Skip to main content

नील द्वीप में प्राकृतिक पुल के नज़ारे

20 जनवरी 2017
फोनिक्स-बे जेट्टी - हाँ यही नाम है इस जेट्टी का गूगल मैप में। नील और हैवलॉक जाने वाली बोट यहीं से चलती हैं। हमारी आज की नील द्वीप जाने की बुकिंग थी। सुबह सात बजे जहाज को चलना था, हम साढ़े छह बजे ही पहुँच गये। सुरक्षा-जाँच और चेक-इन के बाद वातानुकूलित जहाज में अपनी-अपनी सीटों पर जा बैठे।
दो घंटे की यह यात्रा थी। समुद्र अशांत था - शायद यह शांत ही कभी-कभार होता होगा। बड़ी-बड़ी लहरें आ रही थीं। भारी-भरकम जहाज को भी अच्छी तरह हिला देतीं। जी.पी.एस. चलाकर जहाज की गति नापी। यह बीस किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से चल रहा था। वैसे समुद्री दूरियों को ‘नॉटिकल मील’ में नापते हैं, लेकिन मुझे किलोमीटर ही समझ आता है।
इससे पहले कि हमें समुद्री बीमारी होती और उल्टी आती, हमने मोबाइलों में अपने-अपने पसंदीदा गेम खेलने शुरू कर दिये। मैंने अपने गेम में न जाने कितनी लंबी रेलवे लाइन बिछाकर इस पर ट्रेनें चलायीं और दीप्ति ने ‘सबवे सर्फ़र’ में न जाने कितनी ट्रेनों में टक्कर मारी। इस जहाज पर डेक पर जाने की मनाही थी।





बड़ी दूर से ही नील द्वीप दिखने लगा। इसका आधा चक्कर लगाकर जहाज जेट्टी पर जा लगा। बाहर निकलकर सामने ही लिखा था - नील द्वीप में आपका स्वागत है।
हमारे उतरने के बाद इस जहाज में हैवलॉक के यात्री बैठने लगे। अब यह जहाज हैवलॉक जायेगा। कल हमें भी इसी से हैवलॉक जाना है। इस तरह नील में घूमने के लिये हमारे पास पूरे चौबीस घंटे का समय था।
आलू की सब्जी, पूरियाँ और नारियल की चटनी - आनंद आ गया। ऊपर से बंगाली रसगुल्ले। जेट्टी के पास ही यह दुकान थी।
जिस होटल में हमारी बुकिंग थी, उसका कालापानी करके कुछ नाम था। जेट्टी से दो किलोमीटर दूर। शेयर्ड़ ऑटो चलते हैं, लेकिन जानकारी के अभाव में हमने यह दूरी पैदल तय की। रामनगर में यह होटल स्थित है और समुद्र के एकदम किनारे। बाँस की कॉटेज बनी थीं। एक का किराया था 800 रुपये। यह जनवरी में जाने का नुकसान है।
साइकिल किराये पर लेने की योजना बनायी, लेकिन 400 रुपये प्रति साइकिल प्रतिदिन किराया था। दो साइकिलें लेनी पड़तीं, इरादा टाल दिया। नील द्वीप है ही कितना बड़ा? पैदल घूमेंगे।
शेयर्ड़ ऑटो में दस-दस रुपये देकर वापस मुख्य बाज़ार आये - जेट्टी के पास ही। यहाँ से करीब दो किलोमीटर दूर ‘नैचुरल ब्रिज’ है। पक्की सड़क बनी थी, लेकिन हम पैदल ही गये। थक गये।
यहाँ भी कोरल तट है। कुछ दूर तट के साथ-साथ पैदल चलना होता है और हम पहुँचते हैं ‘नैचुरल ब्रिज’ के नीचे। अच्छी जगह है। प्राकृतिक आश्चर्य। प्रत्येक भारतीय को अपने देश में स्थित ऐसे स्थानों को अवश्य देखना चाहिये। ज्यादा वर्णन नहीं करेंगे, नीचे फोटो लगे हैं, उनका भी आनंद लेना है।
इससे भी करीब आधा किलोमीटर आगे एक पुल और दिख रहा था। वहाँ तक भी जाने की इच्छा थी, लेकिन कोरल तट व बड़ी-बड़ी लहरों के कारण यह इच्छा त्यागनी पड़ी। याद रखिये - यदि आप कोरल तट पर पानी में घुसे तो कितना भी सावधान हो जाओ, आपको चोटिल होना ही होना है। जो बच जाता है, वो भाग्यशाली होता है। हम पानी में घुसकर उस पुल तक पहुँच तो सकते थे, लेकिन चोटिल नहीं होना चाहते थे। यहीं खड़े होकर एक बुजुर्ग विदेशी से ‘वन फोटो प्लीज’ कहकर दो फोटो खिंचवा लिये।


इसी जहाज में बैठकर हम नील गये।




बस, इतना ही बड़ा है नील द्वीप...






मुख्य बाज़ार से नैचुरल ब्रिज जाने का रास्ता

एक विशेष प्रकार का कोरल








वो आख़िर में एक और पुल दिख रहा है... लेकिन कोरल होने के कारण वहाँ पहुँचना मुश्किल था...
















1. अंडमान यात्रा - दिल्ली से पोर्ट ब्लेयर
2. अंडमान यात्रा: सेलूलर जेल के फोटो
3. रॉस द्वीप - ऐसे खंड़हर जहाँ पेड़ों का कब्ज़ा है
4. नॉर्थ-बे बीच: कोरल देखने का उपयुक्त स्थान
5. नील द्वीप में प्राकृतिक पुल के नज़ारे
6. नील द्वीप: भरतपुर बीच और लक्ष्मणपुर बीच
7. राधानगर बीच @ हैवलॉक द्वीप
8. हैवलॉक द्वीप - गोविंदनगर बीच और वापस पॉर्ट ब्लेयर
9. अंडमान में बाइक यात्रा: चाथम आरा मशीन
10. अंडमान में बाइक यात्रा: माउंट हैरियट नेशनल पार्क
11. वंडूर बीच भ्रमण
12. अंडमान यात्रा की कुछ वीडियो



Comments

  1. Itni sundar jagah hai. Yaqeen nahi hota ki aisa sthan apne desh me hi hai. Duniya me sabse khoobsoorat desh mera, par pata nahi kyu kuch log din-raat Europe, USA aadi ke gungan karte rahte hai aur Bharat ki burai. Unhe dekhna chahiye aise sthan, taki pata chale ki duniya me jannat hamara hi desh hai.
    Aap ki lekhni ke gum kaayal hain. Photography ka to jawab hi nahi.

    Umesh Pandey

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी कुछ प्रमुख ऊँचाईयाँ

बहुत दिनों से इच्छा थी एक लिस्ट बनाने की कि मैं हिमालय में कितनी ऊँचाई तक कितनी बार गया हूँ। वैसे तो इस लिस्ट को जितना चाहे उतना बढ़ा सकते हैं, एक-एक गाँव को एक-एक स्थान को इसमें जोड़ा जा सकता है, लेकिन मैंने इसमें केवल चुनिंदा स्थान ही जोड़े हैं; जैसे कि दर्रे, झील, मंदिर और कुछ अन्य प्रमुख स्थान। 

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।