Skip to main content

श्रीवर्धन बीच और हरिहरेश्वर बीच

20 सितंबर 2018
हमें नहीं पता था कि श्रीवर्धन इतना बड़ा है। कल हम जब यहाँ आए थे तो अंधेरा हो चुका था और गूगल मैप बता रहा था कि बस, इससे आगे कोई सड़क नहीं है। एक चौराहे पर खड़े होकर चारों ओर देखा, कोई नहीं दिखाई दिया। क्या यही है श्रीवर्धन? प्रतीक ने बताया था कि यहाँ होटल मिल जाएँगे। कहाँ हैं होटल? चलो, एक बार समुद्र की ओर चलकर देखते हैं।
तो 600 रुपये का यह कमरा मिल गया। कमरा भी तब मिला, जब हमारे आवाज लगाने पर मालिक अपने घर से बाहर निकला - “आधा घंटा रुकिए, मैं सफाई कर देता हूँ।”
“और इन मच्छरों का क्या करें? क्या ये भी आधा घंटा रुक जाएँगे? आप एक काम कीजिए, कमरा जैसा भी है, वैसा ही दे दीजिए। हमें कोई दिक्कत नहीं होगी।”
“नहीं जी, ऐसा कैसे हो सकता है? बस, थोड़ा-सा टाइम दो मुझे।’’
“सामान तो रख लेने दो। आप सफाई करते रहना।”
इसी दौरान मुझे समय मिल गया कमरे के अंदर घुसने का। ऐसा लगता था जैसे कोई अभी-अभी कमरा खाली करके गया हो। बिस्तर पर सिलवटें पड़ी हुई थीं, बस।
लेकिन आधे घंटे बाद ऐसा लग रहा था जैसे कमरा अभी-अभी बनाकर रेडी किया है और हम पहले ही कस्टमर हैं। एकदम नई-नकोर चादरें और सेंट की खुशबू से कमरा मालामाल था। कुछ अगरबत्तियाँ भी थीं और एक माचिस भी। बाहर मच्छर थे, कमरे में एक भी मच्छर नहीं था।







तो ऐसा था श्रीवर्धन। शाम को ही बीच पर टहलने चले गए। कुछ लोग और भी थे और एक फलूदे वाला भी था। फलूदा खा लिया, बीच देख लिया और मच्छरों से परेशान भी हुए। लेकिन एक बात समझ में आ गई - यह बीच दिन में भी आने लायक है।

तो आज तड़के-तड़क दस बजे उठते ही सबसे पहले यही काम किया। बीच की तरफ टहलने निकल गए। न कोई यात्री था, न फलूदे वाला और न ही मच्छर। बीच पर केवल हमीं थे। बीच के समांतर सवा किलोमीटर लंबा पक्का चबूतरा बना है, जिस पर आप चहलकदमी भी कर सकते हैं और आराम से बैठ भी सकते हैं। हमने भी कुछ देर चहलकदमी की, लेकिन बोर हो गए। फिर कुछ देर बैठे भी, लेकिन फिर से बोर हो गए। और दो बार बोर होने का एक ही अर्थ है - अब निकल लो यहाँ से।

सारा सामान बाँधकर और होटल वाले को 700 रुपये का पेमेंट करके हम निकल लिए। 700 किस बात के? 600 का कमरा था और रात 100 रुपये का हम दोनों ने भरपेट भोजन किया था। निकलकर एक किलोमीटर भी नहीं गए कि भीड़-भरा एक बाजार प्रकट हो गया।

तू कहाँ था भाई? कल तो सन्नाटा पड़ा था।

एक व्यस्त बाजार में जो होता है, वो सब यहाँ था। लाल रंग की रोडवेज बसें भी और वडापाव भी। कढ़ाई में वडापाव उतरते देखते ही हम दोनों की जीभ लपलपा उठी और वडापाव के साथ चाय भी मांग ली। जवाब मिला - “हम केवल वडापाव के स्पेशलिस्ट हैं। हम चाय नहीं बनाते।”
और कसम से, वो वाकई वडापाव का स्पेशलिस्ट था। आज तक ऐसा वडापाव हमने नहीं खाया था। दोनों ने चालीस रुपये के चार वडापाव उदरस्थ कर दिए।

यहीं से हरिहरेश्वर का रास्ता भी पता चल गया - “पूरे 20 किलोमीटर... सीधे ही चलते जाओ... कहीं भी नहीं मुड़ना।”
“लेकिन हरिहरेश्वर तो यहाँ से दक्षिण में 5 किलोमीटर दूर है। और आप सीधे पूरब में 20 किलोमीटर जाने को कह रहे हो?”
“हाँ, है नजदीक ही। लेकिन सड़क यही है।”

यह बड़ी चमत्कारी सड़क है। सड़क तो उल्टे ‘C’ के आकार में है, लेकिन है सीधी। इसमें से दिवेआगर की सड़क अलग होती है, म्हसला की सड़क अलग होती है, और भी दो-तीन सड़कें अलग होती हैं, लेकिन यह इतनी होशियार है कि आपको बिना किसी कन्फ्यूजन के हरिहरेश्वर पहुँचा देगी।

तो हम भी कुछ देर में हरिहरेश्वर बीच पर थे और मजा आ गया। पेड़ों की छाँव और कंक्रीट की बनी बेंचें। हमें देखते ही एक बग्गीवाले ने अपना घोड़ा खोला और बग्गी में जोतकर बीच पर उसे भगाने लगा। बार-बार हमें देखने के बाद जब उसे पक्का भरोसा हो गया कि हमें बग्गी का कोई लालच नहीं हो रहा है, तो घोड़े को उसकी जगह बांध दिया और अपने तिरपाल में जाकर सो गया। और बेंच पर लेटे-लेट एक नींद मैंने भी ले ली। तेज धूप थी, लहरों की आवाज थी और शीतल हवा थी।
कसम से, मुझे तो हरिहरेश्वर बड़ा पसंद आया। अगर प्रतीक हमें इधर न भेजता तो हम कभी न आते। धन्यवाद प्रतीक भाई...

