Thursday, March 2, 2017

अंडमान यात्रा: सेलूलर जेल के फोटो

इस यात्रा-वृत्तांत को आरंभ से पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें
18 जनवरी, 2017
तो ऐसा हुआ कि हम पोर्ट ब्लेयर उतर गये - हवाई जहाज से। मरीन रोड़ पर एक होटल में एक कमरा बुक था ही। 100 रुपये में एक ऑटो वाला तैयार हो गया चलने को। वैसे यहाँ बसें भी खूब चलती हैं, जो दस-दस रुपये में आपको एयरपोर्ट से अबरडीन बाज़ार या मरीन रोड़ पहुँचा देती हैं। मुख्य लोकल बस अड्डा इन दोनों स्थानों के बीच में है।
तो हमें इस बात का उस समय पता नहीं था। प्रत्येक अंडमानी की तरह यह ऑटोवाला भी बहुत अच्छा था। चलते-चलते ही हमारा कार्यक्रम पूछा और आज ही नील व हैवलॉक आने-जाने के टिकट बुक करा लेने की सलाह दे दी। प्राइवेट जहाज वालों के ऑफिस में ले गया और थोड़ी ही देर में हमारे पोर्ट ब्लेयर से नील, नील से हैवलॉक और हैवलॉक से पोर्ट ब्लेयर के जहाजों में बुकिंग हो गयी। वैसे हमारे पास सरकारी जहाज से आने-जाने का भी विकल्प था, लेकिन सुना है कि सरकारी और प्राइवेट के किराये में ज्यादा अंतर नहीं होता, तो हमने प्राइवेट में ही बुकिंग कर ली। टिकटों की मारामारी का आलम यह था कि पाँच दिन पहले भी हैवलॉक से पोर्ट ब्लेयर आने के लिये हमें अपने इच्छित समय वाले जहाज में खाली सीट नहीं मिली।



कमरे में सामान पटककर निकल पड़े पोर्ट ब्लेयर घूमने। अबरडीन बाज़ार ही यहाँ का मुख्य बाज़ार है। इसके गाँधी-प्रतिमा वाले चौक के बगल में सस्ते खाने-पीने की दो दुकानें हैं। 60 रुपये में हम दोनों का पेट भर गया - भरपेट रोटी और चने की दाल से।
सीधे पहुँचे सेलूलर जेल। इसके बारे में ज्यादा लिखने की आवश्यकता नहीं है।
बाहर निकले तो मैं सोच रहा था कि क्या अंग्रेजों में मानवता नहीं थी? ऐसा व्यवहार तो जानवरों के साथ भी नहीं किया जाता। आज अगर किसी देश को ऐसी जेल बनानी पड़े तो वो भी इतना पाशविक नहीं हो सकता। धिक्कार है!

यही था वो भोजन जो हमने पोर्ट ब्लेयर में पहली बार किया। उँगलियाँ सानकर खाने में संकोच भी आया, लेकिन जल्द ही हम इस विधा में उस्ताद हो गये। 

अबरडीन बाज़ार... 

सेलूलर जेल का मुख्य फाटक और उसके भीतर बनी जेल... अब यह मत पूछना कि यह फोटो हमने कहाँ चढ़कर खींचा...

यह है कैदियों की कोठरी... इसकी साँकल को देखिये... मोटी दीवार में इसे इसलिये बनाया है, ताकि गलती की कोई गुंजाइश न रहे और कोई कैदी इसे तोड़ने या खोलने की कोशिश न करे...


टाट की पोशाक... क्या सोचकर इसे ईज़ाद किया होगा उन पशुओं ने?

अंडमानी कबूतर





एक फोटो अपना भी... मुझे ख़ुशी भी है और गर्व भी है कि आज आज़ाद भारत में मैं बिना बेड़ियों के हूँ और इस प्राणहंता जेल की छत पर हूँ... उस समय किसी भारतीय को ऐसा मौका नहीं मिल सकता था...

