नस्कार! आपकी सभी तस्वीर अच्छी लगी, वो सबसे अच्छी तस्वीर जिसमें चारो तरफ पहाड़ और बीच में हरियाली मजा आ गया।

    ReplyDelete
  3. मुझे ऐसी जगहों पर भूत से डर लगता है। रात को सन्नाटे में जहां दूर दूर तक कोई भी न हो, मुझे हर आवाज भूत की लगती है, हर तरफ भूत दिखाई भी देने लगते हैं। दिन में मैं भूतों के खिलाफ बोल सकता हूं। भूत नहीं होते, इस बात को सिद्ध भी कर सकता हूं। लेकिन रात को वो भी ऐसी जगह पर मैं उनके खिलाफ सोच तक नहीं सकता। टैण्ट लगाते ही स्लीपिंग बैग में घुस गया और सुबह होने तक आंख नहीं खोली।
    आज 70 किलोमीटर साइकिल चलाई। bahut badiya or sach swikarne ki himmat par dad

    ReplyDelete
  4. तस्‍वीरें जान डाल दे रही हैं, इस यात्रा में.
    कैमरा कौन सा इस्‍तेमाल कर रहे हैं?

    ReplyDelete
  5. sare hi fotu mst hai ....sabhi swpnlok se dikh rahe hai ....

    ReplyDelete
  6. मूनलैण्ड और मून..
    शानदार ..

    ReplyDelete
  7. देस्सी रजिस्टर कित सै? हा - हा - हा !!!


    नीरज भाई आपने फोतूला के बारे में जो पंक्ति लिखी है - "तू लेह-मनाली रोड पर सबसे ऊंचा दर्रा है"
    इसमें एक छोटी सी टाइपिंग भूल हो गयी लगता है, लेह-श्रीनगर रोड की जगह लेह-मनाली रोड छप गया है।
    -Anilkv

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनिल जी,
      गलती की तरफ ध्यान आकृष्ट कराने के लिये आपका बहुत बहुत धन्यवाद।
      गलती सुधार ली गई है।

      Delete
  8. याञा वणॅन मे फोटो जान डाल देते हे आज का वणॅन हर लिहाज से काबीलेतारीफ हे । सभी रस इस याञा मे मौजुद हे।आज भय रस भी पढने को मिला।

    ReplyDelete
  9. Neeraj, fir bhoot ki koi awaaz aayi kya???

    ReplyDelete
  10. राम राम जी, आपने तो कमाल ही कर दिया हैं. इससे पहले लद्दाख क्षेत्र के इतने सुंदर चित्र नही देखे. अब तो आप एक पुस्तक केवल लद्दाख यात्रा पर लिख डालो. मेरे ख्याल से यह यात्रा आपकी सबसे अच्छी यात्रा हैं. मून वेल्ली के चित्र ग़ज़ब हैं...बहुत बढ़िया, हमे गर्व हैं आप पर....

    ReplyDelete
  11. भूत नहीं होते, इस बात को सिद्ध भी कर सकता हूं..
    ker k dikhaao tho jaane hum..

    ReplyDelete
  12. अद्भुत दृश्य, कितना सुन्दर है देश हमारा

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत तस्वीरे

    प्रणाम

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

जिम कार्बेट की हिंदी किताबें

इन पुस्तकों का परिचय यह है कि इन्हें जिम कार्बेट ने लिखा है। और जिम कार्बेट का परिचय देने की अक्ल मुझमें नहीं। उनकी तारीफ करने में मैं असमर्थ हूँ क्योंकि मुझे लगता है कि उनकी तारीफ करने में कहीं कोई भूल-चूक न हो जाए। जो भी शब्द उनके लिये प्रयुक्त करूंगा, वे अपर्याप्त होंगे। बस, यह समझ लीजिए कि लिखते समय वे आपके सामने अपना कलेजा निकालकर रख देते हैं। आप उनका लेखन नहीं, सीधे हृदय पढ़ते हैं। लेखन में तो भूल-चूक हो जाती है, हृदय में कोई भूल-चूक नहीं हो सकती। आप उनकी किताबें पढ़िए। कोई भी किताब। वे बचपन से ही जंगलों में रहे हैं। आदमी से ज्यादा जानवरों को जानते थे। उनकी भाषा-बोली समझते थे। कोई जानवर या पक्षी बोल रहा है तो क्या कह रहा है, चल रहा है तो क्या कह रहा है; वे सब समझते थे। वे नरभक्षी तेंदुए से आतंकित जंगल में खुले में एक पेड़ के नीचे सो जाते थे, क्योंकि उन्हें पता था कि इस पेड़ पर लंगूर हैं और जब तक लंगूर चुप रहेंगे, इसका अर्थ होगा कि तेंदुआ आसपास कहीं नहीं है। कभी वे जंगल में भैंसों के एक खुले बाड़े में भैंसों के बीच में ही सो जाते, कि अगर नरभक्षी आएगा तो भैंसे अपने-आप जगा देंगी।