Thursday, March 8, 2018

फोटो-यात्रा-9: एवरेस्ट बेस कैंप - सुरके से फाकडिंग

इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें
19 मई 2016
आज का दिन हमारे लिये भावनात्मक रूप से बड़ा मुश्किल रहा। हमारे साथी कोठारी जी ने वापस जाने का निर्णय लिया। एक बार तो हम भी उनके साथ ही वापस चल देने का मन बना चुके थे।
“अक्सर वापस लौटने का भी कई बार मन कर जाता था, लेकिन हमें बेस कैंप भी जाना था। एक ही बात हमें आगे बढ़ने की प्रेरणा दे रही थी - ज़िंदगी में एवरेस्ट बेस कैंप जाने का इसके बाद कभी भी मौका नहीं मिलेगा। अपना पसंदीदा काम करने के मौके सबको मिलते हैं, लेकिन आप उन्हें पहचान नहीं पाते। हमें बड़ी मुश्किलों से यह मौका मिला था, इसे गँवा नहीं सकते थे।”
“यह काफ़ी निराशाजनक समय था। हमारे भी मन में आया कि उनके साथ ही लौट चलते हैं। दुनिया में और भी अनदेखे स्थान हैं। क्या हासिल होगा एवरेस्ट बेस कैंप जाकर? लेकिन इस तरह का कोई भी त्वरित निर्णय लेने से पहले थोड़ा रुक जाना चाहिये। हम तात्कालिक परिस्थितियों से प्रभावित होकर निर्णय लेते हैं और बाद में पछताते हैं। रुक जाने से, आराम करने से, शांत हो जाने से हमारे सोचने का दायरा बढ़ जाता है और हम तात्कालित परिस्थितियों के प्रभाव में नहीं आते। वापस हमें भी लौटना था, लेकिन आज हम जल्दी रुककर इस निर्णय के बारे में और ज्यादा पुनर्विचार करना चाहते थे।”

एवरेस्ट बेस कैंप ट्रैक पर आधारित मेरी किताब हमसफ़र एवरेस्ट का एक अंश। किताब तो आपने पढ़ ही ली होगी, अब आज की यात्रा के फोटो देखिये:





सुरके में प्रयोग के तौर पर लिये ‘फ्राइड पोटैटो’, जिन्होंने हमें आगे की यात्रा के लिये नया स्वाद दे दिया...


कोठारी जी फैसला कर चुके थे कि वे वापस लौटेंगे... और हम कई कोशिशों के बाद भी उनके इस निर्णय को बदलवा नहीं सके...

बायें नामचे, दाहिने लुकला... यहीं से कोठारी जी अलग हो गये...



‘मैन इन ब्लू’... कोठारी जी के साथ आख़िरी फोटो...








चलती-फिरती दुकानें...

छेपलुंग... 






इस दुकान से हमने केले लिये... 500 रुपये के एक दर्जन...

इस दिन हमने केवल केलों का ही लंच किया...

होटलों की भरमार... और एक से बढ़कर एक आलीशान...


चलती-फिरती दुकानें आराम कर रही हैं...

यहीं आज हम रुके...






अगला भाग: फोटो-यात्रा-10: एवरेस्ट बेस कैंप - फाकडिंग से नामचे बाज़ार


1. फोटो-यात्रा-1: एवरेस्ट बेस कैंप - दिल्ली से नेपाल
2. फोटो-यात्रा-2: एवरेस्ट बेस कैंप - काठमांडू आगमन
3. फोटो-यात्रा-3: एवरेस्ट बेस कैंप - पशुपति दर्शन और आगे प्रस्थान
4. फोटो-यात्रा-4: एवरेस्ट बेस कैंप - दुम्जा से फाफलू
5. फोटो-यात्रा-5: एवरेस्ट बेस कैंप - फाफलू से ताकशिंदो-ला
6. फोटो-यात्रा-6: एवरेस्ट बेस कैंप - ताकशिंदो-ला से जुभिंग
7. फोटो-यात्रा-7: एवरेस्ट बेस कैंप - जुभिंग से बुपसा
8. फोटो-यात्रा-8: एवरेस्ट बेस कैंप - बुपसा से सुरके
9. फोटो-यात्रा-9: एवरेस्ट बेस कैंप - सुरके से फाकडिंग
10. फोटो-यात्रा-10: एवरेस्ट बेस कैंप - फाकडिंग से नामचे बाज़ार
11. फोटो-यात्रा-11: एवरेस्ट बेस कैंप - नामचे बाज़ार से डोले
12. फोटो-यात्रा-12: एवरेस्ट बेस कैंप - डोले से फंगा
13. फोटो-यात्रा-13: एवरेस्ट बेस कैंप - फंगा से गोक्यो
14. फोटो-यात्रा-14: गोक्यो और गोक्यो-री
15. फोटो-यात्रा-15: एवरेस्ट बेस कैंप - गोक्यो से थंगनाग
16. फोटो-यात्रा-16: एवरेस्ट बेस कैंप - थंगनाग से ज़ोंगला
17. फोटो-यात्रा-17: एवरेस्ट बेस कैंप - ज़ोंगला से गोरकक्षेप
18. फोटो-यात्रा-18: एवरेस्ट के चरणों में
19. फोटो-यात्रा-19: एवरेस्ट बेस कैंप - थुकला से नामचे बाज़ार
20. फोटो-यात्रा-20: एवरेस्ट बेस कैंप - नामचे बाज़ार से खारी-ला
21. फोटो-यात्रा-21: एवरेस्ट बेस कैंप - खारी-ला से ताकशिंदो-ला
22. फोटो-यात्रा-22: एवरेस्ट बेस कैंप - ताकशिंदो-ला से भारत
23. भारत प्रवेश के बाद: बॉर्डर से दिल्ली

1 comment:

  1. आनंद आ गया जी, धन्यवाद।

    ReplyDelete