Skip to main content

दारोजी भालू सेंचुरी में काले भालू के दर्शन


Daroji Bear Sanctuary Karnataka

15 फरवरी 2019
उस दिन जब हम विट्ठल मंदिर से पैदल हम्पी लौट रहे थे, तो अंधेरा हो गया। हम तुंगभद्रा के किनारे-किनारे धीरे-धीरे चलते आ रहे थे। एक विदेशी महिला अपने दो बच्चों के साथ हम्पी से विट्ठल मंदिर की ओर जा रही थी। रास्ते में एक सिक्योरिटी गार्ड ने उन्हें टोका - “मैडम, गो बैक टू हम्पी। नॉट एलाऊड हियर आफ्टर दा इवनिंग। बीयर एंड चीता कम्स हीयर।”
मेरे कान खड़े हो गए। चीते को तो मैंने सिरे से नकार दिया, क्योंकि भारत में चिड़ियाघरों के अलावा चीता है ही नहीं। हाँ, तेंदुआ हर जगह होता है। और बीयर?
“क्या यहाँ भालू हैं?” मैंने पूछा।
“हाँ जी, पास में बीयर सेंचुरी है, तो यहाँ तक भालू आ जाते हैं केले खाने।”

और अगले ही दिन हम उस भालू सेंचुरी के गेट पर थे। दोपहर का डेढ़ बजा था। पता चला कि दो बजे के बाद ही एंट्री कर सकते हैं। तो दो बजे के बाद हमने एंट्री कर ली। प्रति व्यक्ति शुल्क है 25 रुपये और बाइक का कोई शुल्क नहीं। कार के 500 रुपये। चार किलोमीटर अंदर जंगल में जाने के बाद एक वाच टावर है। वहाँ बैठ जाना है और भालू के दिखने की प्रतीक्षा करनी है।







तीन बजे भालू देखने कुछ लड़के आए। तीन बजकर दस मिनट तक भी उन्हें जब भालू नहीं दिखा, तो वे निराश होकर वापस चले गए। अब ये लोग गूगल मैप आदि पर इस जगह को 1-स्टार देंगे। यहाँ छह बजे तक बैठ सकते थे। हम छह बजे तक बैठने का इरादा लेकर ही आए थे। अभी तीन बजे तेज धूप थी और हमारे अलावा यहाँ कोई भी यात्री नहीं था। एक बेंच पर मैं लेट गया - “मैं सो रहा हूँ। भालू दिखे, तो बता देना।”

अभी अच्छी तरह आँख लगी भी नहीं थी कि दीप्ति की घबराई आवाज से उठना पड़ा।
“क्या हुआ?”
“बंदर।”
एक मरियल-सा बंदर मुंडेर पर बैठा था। हम चुप बैठे रहे। वह और पास आया। शरीफ था। तभी तो मेरे घुड़की देते ही चला गया।

यहाँ दो से छह बजे तक वन विभाग का एक कर्मचारी भी बैठा रहता है। उसने बताया कि वे लोग रोज दोपहर दो बजे भालुओं को फीडिंग कराते हैं। गुड़ में पाम ऑयल मिलाकर शहद जैसा बनाकर कुछ पत्थरों और चट्टानों पर डालकर आ जाते हैं। इससे भालुओं का हाजमा ठीक रहता है। असल में यह स्थान एक सूखा स्थान है। बारिश कम होती है। वन विभाग के कर्मचारी बोरवेल से कुछ जगहों पर पानी भरते हैं, ताकि जानवरों को पानी की तलाश में भटकना न पड़े।

यहाँ 100 से भी ज्यादा भालू हैं, लेकिन ज्यादातर भालू इस सेंचुरी से बाहर निकलकर आबादी क्षेत्र में चले जाते हैं और वहाँ केले खाते हैं। भालू अक्सर मनुष्य को नुकसान नहीं पहुँचाते, लेकिन ये काले भालू हैं जो दुनिया के सबसे खतरनाक जानवरों में से एक होते हैं। ये शाकाहारी होते हैं, लेकिन कई बार एक्सीडेंटली इनका मनुष्य से आमना-सामना हो जाता है और घायल मनुष्य को होना पड़ता है।