पीछे दिखता रॉस द्वीप... उधर उस ज़माने में अंग्रेज अधिकारियों के घर हुआ करते थे...

यह फोटो दीप्ति जी ने खींचा है... उनका ज़िक्र करना इसलिये आवश्यक है कि कभी यदि भूलवश उनके खींचे फोटो पर अपने नाम का ठप्पा लगा देता हूँ, तो तुरंत ज़वाब देना पड़ता है...



सावरकर जी इसी कोठरी में कैदी हुआ करते थे...





यह पोस्ट लिखने, फोटो एडिट करने और प्रकाशित करने में लगा कुल समय: 1 घंटा





1. अंडमान यात्रा - दिल्ली से पोर्ट ब्लेयर
2. अंडमान यात्रा: सेलूलर जेल के फोटो
3. रॉस द्वीप - ऐसे खंड़हर जहाँ पेड़ों का कब्ज़ा है
4. नॉर्थ-बे बीच: कोरल देखने का उपयुक्त स्थान
5. नील द्वीप में प्राकृतिक पुल के नज़ारे
6. नील द्वीप: भरतपुर बीच और लक्ष्मणपुर बीच
7. राधानगर बीच @ हैवलॉक द्वीप
8. हैवलॉक द्वीप - गोविंदनगर बीच और वापस पॉर्ट ब्लेयर
9. अंडमान में बाइक यात्रा: चाथम आरा मशीन
10. अंडमान में बाइक यात्रा: माउंट हैरियट नेशनल पार्क
11. वंडूर बीच भ्रमण
12. अंडमान यात्रा की कुछ वीडियो

17 comments:

  1. Vinayak Damodar Savarkarji wo mahan insan the, jinhone apne will power par jindgi ke jyadatar din guzare. Salam hai unke jajbe ko.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा अमित भाई... धन्यवाद आपका...

      Delete
  2. अंग्रेजों ने भारतीयों के स्वतंत्रता आंदोलन को कुचलने के लिए अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में एक ऐसी जेल बनाई थी,जहां भारतीयों पर भयानक जुल्म ढाए जाते थे। अंग्रेजों ने हिंद महासागर के इस द्वीप में 1857 की क्रांति के तुरंत बाद भारतीयों की स्वतंत्रता की भावना कुचलने के लिए इस जेल का निर्माण किया था।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिल्कुल ठीक कहा आपने भाई जी...

      Delete
  3. वीर सावरकर के जेल वाले कमरे की फोटो को प्रणाम ।इस ऐतिहासिक जेल की की जानकारी के लिए धन्यवाद नीरज जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका भी बहुत बहुत धन्यवाद...

      Delete
  4. बहुत बढिया नीरज भाई

    ReplyDelete
  5. Bahut achha varnan. Ye photo un 35-40 sal ke students ko dekhna chahiye, taki pata chale ki gulami kya hoti hai. Desh Puri tarah SS Azad h,par ab bhi pata nahi kaisi azadi chahiye. Is jail ko krantikariyon ka teerth kahna atshyokti nahi hogi. Photo bahut ache h.

    Umesh Pandey

    ReplyDelete
    Replies
    1. शत प्रतिशत सहमत हूँ उमेश जी...

      Delete
  6. Neeraj bhai, 3rd picture was taken from jail model situated in museum building.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ जी, यह फोटो मॉडल का ही है...

      Delete
  7. Jail ke mukhya fatak vala photo, shayad jail ke model ka photo h.

    Umesh Pandey

    ReplyDelete
  8. सावरकरजी महाराष्ट्र के थे यह हमारे लिये गौरव कि बात है ... लेकिन सच्ची बात तो यह है सावरकरजी भारत के क्रातिकारक नेताओ में के एक है

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह हमारे लिये वाकई गौरव की बात है.. धन्यवाद आपका सर...

      Delete
  9. रिसर्च करके अपने पाठकों (मेरे जैसे) को बताइये की कम से कम ख़र्चे में यहाँ कैसे पहुँचा जाए।

    मस्त क्लिक्स

    ReplyDelete