Skip to main content

अब फोटो खींचकर पैसे कमाइए...

अरकू घाटी

इस यात्रा वृत्तान्त को आरम्भ से पढने के लिये यहां क्लिक करें
बोरा गुफाएं देखकर जब हम अरकू पहुंचे तो शाम हो चुकी थी, धीरे धीरे अन्धेरा होने लगा था। हम थक भी गये थे लेकिन सुनील जी ने कहा कि कल अगर अरकू घूमेंगे तो दोबारा ऑटो करना पडेगा, इससे तो अच्छा है कि आज उतने ही पैसों में इसी ऑटो वाले को साथ रखें। बात तो ठीक थी। फिर कल दोपहर ग्यारह बजे ट्रेन थी, हम सोकर ही नौ बजे उठेंगे, इसलिये इस घाटी में ज्यादा दूर नहीं जा सकेंगे। जब तक देखने लायक उजाला है, फोटो खींचने लायक उजाला है, अरकू ही देख लिया जाये।
सबसे पहले पहुंचे जनजातीय संग्रहालय में। यहां आदिवासियों के जो पुतले बने थे, उनके क्रियाकलाप थे, सब बिल्कुल जीवन्त थे। लेकिन यहां फोटो खींचने की मनाही थी। इन पुतलों ने वास्तव में मन मोह लिया। बाहर से फोटो खींचकर यहां से बाहर निकल गये।

इसके बाद पहुंचे पदमपुरम गार्डन में। यह स्थान अरकू कस्बे से करीब एक-डेढ किलोमीटर दूर है। प्रवेश के लिये मामूली शुल्क लगता है। यहां भी हमारे अलावा कोई नहीं था। नम जलवायु के कारण गार्डन के पथ पर काई जमी हुई थी। हरी काई, सूर्यास्त और पथ के दोनों ओर लगे रंग-बिरंगे फूलों के पौधे; वास्तव में शानदार फोटो आ रहे थे।
पदमपुरम गार्डन का मुख्य आकर्षण है इसके ट्री हाउस। यहां पेडों पर कई घर बने हैं जिनमें कुछ समय पहले तक पर्यटक ठहर सकते थे। किराया भी ठीक ही था। लेकिन बारिश तूफान आदि के कारण आज ये ट्री हाउस जर्जर अवस्था में हैं। ठहरना तो छोडिये, इनमें घुसना भी प्रतिबन्धित है। तेलुगू में लिखी तख्तियां हर घर के नीचे लगी हैं कि इसमें चढना मना है।
कुछ देर सुकून से गुजारने के लिये यह गार्डन ठीक है। हमें जल्दी मची पडी थी। हमसे भी ज्यादा जल्दी रामजी को थी अन्धेरा करने की, तो बाहर निकल आये। ऑटो वाले ने मुख्य बाजार में छोड दिया। हमें खाना खाना था और कुछ दूर पैदल चलकर स्टेशन के सामने अपने होटल पहुंचना था।
मैंने पनीर डोसा खाया और सुनील जी ने आलू का परांठा सब्जी के साथ। मुझे उनका यह तरीका अच्छा लगा। इसके बाद मैं कई बार सब्जी से आलू के परांठे खा चुका हूं। उन्हें भी मेरा एक तरीका अच्छा लगा। खाने के साथ कोल्ड ड्रिंक पीना। मैं जब भी बाहर यात्राओं पर जाता हूं, तो खाने के साथ कोल्ड ड्रिंक लेना पसन्द करता हूं। उन्हें भी ऐसा करना पसन्द आया। बाद में अपने घर आकर भी उन्होंने इस तरीके की तारीफ की। स्वाद का स्वाद और बाहर का खाना पचने की गारण्टी भी।
खाकर बाहर निकले तो बारिश हो रही थी। होटल अभी भी करीब दो किलोमीटर दूर था। शेयर्ड ऑटो चलते हैं जिन्होंने दस-दस रुपये में स्टेशन के सामने छोड दिया। अब जो बारिश पडनी शुरू हुई, वो इतनी लम्बी चली कि पांच दिन बाद जब तक मैंने छत्तीसगढ भी नहीं छोड दिया, तब तक एक मिनट के लिये भी थमी नहीं। बारिश थोडी बहुत ही ठीक है। लगातार तो बडी बुरी होती है। बारिश हो लेकिन कम से कम सांस लेने का मौका तो मिलना ही चाहिये।

जनजातीय संग्रहालय के अन्दर



पदमपुरम गार्डन का प्रवेश द्वार


गार्डन के अन्दर ट्री हाउस जो अब जर्जर हो चुके हैं।











अगला भाग: किरन्दुल ट्रेन-2 (अरकू से जगदलपुर)

7. अरकू घाटी




Comments

  1. Bahut khub neeraj bhai , good luck he jo aap itna ghum shakte ho . Namaskar .

    ReplyDelete
  2. छोटी पोस्ट लेकिन शानदार फोटो , काश हम भी पुतलों के फोटो देख पाते।

    ReplyDelete
  3. शानदार फोटो , जानदार फोटो और मजेदार जानकारी। यह आप के समर्पण और परिषरम का प्रतीक है।

    ReplyDelete
  4. achcha hai ----coldring se pet saaf bhi ho jata hai --isliye to baba Ramdev isko toilet cinging kahte hai

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैं इसका परहेज नहीं करता हूं। टॉयलेट तो पानी से भी साफ होता है, तो क्या पानी भी पीना छोड दें?

      Delete
  5. ये ट्री हाउस तो वाकई शानदार है इनकी तो मरम्मत होनी चाहिए l बढ़िया पोस्ट

    ReplyDelete
    Replies
    1. हां हरेन्द्र भाई, इनकी मरम्मत होनी चाहिये।

      Delete
  6. वाह क्या मस्त फोटो खींचे हैं आपने

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी कुछ प्रमुख ऊँचाईयाँ

बहुत दिनों से इच्छा थी एक लिस्ट बनाने की कि मैं हिमालय में कितनी ऊँचाई तक कितनी बार गया हूँ। वैसे तो इस लिस्ट को जितना चाहे उतना बढ़ा सकते हैं, एक-एक गाँव को एक-एक स्थान को इसमें जोड़ा जा सकता है, लेकिन मैंने इसमें केवल चुनिंदा स्थान ही जोड़े हैं; जैसे कि दर्रे, झील, मंदिर और कुछ अन्य प्रमुख स्थान। 

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।