Skip to main content

कोंकण में एक गुमनाम बीच पर अलौकिक सूर्यास्त

Best Beach in Maharashtra
19 सितंबर 2018
मुंबई से गोवा जाने के यूँ तो बहुत सारे रास्ते हैं। सबसे तेज रास्ता है पुणे होकर, जिसमें लगभग सारा रास्ता छह लेन, फोर लेन है। दूसरा रास्ता है मुंबई-गोवा हाइवे, जो कोंकण के बीचोंबीच से होकर गुजरता है, खासकर रेलवे लाइन के साथ-साथ। और तीसरा रास्ता यह हो सकता है, जो एकदम समुद्र तट के साथ-साथ चलता है। यह तीसरा रास्ता कोई हाइवे नहीं है, केवल मान-भर रखा है कि अगर समुद्र के साथ-साथ चलते रहें तो गोवा पहुँच ही जाएँगे। यह आइडिया भी हमें उस दिन प्रतीक ने ही दिया था। उसी ने बताया था कि इस रास्ते पर मुंबई से गोवा के बीच पाँच स्थानों पर नाव से क्रीक पार करनी पड़ेगी। अन्यथा लंबा चक्कर काटकर आओ। उसी ने बताया था दिवेआगर बीच के बारे में और शेखाड़ी होते हुए श्रीवर्धन जाने के बारे में भी।

शेखाड़ी बड़ी ही शानदार लोकेशन पर स्थित है। लेकिन इस शानदार गाँव के बारे में एक नकारात्मक खबर भी है। मुंबई ब्लास्ट में प्रयुक्त हुए हथियार और विस्फोटक समुद्री मार्ग से यहीं पर लाए गए थे और उन्हें ट्रकों में भरकर मुंबई पहुँचाया गया था। खबर यह रही

लेकिन जैसे ही शेखाड़ी पार किया, हम किंकर्तव्यविमूढ़ हो गए कि रुकें या न रुकें। क्योंकि हम सूर्यास्त से पहले श्रीवर्धन पहुँचना चाहते थे और वहीं से सूर्यास्त देखना चाहते थे। लेकिन यहाँ हमें रुकना पड़ा। समुद्र के अंदर से पहाड़ियाँ निकलती हैं - एकदम नहाई-धोई-सी। नीला समुद्र और हरी-भरी पहाड़ियाँ। और इन दोनों के ठीक बीच से निकलती सड़क। दाहिनी तरफ समुद्र और बाईं तरफ पहाड़ियाँ।
हम रुके; दो-चार फोटो खींचे; सड़क के किनारे ट्राइपॉड लगाए एक फोटोग्राफर को देखा; बरगद का अकेला पेड़ देखा; श्रीवर्धन को याद किया और आगे बढ़ चले।






लेकिन सौ मीटर बाद मोटरसाइकिल ने आगे चलने से मना कर दिया। खुद ही सड़क किनारे समुद्र की ओर मुँह करके खड़ी हो गई।
“अरी क्या हो गया?” मैंने मोटरसाइकिल से पूछा।
“मुझे यहाँ से सनसेट देखना है।”
“श्रीवर्धन से देखेंगे। वहाँ से और अच्छा दिखेगा।”
“मेरे कू यहीं से देखना है। और इसी पोजीशन में खड़े होकर सनसेट के साथ फोटो भी खिंचवाना है।”
“अभी तो दो घंटे बाकी हैं सनसेट में।”
“इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। कह दिया, तो कह दिया... खूँटा यहीं गड़ेगा।”

अब मेरे और दीप्ति के पास सनसेट तक यहाँ रुकने के अलावा कोई और चारा नहीं था। साढ़े चार ही बजे थे। दो घंटे बाद सूरज छिपेगा। दस मिनट, पंद्रह मिनट, आधे घंटे तक हम फूलों के, पत्तों के, पत्थरों के और हर उस सड़ी-गली व तरोताजा चीज के फोटो लेने लगे, जो वहाँ थी। फिर बोर होकर बैठ गए। सड़क पर कोई आवाजाही नहीं। वो फोटोग्राफर अभी भी उसी तरह ट्राइपॉड लगाए था। उधर भी कोई हलचल नहीं। कहीं कुछ भी नहीं। घड़ी में बार-बार समय देखना शुरू किया तो समय ही रुक गया। कहीं कुछ भी नहीं हो रहा था।

बैग की चैन खोलकर कहीं गहरे में दबे चने निकाले और बैठकर खाने लगे। दो सेकंड के लिए आँखें बंद हुईं और चमत्कार हो गया। अचानक सबकुछ बदल गया। सबकुछ संगीतमय लगने लगा। पत्थरों से टकराती लहरें... पहाड़ी से टकराती हवा... सन्नाटा... एक संगीत-सा पैदा होने लगा। सूरज जो अभी तक स्थिर दिख रहा था, धीरे-धीरे क्षितिज में जाता दिखने लगा। पक्षी उड़ते दिखने लगे। और वहाँ दूर - बहुत दूर मछुआरों की एक नाव भी आती दिखने लगी।

