Wednesday, February 25, 2015

इण्डिया ब्रिज, कच्छ

इस यात्रा वृत्तान्त को आरम्भ से पढने के लिये यहां क्लिक करें
इण्डियाब्रिज काला डोंगर से लगभग 20 किलोमीटर दूर है। उनकी बुलेट में पेट्रोल कम था। पेट्रोल पम्प खावडा में था जोकि इण्डियाब्रिज के विपरीत दिशा में है। तय हुआ कि अगर रास्ते में पेट्रोल समाप्त हो गया तो वे मेरी बाइक से निकालेंगे। मैं राजी था। हालांकि इसकी आवश्यकता नहीं पडी।
आप कच्छ का नक्शा देखेंगे तो इसकी पूरी उत्तरी सीमा पाकिस्तान से मिलती है। लेकिन सीमा के इस तरफ एक बहुत बडा प्राकृतिक अवरोध भी है। यह है कच्छ का विशाल रन जहां साल में ज्यादातर समय पानी भरा रहता है या दलदल रहता है। इसी में एक उपयुक्त स्थान पर सडक भी निकाली गई है जो बिल्कुल सीमा तक जाती है। यह वही सडक है। यह भुज से वीघाकोट को जोडती है। वीघाकोट सीमावर्ती चौकी है। लेकिन आम नागरिकों के लिये सीमा तक जाना सरल नहीं होता। उससे कुछ ही पहले तक बेरोकटोक जाया जा सकता है, फिर आगे जाने के लिये परमिट लेना होता है।

यह इण्डियाब्रिज रन के ऊपर बना हुआ पुल है जिसे कंवरबेट भी कहते हैं। यहां से आगे जाने के लिये आपको परमिट की आवश्यकता पडेगी। परमिट भुज से बनता है बीएसएफ के कमांडेंट से। हमने परमिट नहीं बनवाया था, इसलिये सीमा तक नहीं जा सकते थे लेकिन इण्डियाब्रिज तक तो जा ही सकते थे। वही हमने किया।
पुल के इस तरफ एक चौकी है। सन्तरी ने कहा कि पुल पार कर सकते हो लेकिन पुल पर रुकने और फोटो खींचने की मनाही है। हम धीरे धीरे पुल पार कर गये। उधर भी एक चौकी है जहां बीएसएफ, सेना और इंटेलीजेंस हैं। एक तरफ बाइक खडी कर दी और सन्तरी से बातचीत करने लगे। संयोग से सन्तरी बागपत का निकला। आपको कहीं भी बागपत का कोई सैनिक मिले तो समझ जाना कि वो जाट होगा। दो जाट मिले, अडोसी-पडोसी मिले तो बढिया बातचीत हुई। कहने लगा कि भाई, तुम इतनी दूर से आये हो और बॉर्डर नहीं जा सकोगे, इसका मुझे दुख है। अगली बार आओ तो भुज से परमिट बनवाकर आना। बॉर्डर यहां से लगभग 80 किलोमीटर है। पूरा रास्ता बिल्कुल वीरान है, न कोई गांव है, न कोई दुकान।
पुल पर फोटो खींचने की मनाही थी लेकिन कुछ दूर जाकर तो खींच ही सकते थे। पुल से करीब दो तीन किलोमीटर भुज की तरफ चलने पर एक मोड है। चारों तरफ खुला रन है। उस मोड से यह पुल ठीक सामने दिखता है। हम यहीं रुक गये। खूब फोटो खींचे। इस दौरान सेना की गाडियां भी आईं-गईं, सैनिकों ने दिल्ली और एमपी नम्बर देखकर जयहिन्द भी कहा।
ग्यारह बजे खावडा पहुंच गये। भूख लग ही रही थी। दबाकर दाबेली खाईं। दाबेली एक कच्छी चीज है। यह सैंडविच ही होती है लेकिन इसमें प्याज टमाटर भरने की बजाय कुछ और भरते हैं। बडी स्वादिष्ट होती है। खावडा में पेट्रोल पम्प भी है जहां हमने टंकी फुल कराई। 7.24 लीटर तेल आया, इस दौरान 431 किलोमीटर चली। औसत 59.5 किलोमीटर प्रति लीटर का आया।

इण्डियाब्रिज को जाती सडक



दूर से दिखता पुल- इण्डिया ब्रिज








खावडा


दाबेली






इण्डिया ब्रिज की स्थिति दर्शाता मानचित्र।

(नोट: निरन्तरता बनाये रखने के लिये कभी-कभी छोटी पोस्ट भी लिखनी पडती है।)

अगले भाग में जारी...



