Skip to main content

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे।
तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।
पेश है, दिल्ली राज्य में कुल रेलवे स्टेशन, उनकी समुद्र तल से ऊंचाई (जो मुझे ज्ञात है और मेरे रिकार्ड में है) और वे स्टेशन किस लाइन पर हैं। पुरानी दिल्ली केन्द्रीय स्टेशन है। यहां से कई लाइनें विभिन्न दिशाओं में जाती हैं यथा पानीपत, रोहतक, रेवाडी, मथुरा, गाजियाबाद। शाहदरा से एक लाइन शामली की तरफ चली गई है। एक लाइन रिंग रेलवे है जो निजामुद्दीन से शुरू होकर पटेल नगर में रेवाडी वाली लाइन में मिल जाती है और आगे दया बस्ती में रोहतक लाइन से भी जुडती है। इनके अलावा दो बाइपास लाइनें है- एक निजामुद्दीन-गाजियाबाद बाइपास और दूसरी दया बस्ती-आजादपुर बाइपास। दया बस्ती-आजादपुर बाइपास लाइन पर बीच में कोई स्टेशन नहीं है और ज्यादातर मालगाडियां ही यहां से गुजरती हैं।

दिल्ली में रेलवे स्टेशन

क्रम संस्टेशनकोडऊंचाईलाइन
1आदर्श नगर दिल्लीANDIदिल्ली- पानीपत
2आनन्द विहार हाल्टANVRगाजियाबाद बाइपास
3आनन्द विहार टर्मिANVTगाजियाबाद बाइपास
4इन्द्र पुरी हाल्टDLPIरिंग लाइन
5ओखलाOKAदिल्ली- मथुरा
6कीर्ति नगरKRTNरिंग लाइन
7खेडा कलांKHKNदिल्ली- पानीपत
8घेवराGHE213.66दिल्ली- रोहतक
9चाणक्य पुरीCNKPरिंग लाइन
10तिलक ब्रिजTKJदिल्ली- मथुरा
11तुगलकाबादTKDदिल्ली- मथुरा
12दया बस्तीDBSI221.18दिल्ली- रोहतक
13दिल्ली किशनगंजDKZदिल्ली- रोहतक
14दिल्ली सफदरजंगDSJरिंग लाइन
15दिल्ली सराय रोहिल्लाDEE220.95दिल्ली- रेवाडी
16दिल्ली आजादपुरDAZ218.08दिल्ली- पानीपत
17दिल्ली छावनीDEC216.685दिल्ली- रेवाडी
18दिल्ली जंDLI
19दिल्ली शाहदरा जंDSA212.81दिल्ली- गाजियाबाद
20नई दिल्लीNDLS214.428दिल्ली- मथुरा
21नरेलाNUR
दिल्ली- पानीपत
22नांगलोईNNO214.57दिल्ली- रोहतक
23नारायणा विहारNRVR218.67रिंग लाइन
24पटेल नगरPTNR217.56दिल्ली- रेवाडी
25पालमPM217.787दिल्ली- रेवाडी
26प्रगति मैदानPGMDदिल्ली- मथुरा
27बराड स्क्वेयरBRSQरिंग लाइन
28बादलीBHD216.42दिल्ली- पानीपत
29बिजवासनBWSN219.285दिल्ली- रेवाडी
30मंगोलपुरीMGLPदिल्ली- रोहतक
31मंडावली चंद्र विहारMWCगाजियाबाद बाइपास
32मुण्डकाMQC213.4दिल्ली- रोहतक
33लाजपत नगरLPNRरिंग लाइन
34लोधी कालोनीLDCYरिंग लाइन
35विवेक विहारVVBदिल्ली- गाजियाबाद
36विवेकानन्द पुरी हाल्टVVKPदिल्ली- रोहतक
37शकूरबस्तीSSB215.69दिल्ली- रोहतक
38शाहबाद मोहम्मदपुरSMDP218.535दिल्ली- रेवाडी
39शिवाजी ब्रिजCSBदिल्ली- मथुरा
40सदर बाजारDSB216.52दिल्ली- मथुरा
41सब्जी मण्डीSZM222.47दिल्ली- पानीपत
42सरदार पटेल मार्गSDPRरिंग लाइन
43सरोजिनी नगरSOJरिंग लाइन
44सेवा नगरSWNRरिंग लाइन
45हज़रत निज़ामुद्दीनNZMदिल्ली- मथुरा
46होलम्बी कलांHUKदिल्ली- पानीपत
भूल चूक सम्भव है।

इनमें रेवाडी वाली लाइन पहले मीटर गेज थी जो अब बडी हो गई है।
मथुरा, गाजियाबाद और अम्बाला वाली लाइनें विद्युतीकृत हैं जबकि रोहतक वाली लाइन शकूरबस्ती तक विद्युतीकृत है। शकूरबस्ती से आगे काम चल रहा है। दोनों बाइपास लाइनें और रिंग लाइन भी विद्युतीकृत हैं।

Comments

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...! सुप्रभात...शनिवार आपको मंगलमय हो...!