और शहद चाटने भालू नहीं आएगा, तो कौन आएगा? सामने एक-एक करके तीन भालू आए और छह बजे तक उस चट्टान पर शहद ही चाटते रहे। इनकी देखादेखी बंदर भी जा पहुँचे और नेवले भी और मोर भी और बटेर भी और अन्य पक्षी भी।

कुल मिलाकर भालू सेंचुरी में जाना वसूल हो गया।


Birdwatching in Karnataka

Nightingale Sighting in Karnataka

How to go Daroji Bear Sanctuary

Webler Sighting in Karnataka

Daroji Sanctuary Entry Fees





Hampi to Daroji Bear Sanctuary
वाच टावर

Watchtower in Daroji Bear Sanctuary

Bears in Daroji Bear Sanctuary

Bear Counting in Daroji Bear Sanctuary

Best Time for Daroji Bear Sanctuary

Daroji Bear Sanctuary Bus Timing

Animals in Daroji Bear Sanctuary

Safari Charge in Daroji Bear Sanctuary

Hotels in Daroji Bear Sanctuary

Bangalore to Daroji Bear Sanctuary Distance

Guide Charge for Daroji Bear Sanctuary
सेंचुरी के बाहर मिर्च की खेती

Sunset View in Daroji Bear Sanctuary


VIDEO












आगे पढ़िए: गंडीकोटा: भारत का ग्रैंड कैन्योन



1. दक्षिण भारत यात्रा के बारे में
2. गोवा से बादामी की बाइक यात्रा
3. दक्षिण भारत यात्रा: बादामी भ्रमण
4. दक्षिण भारत यात्रा: पट्टडकल - विश्व विरासत स्थल
5. क्या आपने हम्पी देखा है?
6. दारोजी भालू सेंचुरी में काले भालू के दर्शन
7. गंडीकोटा: भारत का ग्रांड कैन्योन
8. लेपाक्षी मंदिर
9. बंगलौर से बेलूर और श्रवणबेलगोला
10. बेलूर और हालेबीडू: मूर्तिकला के महातीर्थ - 1
11. बेलूर और हालेबीडू: मूर्तिकला के महातीर्थ - 2
12. बेलूर से कलश बाइक यात्रा और कर्नाटक की सबसे ऊँची चोटी मुल्लायनगिरी
13. कुद्रेमुख, श्रंगेरी और अगुंबे
14. सैंट मैरी आइलैंड की रहस्यमयी चट्टानें
15. कूर्ग में एक दिन
16. मैसूर पैलेस: जो न जाए, पछताए
17. प्राचीन मंदिरों के शहर: तालाकाडु और सोमनाथपुरा
18. दक्षिण के जंगलों में बाइक यात्रा
19. तमिलनाडु से दिल्ली वाया छत्तीसगढ़



Comments

  1. ज़ोरदार, क्या बात है, मान गये।

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

पुस्तक-चर्चा: पिघलेगी बर्फ

पुस्तक मेले में घूम रहे थे तो भारतीय ज्ञानपीठ के यहाँ एक कोने में पचास परसेंट वाली किताबों का ढेर लगा था। उनमें ‘पिघलेगी बर्फ’ को इसलिये उठा लिया क्योंकि एक तो यह 75 रुपये की मिल गयी और दूसरे इसका नाम कश्मीर से संबंधित लग रहा था। लेकिन चूँकि यह उपन्यास था, इसलिये सबसे पहले इसे नहीं पढ़ा। पहले यात्रा-वृत्तांत पढ़ता, फिर कभी इसे देखता - ऐसी योजना थी। उन्हीं दिनों दीप्ति ने इसे पढ़ लिया - “नीरज, तुझे भी यह किताब सबसे पहले पढ़नी चाहिये, क्योंकि यह दिखावे का ही उपन्यास है। यात्रा-वृत्तांत ही अधिक है।”  तो जब इसे पढ़ा तो बड़ी देर तक जड़वत हो गया। ये क्या पढ़ लिया मैंने! कबाड़ में हीरा मिल गया! बिना किसी भूमिका और बिना किसी चैप्टर के ही किताब आरंभ हो जाती है। या तो पहला पेज और पहला ही पैराग्राफ - या फिर आख़िरी पेज और आख़िरी पैराग्राफ।

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।