कच्छ मोटरसाइकिल यात्रा
1. कच्छ नहीं देखा तो कुछ नहीं देखा
2. कच्छ यात्रा- जयपुर से अहमदाबाद
3. कच्छ की ओर- अहमदाबाद से भुज
4. भुज शहर के दर्शनीय स्थल
5. सफेद रन
6. काला डोंगर
7. इण्डिया ब्रिज, कच्छ
8. फॉसिल पार्क, कच्छ
9. थान मठ, कच्छ
10. लखपत में सूर्यास्त और गुरुद्वारा
11. लखपत-2
12. कोटेश्वर महादेव और नारायण सरोवर
13. पिंगलेश्वर महादेव और समुद्र तट
14. माण्डवी बीच पर सूर्यास्त
15. धोलावीरा- सिन्धु घाटी सभ्यता का एक नगर
16. धोलावीरा-2
17. कच्छ से दिल्ली वापस
18. कच्छ यात्रा का कुल खर्च

16 comments:

  1. दाबेली की फोटो देख कर मुह में पानी आ गया
    ये अपने बहुत अच्छा काम किया नीरज जी
    खाने की फोटो लगाना शुरू करने से आपके ब्लॉग में घूमने वाली जगह की खुशबू तो थी ही अब स्वाद भी आ गया :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद पाण्डेय जी...

      Delete
  2. सही कहा नीरज भाई
    ब्लॉग पर निरंतरता भी बनी रहनी चाहिये.!
    वैसे बागपत के सन्तरी का एक फोटो तो लाजिमी था..

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरुण भाई, बताया तो था कि पुल पर फोटो नहीं ले सकते, इसलिये उस सन्तरी का भी फोटो नहीं लिया।

      Delete
  3. लेकिन इसमें प्याज टमाटर भरने की बजाय कुछ और भरते हैं।
    ********************************************************************************

    aap ne pachana nahi kya ... aapaki man-pasant aalu ki barbhar usme rahti hai.. khair anar bhi us me dalte hai...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद भवारी साहब...

      Delete
  4. kabhi kabhi chhoti si post bhi padni chhahiye .anand inshan

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ‘ऐण्डी घूमो रे’ जी...

      Delete
  5. Meri advice maan ker khane ki photo bhi post karne ke liye dhanyawad sir ji..logo ke positive comments bhi aa rahe hai...ye daboli badi shandar chij lag rahi hai..maja aaya..:)

    Aapka mitra
    Ashish Gutgutia

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सर जी... वैसे आपने सुझाव तब दिया था जब मैं कच्छ से वापस आ चुका था। खैर, खाने के फोटो लेना अच्छी बात है। भविष्य में भी ध्यान रखूंगा।

      Delete
  6. Absolutely loving this another brilliant series.
    Now looking forward to 'Diary ke panney' post, I'm sure this time they are going to be amazing :-)

    Shaadi ki ek baar phir mubarakbaad.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद स्टोन साहब...

      Delete
  7. सुन्दर यात्रा वृत्तांत,गुजरात भ्रमण का मन होने लगा है पढ़ते पढ़ते

    ReplyDelete
  8. bhai dabeli ka bhi apna maja hai
    aur photo to dabeli se bhi mast hai

    ReplyDelete
  9. बढिया पर अगली बार पास बनवा लेना

    ReplyDelete
  10. चलो ये भी बढिया रहा, दाबेली दाब के खाई और जाट भी मिलग्या :)

    ReplyDelete