अब हमें जाना था महाबलेश्वर। महाबलेश्वर पश्चिमी घाट की पहाड़ियों में स्थित है और यहाँ से लगभग 140 किलोमीटर दूर है। अगर सीधे गोवा की ओर जाना होता, तो हम यहीं कहीं से सावित्री नदी नाव के द्वारा पार करके तट के साथ-साथ चलते रहते, लेकिन महाबलेश्वर जाने के कारण समुद्र से दूर होते गए और हमें रास्ता बताती गई सावित्री नदी।
इधर मानव आबादी बहुत कम है। लेकिन घास के बड़े-बड़े मैदान हैं। ऊँची-ऊँची घास के मैदान। हरिहरेश्वर से जब सावित्री के साथ-साथ महाड़ की ओर बढ़ते हैं, तो शुरू में दूर-दूर तक ये मैदान ही मिलते हैं। इनके बाद पहाड़ी भू-भाग मिलता है। लेकिन घास के इन मैदानों में पतली-सी सड़क पर मोटरसाइकिल चलाने का जो आनंद था, वो आगे पहाड़ों में भी नहीं मिला। मुझे वाकई अभी भी इस क्षेत्र के बारे में कोई जानकारी नहीं है, अन्यथा बहुत कुछ लिखता।
इस मैदान में अचानक ही कोई तिराहा प्रकट हो जाता, चौराहा प्रकट हो जाता, कहीं पर ग्रामीण खड़े बस की प्रतीक्षा कर रहे होते, कहीं गाँव दिखते, कहीं गाँव नहीं दिखते... और तभी महाराष्ट्र परिवहन की लाल रंग की बस सामने से आती दिखाई पड़ती, जिस पर गंतव्य का नाम लिखा होता, जो नाम मैंने पहले कभी नहीं सुना था।


श्रीवर्धन बीच



श्रीवर्धन बीच







श्रीवर्धन में स्पेशलिस्ट वाला वडापाव

श्रीवर्धन से हरिहरेश्वर जाती सड़क

हरिहरेश्वर बीच...








हरिहरेश्वर बीच...


हरिहरेश्वर से महाड़ जाने वाली सड़क...





सावित्री नदी के किनारे...

सावित्री नदी
















1. चलो कोंकण: दिल्ली से इंदौर
2. चलो कोंकण: इंदौर से नासिक
3. त्रयंबकेश्वर यात्रा और नासिक से मुंबई
4. मालशेज घाट - पश्चिमी घाट की असली खूबसूरती
5. भीमाशंकर: मंजिल नहीं, रास्ता है खूबसूरत
6. भीमाशंकर से माणगाँव
7. जंजीरा किले के आसपास की खूबसूरती
8. दिवेआगर बीच: खूबसूरत, लेकिन गुमनाम
9. कोंकण में एक गुमनाम बीच पर अलौकिक सूर्यास्त
10. श्रीवर्धन बीच और हरिहरेश्वर बीच
11. महाबलेश्वर यात्रा
12. कास पठार... महाराष्ट्र में ‘फूलों की घाटी’
13. सतारा से गोवा का सफर वाया रत्‍नागिरी
14. गोवा में दो दिन - ओल्ड गोवा और कलंगूट, बागा बीच
15. गोवा में दो दिन - जंगल और पहाड़ों वाला गोवा
16. गोवा में दो दिन - पलोलम बीच




Comments

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

पुस्तक-चर्चा: पिघलेगी बर्फ

पुस्तक मेले में घूम रहे थे तो भारतीय ज्ञानपीठ के यहाँ एक कोने में पचास परसेंट वाली किताबों का ढेर लगा था। उनमें ‘पिघलेगी बर्फ’ को इसलिये उठा लिया क्योंकि एक तो यह 75 रुपये की मिल गयी और दूसरे इसका नाम कश्मीर से संबंधित लग रहा था। लेकिन चूँकि यह उपन्यास था, इसलिये सबसे पहले इसे नहीं पढ़ा। पहले यात्रा-वृत्तांत पढ़ता, फिर कभी इसे देखता - ऐसी योजना थी। उन्हीं दिनों दीप्ति ने इसे पढ़ लिया - “नीरज, तुझे भी यह किताब सबसे पहले पढ़नी चाहिये, क्योंकि यह दिखावे का ही उपन्यास है। यात्रा-वृत्तांत ही अधिक है।”  तो जब इसे पढ़ा तो बड़ी देर तक जड़वत हो गया। ये क्या पढ़ लिया मैंने! कबाड़ में हीरा मिल गया! बिना किसी भूमिका और बिना किसी चैप्टर के ही किताब आरंभ हो जाती है। या तो पहला पेज और पहला ही पैराग्राफ - या फिर आख़िरी पेज और आख़िरी पैराग्राफ।

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।