Thursday, February 15, 2018

फोटो-यात्रा-4: एवरेस्ट बेस कैंप - दुम्जा से फाफलू



इस यात्रा के फोटो आरंभ से देखने के लिये यहाँ क्लिक करें
14 मई 2016
“जब भात के साथ दाल और आलू आये तो कोठारी जी ने पूछ लिया - ‘‘वेज?” अर्थात इसमें मांस तो नहीं है? लड़की रसोई में गयी और सरसों का भगोना उठा लाई और परोसते हुए बोली - “वेज।” यहाँ हमें संदेह हुआ कि कहीं ये लोग इसे ही ‘वेज’ तो नहीं कहते? हम ‘वेज’ कहते तो हमारा आशय शाकाहारी से होता, लेकिन यहाँ उबली हुई बे-स्वाद सरसों परोस दी जाती। इसके बाद भी कई बार ऐसा ही हुआ, तब हमें पक्का पता चल गया कि यही ‘वेज’ है। हमें यह सब्जी निहायत नापसंद थी और हम इसे बिल्कुल भी नहीं खाना चाहते थे। अब हम बड़ी दुविधा में पड़ गये थे। हम ‘वेज खाना’ ही लेना चाहते थे, लेकिन ‘वेज’ नहीं। कमाल यह हुआ कि सरसों बर्बाद न हो, इसलिये हमने दाल-भात माँगते समय यह कहना शुरू कर दिया था - “‘वेज’ मत देना।"
एवरेस्ट बेस कैंप ट्रैक पर आधारित मेरी किताब हमसफ़र एवरेस्ट का एक अंश। किताब तो आपने पढ़ ही ली होगी, अब आज की यात्रा के फोटो देखिये:



दुम्जा में कमरे की खिड़की से दिखती सुनकोसी घाटी...



दुम्जा की हवा में तरोताज़ा होतीं मोटरसाइकिलें...

दुम्जा से नाश्ता करके चल दिये...

बी.पी. हाईवे - नेपाल की सबसे सुंदर सड़क...





खुर्कोट से दूरियाँ...


घुर्मी गाँव...

घुर्मी में मुर्गी...

घुर्मी में सुनकोसी पर बना पुल...

सुनकोसी पुल से दूरियाँ...

नीचे रास्ता हलेसी जाता है, ऊपर सोलूखुंबू... एवरेस्ट सोलूखुंबू में है तो हमें ऊपर जाना होगा...


ज्यों-ज्यों ऊपर चढ़ते जाते हैं, घुर्मी और सुनकोसी का पुल छोटे होते जाते हैं...

ओखलढुंगा...


ओखलढुंगा में लंच - दाल, भात, आलू-गोभी, गाजर का अचार, सलाद और ‘वेज’...

दूर से ओखलढुंगा ऐसा दिखता है...

फाफलू की ओर...

ऊँचाई बढ़ती जाती है और बादल भी...

वेलकम टू सोलूखुंबू... समुद्र तल से 3000 मीटर की ऊँचाई पर ऐसा शानदार स्वागत कम ही स्थान करते हैं...



फाफलू में डिनर - दाल, भात, आलू की सब्जी, स्वादिष्ट सलाद और ढेर सारी ‘वेज’... 


फाफलू में मेन्यू कार्ड का कवर...



और हिंदी बिल्कुल भी नहीं समझने वाली नेपाली महिलाओं का पसंदीदा काम - भारतीय हिंदी सीरियल देखना...

अगला भाग: फोटो-यात्रा-5: एवरेस्ट बेस कैंप - फाफलू से ताकशिंदो-ला



5 comments:

  1. मस्त है नीरज साहब।यात्रा फिर से शुरु तस्वीरों के साथ

    ReplyDelete
  2. सर् जी लग रहा है अब आपकी पुस्तक खरीदनी ही पड़ेगी।

    ReplyDelete
  3. Neeraj ji ye jo Menu hai isme Indian currency ke hisab se rate likhe hai ya nepal ke. Baki photos bahut acche hai 👌

    ReplyDelete