Skip to main content

स्टेशन से बस अड्डा कितना दूर है?

आज बात करते हैं कि विभिन्न शहरों में रेलवे स्टेशन और मुख्य बस अड्डे आपस में कितना कितना दूर हैं? आने जाने के साधन कौन कौन से हैं? वगैरा वगैरा। शुरू करते हैं भारत की राजधानी से ही।

दिल्ली:- दिल्ली में तीन मुख्य बस अड्डे हैं यानी ISBT- महाराणा प्रताप (कश्मीरी गेट), आनंद विहार और सराय काले खां। कश्मीरी गेट पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के पास है। आनंद विहार में रेलवे स्टेशन भी है लेकिन यहाँ पर एक्सप्रेस ट्रेनें नहीं रुकतीं। हालाँकि अब तो आनंद विहार रेलवे स्टेशन को टर्मिनल बनाया जा चुका है। मेट्रो भी पहुँच चुकी है। सराय काले खां बस अड्डे के बराबर में ही है हज़रत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन।

गाजियाबाद: - रेलवे स्टेशन से बस अड्डा तीन चार किलोमीटर दूर है। ऑटो वाले पांच रूपये लेते हैं।
मेरठ:- रेलवे स्टेशन से बस अड्डे की दूरी पांच-छः किलोमीटर है। सिटी बसों की नियमित सेवा उपलब्ध है।
मुज़फ्फरनगर:- दूरी आधे किलोमीटर से भी कम। सभी बसें रेलवे स्टेशन के सामने से ही जाती हैं। ये बात अलग हैं कि रूकती नहीं।
सहारनपुर:- ट्रेन से उतरते ही आप किसी से भी पूछ लें कि कि भईया, बस अड्डा किधर पड़ेगा? तो कहेगा कि मुझे नहीं पता। आप स्टेशन से बाहर जाकर पूछ लो। बाहर निकले। किसी से पूछ लिया कि भई बस अड्डा कितनी दूर है? वो कहेगा कि पागल हो क्या, बस अड्डे के अन्दर खड़े हो और पूछ रहे हो कि कितनी दूर है? मतलब ये कि रेलवे स्टेशन से बाहर निकले नहीं, बस अड्डे के अन्दर पहुँच गए।
रुड़की:- दूरी तीन किलोमीटर, साधन रिक्शा, किराया- पंद्रह से बीस रूपये।
हरिद्वार:- कोई साधन नहीं है। दोनों आमने सामने ही हैं।
ऋषिकेश:- एक किलोमीटर, साधन रिक्शा।
देहरादून:- देहरादून का मसूरी बस अड्डा तो स्टेशन परिसर में ही है। जबकि ISBT तीन चार किलोमीटर दूर है। सिटी बसें व ऑटो उपलब्ध हैं।
अम्बाला:- अम्बाला छावनी रेलवे स्टेशन के सामने ही है बस अड्डा।
चंडीगढ़:- सेक्टर 17 में ISBT है। दूरी पांच छः किलोमीटर। नियमित बस सेवा।
मुरादाबाद:- रेलवे स्टेशन से आधा किलोमीटर बल्कि और भी कम।
हल्द्वानी:- हल्द्वानी यानी कुमाऊँ का प्रवेश द्वार। दूरी करीब आधा किलोमीटर।
गोरखपुर:- रेलवे स्टेशन के लगभग सामने ही है बस अड्डा।
गुडगाँव:- ऑटो वाले पांच रूपये लेते हैं। और बस अड्डे से कुछ दूरी पर छोड़ देते हैं। एक संकरी सी गली में से होकर बस अड्डे तक पहुँच जाते हैं।
रेवाडी:- दो तीन किलोमीटर की दूरी है। रिक्शा सेवा भी उपलब्ध है।

ये तो हुई मेरे देखे हुए आस पास के शहरों की सूची। आप भी इस सूची को बढा सकते हैं। तो फटाफट लिख डालिए शहर का नाम, रेलवे स्टेशन से बस अड्डे की लगभग दूरी, साधन वगैरा। ये जानकारी किसी के काम की हो या ना हो, मेरे काम की तो है।

Comments

  1. मुसाफिरों के काफी काम की है ये जानकारी. बनारस का बस अड्डा भी स्टेशन से चंद क़दमों के फासले पर ही है, कब गुजर रहे हैं इस ओर से!

    ReplyDelete
  2. बढ़िया कलेक्शन है:

    जबलपुर में बस स्टैंड मुख्य स्टेशन से लगभग ५ किमी है..आटो, रिक्शा, बस और टेम्पो उपलब्ध हैं.

    ReplyDelete
  3. उपयोगी जानकारी दी है बाकी आपने दिल्ली का बात दिया है .लाजपत नगर से यह सब जगह सिर्फ़ कुछ मिनटों की दूरी par hain ..yadi traafic jam na mile to :)

    ReplyDelete
  4. ye to apne achhi baat batayi hai...

    kafi kaam ayegi yah jankari ghumkar logo ke...