तभी अचानक...
दीप्ति खुशी से उछल पड़ी।
“डॉल्फिन।”
क्या सच!
हाँ...
अरे हाँ, डॉल्फिनों का समूह है।
अब मैं लिखने में असमर्थ हूँ। अब मुझसे नहीं लिखा जाएगा।

फिर कब चने समाप्त हुए, कब सूर्यास्त हुआ, कब डॉल्फिनें सौ मीटर से पचास मीटर नजदीक तक आईं... हमें कुछ नहीं पता। फोटो खींचने का मन नहीं था, इसलिए कैमरे को आधे घंटे के लिए टाइमलैप्स पर लगा दिया और एक तरफ रख दिया।

हमें होश तब आया, जब मोटरसाइकिल का मुँह हमारी तरफ हुआ और उसने कहा - “अब चलो।”


Konkan Tour, Maharashtra Beaches, Best Beach in Maharashtra


Shekhadi Beach in Maharashtra








Coastal Road in Maharashtra




डॉल्फिन















Best Sunset Beach in Maharashtra

















1. चलो कोंकण: दिल्ली से इंदौर
2. चलो कोंकण: इंदौर से नासिक
3. त्रयंबकेश्वर यात्रा और नासिक से मुंबई
4. मालशेज घाट - पश्चिमी घाट की असली खूबसूरती
5. भीमाशंकर: मंजिल नहीं, रास्ता है खूबसूरत
6. भीमाशंकर से माणगाँव
7. जंजीरा किले के आसपास की खूबसूरती
8. दिवेआगर बीच: खूबसूरत, लेकिन गुमनाम
9. कोंकण में एक गुमनाम बीच पर अलौकिक सूर्यास्त
10. श्रीवर्धन बीच और हरिहरेश्वर बीच
11. महाबलेश्वर यात्रा
12. कास पठार... महाराष्ट्र में ‘फूलों की घाटी’
13. सतारा से गोवा का सफर वाया रत्‍नागिरी
14. गोवा में दो दिन - ओल्ड गोवा और कलंगूट, बागा बीच
15. गोवा में दो दिन - जंगल और पहाड़ों वाला गोवा
16. गोवा में दो दिन - पलोलम बीच




Comments

  1. वाह नीरज भाई , मस्त नजारे , मस्त लेखन। मजा आ गया।

    ReplyDelete
  2. छोटे छोटे लेख...बहुत से खूबसूरत फ़ोटो...
    अंदाज़ कुछ बदता सा है...
    खैर जो तुम चाहोगे वहीं पढ़ेंगे..
    हमारे चाहने या न चाहने से क्या होता है।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर नीरज जी!!!!!!!‌

    ReplyDelete
  4. Luring view especially your writing ,the way you express your thoughts are just amazing !!!!

    ReplyDelete
  5. एकदम्मै लाजवाब फोटो ! :)

    ReplyDelete
  6. फोटो बहुत अच्छे है, जितनी तारीफ करे कम हैं

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

पुस्तक-चर्चा: पिघलेगी बर्फ

पुस्तक मेले में घूम रहे थे तो भारतीय ज्ञानपीठ के यहाँ एक कोने में पचास परसेंट वाली किताबों का ढेर लगा था। उनमें ‘पिघलेगी बर्फ’ को इसलिये उठा लिया क्योंकि एक तो यह 75 रुपये की मिल गयी और दूसरे इसका नाम कश्मीर से संबंधित लग रहा था। लेकिन चूँकि यह उपन्यास था, इसलिये सबसे पहले इसे नहीं पढ़ा। पहले यात्रा-वृत्तांत पढ़ता, फिर कभी इसे देखता - ऐसी योजना थी। उन्हीं दिनों दीप्ति ने इसे पढ़ लिया - “नीरज, तुझे भी यह किताब सबसे पहले पढ़नी चाहिये, क्योंकि यह दिखावे का ही उपन्यास है। यात्रा-वृत्तांत ही अधिक है।”  तो जब इसे पढ़ा तो बड़ी देर तक जड़वत हो गया। ये क्या पढ़ लिया मैंने! कबाड़ में हीरा मिल गया! बिना किसी भूमिका और बिना किसी चैप्टर के ही किताब आरंभ हो जाती है। या तो पहला पेज और पहला ही पैराग्राफ - या फिर आख़िरी पेज और आख़िरी पैराग्राफ।

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।