Skip to main content

बेलूर और हालेबीडू: मूर्तिकला के महातीर्थ - 2

Travel Guide to Halebeedu Karnataka
होयसलेश्वर मंदिर, हालेबीडू

24 फरवरी 2019
बेलूर से 15-16 किलोमीटर दूर हालेबीडू भी अपने मंदिरों और मूर्तिकला के लिए विख्यात है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और इसका निर्माण सन 1221 में करवाया गया था। मंदिर के बारे में और अपने यात्रा-वृत्तांत के बारे में हम कभी बाद में डिसकस करेंगे, फिलहाल फोटो के माध्यम से यहाँ की यात्रा कीजिए।








All Travel Information About Halebeedu Karnataka
मंदिर के द्वारपाल





Hoyasaleshwara Temple Halebeedu Karnataka

Temple in Halebeedu Karnataka
नवग्रह मंडप की छत पर नवग्रह

Ancient Temple in South India
मंदिर के द्वारपाल... दाँत बाहर निकले हैं... आभूषण और वस्त्र-विन्यास देखने लायक हैं...

South India Temple Tour

South India Temples
द्वारपाल को नजदीक से देखिए...




National MOnuments in South India

Hotels in South India
कीर्तिमुख

Hotels in Karnataka

Hotels in Halebeedu

Bangalore to Halebeedu Journey
एक मिथकीय जीव - यली

Bangalore to Halebeedu Bus
युद्ध का दृश्य

Bangalore to Halebeedu Train
संभवतः यह अर्जुन है... दोनों पैरों के बीच में एक बर्तन रखा है... बर्तन में रखे तेल में देखकर ऊपर टँगी मछली पर निशाना लगाया जा रहा है...

Mysore to Halebeedu Road
‘गजासुर-चर्मधारी’ की इस मूर्ति को गौर से देखिए... भगवान शिव ने राक्षस गजासुर की इच्छानुसार उसकी खाल अपने ऊपर ओढ़ ली है... गजासुर का एक पैर सूँड के पास है... दूसरा पैर नीचे बाएँ कोने में और दो पैर ऊपर के कोनों में हैं... शिवजी, नंदी आदि के चारों ओर एक आवरण है, जो गजासुर की खाल है...

Best Hotel in Halebeedu
‘गजासुर-चर्मधारी’ के ऊपर वाले फोटो को फिर से गौर से देखिए... शिवजी ने अपने बाएँ हाथ से गजासुर की खाल को किस तरह पकड़ रखा है... अंगूठे को खाल के अंदर फँसा रखा है... शिल्पी की कल्पनाशीलता को नमन है...

Lord Krishna Statue in Halebeedu Karnataka
भगवान कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत उठा रखा है और उसके नीचे गायें, ग्वाले शरण लिए हुए हैं...





Halebeedu and Belur Travel Guide


Halebeedu Temple Timing


VIDEO










आगे पढ़ें: बेलूर से कलश बाइक यात्रा और कर्नाटक की सबसे ऊँची चोटी


1. दक्षिण भारत यात्रा के बारे में
2. गोवा से बादामी की बाइक यात्रा
3. दक्षिण भारत यात्रा: बादामी भ्रमण
4. दक्षिण भारत यात्रा: पट्टडकल - विश्व विरासत स्थल
5. क्या आपने हम्पी देखा है?
6. दारोजी भालू सेंचुरी में काले भालू के दर्शन
7. गंडीकोटा: भारत का ग्रांड कैन्योन
8. लेपाक्षी मंदिर
9. बंगलौर से बेलूर और श्रवणबेलगोला
10. बेलूर और हालेबीडू: मूर्तिकला के महातीर्थ - 1
11. बेलूर और हालेबीडू: मूर्तिकला के महातीर्थ - 2
12. बेलूर से कलश बाइक यात्रा और कर्नाटक की सबसे ऊँची चोटी मुल्लायनगिरी
13. कुद्रेमुख, श्रंगेरी और अगुंबे
14. सैंट मैरी आइलैंड की रहस्यमयी चट्टानें
15. कूर्ग में एक दिन
16. मैसूर पैलेस: जो न जाए, पछताए
17. प्राचीन मंदिरों के शहर: तालाकाडु और सोमनाथपुरा
18. दक्षिण के जंगलों में बाइक यात्रा
19. तमिलनाडु से दिल्ली वाया छत्तीसगढ़



Comments

Popular posts from this blog

मेरी कुछ प्रमुख ऊँचाईयाँ

बहुत दिनों से इच्छा थी एक लिस्ट बनाने की कि मैं हिमालय में कितनी ऊँचाई तक कितनी बार गया हूँ। वैसे तो इस लिस्ट को जितना चाहे उतना बढ़ा सकते हैं, एक-एक गाँव को एक-एक स्थान को इसमें जोड़ा जा सकता है, लेकिन मैंने इसमें केवल चुनिंदा स्थान ही जोड़े हैं; जैसे कि दर्रे, झील, मंदिर और कुछ अन्य प्रमुख स्थान। 

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।