    ReplyDelete
  5. ललितपुर में बस बमुश्किल २ किलोमीटर पर बस अड्डा है. पैदल भी जा सकते हैं. रिक्शे का पता नहीं.

    ReplyDelete
  6. भाई म्हारै शहर मे रेलवे टेशन से बस अड्डे कि दुरी ही नही है. आजू बाजू है. और सामान नही हो तो पैदल ही पहुंच जाओ.

    ये कैसी रही? हमारे शहर मे हम इस बात के लिये आने वाले मेहमानों का रुपया खर्च ही नही करवाते.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. कमाल की जानकारी भाई जान ...

    ReplyDelete
  8. जोधपुर में बस अड्डा (राइकाबाग/पावटा) रेल्वे स्टेशन से करीब ४ कि मी दूर है..्सि्टी बस और ऒटो (जोधपुर में इसे भी टेक्सी कहते है) आराम से मिल जाता है..

    आओ आपका स्वागत है..

    और जाट साब.. दिल्ली में ’आपकी’ मेट्रो कश्मीरी गेट से पुरानी दिल्ली (चांदनी चौक) और नई दिल्ली भी जाती है..:)

    ReplyDelete
  9. इतनी सुंदर जानकारी । यही तो है असली बलोगिंग का मजा । ऐसी जानकारी तो गूगल बाबा भी नही बता पाते । बहुत धन्यवाद मित्र आपका ।

    ReplyDelete
  10. jaat ji apne ambala cantt ki baat ki waise ambala city me bhi station se bus stand jyada door nhi hai . sirf aadha pona kilometer hai.

    aise hi panipat me dhed do kilometer hai . aaram se rickshe se ja sakte ho.

    ReplyDelete
  11. From : shalabh310@yahoo.com

    नीरजजी, मैं आगरा का मूल निवासी हूँ। ग्रेटर नोएडा में 8-9 साल सर्विस की है और इस समय मेरठ में जाॅब कर रहा हूँ। आपके ब्लाॅग बहुत चाव से पढ़ता हूँ। क्योंकि मुझे भी घूमने का बहुत शौक है। बस अड्डे और स्टेषन की जहाँ तक बात है, तो मैं आगरा की जानकारी देना चाहूंगा। आगरा में तीन बस अड्डे हैं- ईदगाह, फोर्ट और बौद्ध विहार। अब फोर्ट अड्डे को ट्रांसपोर्ट नगर स्थित नए बने आईएसबीटी में मर्ज़ कर दिया गया है। आगरा तीन राष्ट्रीय राजमार्गों से जुड़ा है - एनएच 2 (कोलकाता तक), एनएच 3 (आगरा-मुम्बई राजमार्ग) तथा एनएच 11(आगरा-बीकानेर राजमार्ग)। कई मुख्य शहर इन राजमार्गों पर पड़ते हैं। इसके अलावा आगरा में सात रेलवे स्टेषन हैं - कैन्ट, फोर्ट, ईदगाह, राजा की मण्डी, बिल्लोचपुरा, सिटी और यमुना ब्रिज। इनमें पहले चार मुख्य स्टेषन हैं, जो मध्य रेलवे, पष्चिम रेलवे, उत्तर रेलवे, दक्षिण मध्य रेलवे तथा उत्तरपूर्व रेलवे से जुड़े हैं।

    - शलभ सक्सेना, आगरा

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

जाटराम की पहली पुस्तक: लद्दाख में पैदल यात्राएं

पुस्तक प्रकाशन की योजना तो काफी पहले से बनती आ रही थी लेकिन कुछ न कुछ समस्या आ ही जाती थी। सबसे बडी समस्या आती थी पैसों की। मैंने कई लेखकों से सुना था कि पुस्तक प्रकाशन में लगभग 25000 रुपये तक खर्च हो जाते हैं और अगर कोई नया-नवेला है यानी पहली पुस्तक प्रकाशित करा रहा है तो प्रकाशक उसे कुछ भी रॉयल्टी नहीं देते। मैंने कईयों से पूछा कि अगर ऐसा है तो आपने क्यों छपवाई? तो उत्तर मिलता कि केवल इस तसल्ली के लिये कि हमारी भी एक पुस्तक है। फिर दिसम्बर 2015 में इस बारे में नई चीज पता चली- सेल्फ पब्लिकेशन। इसके बारे में और खोजबीन की तो पता चला कि यहां पुस्तक प्रकाशित हो सकती है। इसमें पुस्तक प्रकाशन का सारा नियन्त्रण लेखक का होता है। कई कम्पनियों के बारे में पता चला। सभी के अलग-अलग रेट थे। सबसे सस्ते रेट थे एजूक्रियेशन के- 10000 रुपये। दो चैप्टर सैम्पल भेज दिये और अगले ही दिन उन्होंने एप्रूव कर दिया कि आप अच्छा लिखते हो, अब पूरी पुस्तक भेजो। मैंने इनका सबसे सस्ता प्लान लिया था। इसमें एडिटिंग शामिल नहीं थी।