    ReplyDelete
  2. सही है भाई ज्ञान बाट रहे हो

    ReplyDelete
  3. अच्छी जानकारी। धीरे धीरे आप भारतीय रेल्वे के एन्साइक्लोपीडिया हो जाएंगे।

    ReplyDelete
  4. मैं तो यहाँ के बाईपास देखकर मुग्ध हो जाता हूँ।

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी और ज्ञानवर्धक जानकारी हैं.. धन्यवाद...वन्देमातरम...

    ReplyDelete
  6. सुन्दर उपयोगी संकलन.

    ReplyDelete
  7. Achhi surgery ki hai aapne .....Bipass

    ReplyDelete
  8. सही है लेकिन ये स्टॉप हैं . उद्गम स्थल तो पांच ही हैं .

    ReplyDelete
    Replies
    1. दराल साहब, स्टॉप को ही स्टेशन कहते हैं।
      रही बात उद्गम स्थल की तो उनकी संख्या दिल्ली मे 9 है- पुरानी दिल्ली, नई दिल्ली, निजामुद्दीन, सराय रोहिल्ला और आनन्द विहार के अलावा सफदरजंग, शकूरबस्ती, तिलक ब्रिज और एक ट्रेन आदर्श नगर से भी चलती है।

      Delete
    2. दिल्ली कैंट से भी एक ट्रेन लोहारू के लिए चलती है . आनंद विहार को हम भूल गए थे .:)
      लेकिन बाकि स्टेशंस से चलने वाली ट्रेन्स क्या दिल्ली से बाहर जाती हैं ?

      Delete
    3. दिल्ली कैंट से कोई भी ट्रेन बनकर नहीं चलती है, लोहारू की तरफ जाने वाली सभी ट्रेनें सराय रोहिल्ला से आती हैं।
      सफदरजंग से आजकल कोई सवारी गाडी नहीं बनकर चलती लेकिन कुछ विशेष स्पेशल ट्रेनें अक्सर चलती रहती हैं। शकूरबस्ती दिल्ली की लोकल ईएमयू ट्रेनों का डिपो है जहां से ट्रेनें गाजियाबाद, पलवल और मथुरा तक जाती हैं। तिलक ब्रिज से कुछ पैसेंजर ट्रेनें चलती हैं जो रेवाडी, बुलन्दशहर और रोहतक जाती हैं। आदर्श नगर से पूरबिया एक्सप्रेस चलती है जो सहरसा जाती है।
      इनके अलावा दया बस्ती से रिंग रेलवे वाली कुछ ईएमयू चलती हैं, वे चूंकि दिल्ली से बाहर नहीं जाती इसलिये मैंने उसका नाम नहीं लिया।

      Delete
  9. ab haridwar ke baad delhi ki khub jankaari di hai neeraj ji

    ReplyDelete
  10. समां बांध दिया । Very good analysis.

    ReplyDelete
  11. ईब तो रोहतक तक चलणे लगी ई एम यू

    ReplyDelete
  12. दिल्ली कैंट से केवल कुछ लग्जरी टैने ही चलती हैं। जो प्रतिदिन नहीं चलतीं।

    ReplyDelete
  13. वाह,, उम्दा जानकारी ज़ी

    ReplyDelete
  14. Bahut achi jankari sajha ki aap sabne

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी कुछ प्रमुख ऊँचाईयाँ

बहुत दिनों से इच्छा थी एक लिस्ट बनाने की कि मैं हिमालय में कितनी ऊँचाई तक कितनी बार गया हूँ। वैसे तो इस लिस्ट को जितना चाहे उतना बढ़ा सकते हैं, एक-एक गाँव को एक-एक स्थान को इसमें जोड़ा जा सकता है, लेकिन मैंने इसमें केवल चुनिंदा स्थान ही जोड़े हैं; जैसे कि दर्रे, झील, मंदिर और कुछ अन्य प्रमुख स्थान। 

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

पुस्तक-चर्चा: चुटकी भर नमक, मीलों लंबी बागड़

पुस्तक मेले में घूमते हुए एक पुस्तक दिखायी पड़ी - चुटकी भर नमक, मीलों लंबी बागड़। कवर पेज पर भारत का पुराना-सा नक्शा भी छपा था, तो जिज्ञासावश उठाकर देखने लगा। और खरीद भी ली। ब्रिटिश राज में नमक पर कर लगा करता था। बंगाल रेजीडेंसी में यह सर्वाधिक था - साल में आम जनता की लगभग दो महीने की आमदनी के बराबर। तो बंबई रेजीडेंसी व राजपूताना की तरफ से इसकी तस्करी होने लगी। इस तस्करी को रोकने के लिये अंग्रेजों ने 1500 मील अर्थात 2400 किलोमीटर लंबी एक बाड़ बनवायी। यह बाड़ इतनी जबरदस्त थी कि कोई इंसान, जानवर इसे पार नहीं कर सकता था। यह बाड़ मिट्टी और कँटीली झाड़ियों की बनायी गयी। बीच-बीच में द्वार बने थे। केवल द्वारों से होकर ही इसे पार करना होता था - वो भी सघन तलाशी के बाद।