Skip to main content

“मेरा पूर्वोत्तर” - काजीरंगा नेशनल पार्क

इस यात्रा-वृत्तांत को आरंभ से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें
17 नवंबर 2017
चाउमीन खाकर हम कोहोरा फोरेस्ट ऑफिस के बाहर बैठकर काजीरंगा और कर्बी आंगलोंग के बारे में तमाम तरह की सूचनाएँ पढ़ने में व्यस्त थे, तभी तीन आदमी और आए। यात्री ही लग रहे थे। आते ही पूछा – “क्या आप लोग भी काजीरंगा जाओगे?”
मैंने रूखा-सूखा-सा जवाब दिया – “हाँ, जाएँगे।”
बोले – “हम भी जाएँगे।”
मैंने जेब से मोबाइल निकाला और इस पर नजरें गड़ाकर कहा – “हाँ, ठीक है। जाओ। जाना चाहिए।”
बोले – “तो एक काम करते हैं। हम भी तीन और आप भी तीन। मिलकर एक ही सफारी बुक कर लेते हैं। पैसे बच जाएँगे।”
और जैसे ही सुनाई पड़ा “पैसे बच जाएँगे”; तुरंत मोबाइल जेब में रखा और सारा रूखा-सूखा-पन त्यागकर सम्मान की मुद्रा में आ गया – “अरे वाह सर, यह तो बहुत बढ़िया बात रहेगी। मजा आ जाएगा। आप लोग कहाँ से आए हैं?”
“इंदौर, मध्य प्रदेश से।”





“भई वाह सर, यह समझ लो सरजी कि इंदौर में तो हमारा दूसरा घर है और हम कई-कई दिन वहाँ गुजार देते हैं।”
“कहाँ? किस जगह?”
फिर तो हमने उन्हें जो सम्मान दिया, उतना सम्मान हमने कभी किसी को नहीं दिया होगा। खुली गाड़ी में सबसे आगे भी उन्हें ही बैठाया और सबसे पीछे भी उन्हें ही। आखिर हमारे कई सौ रुपये जो बचने वाले थे।
तो बगोरी गेट पहुँचे। मोटरसाइकिल भी सामान सहित यहीं खड़ी कर दी। आज हम पहली बार किसी नेशनल पार्क में सफारी पर जा रहे थे। वो भी एक ऐसे नेशनल पार्क में जो विश्‍व विरासत स्थल भी है और जहाँ दुनिया में सबसे ज्यादा एक सींग वाले गैंडे पाए जाते हैं और जहाँ बाघों का घनत्व भी सबसे ज्यादा है। 2015 की गणना के अनुसार, इस नेशनल पार्क में 2400 से भी ज्यादा गैंडे हैं। हालाँकि इसी साल आई बाढ़ के कारण बहुत सारे गैंडे नेशनल पार्क से निकलकर आबादी क्षेत्रों में और कर्बी आंगलोंग की पहाड़ियों में चले गए और शिकार के कारण मारे भी गए।
लेकिन प्रत्येक यात्री की तरह हमारी भी इच्छा थी कि बस, एक गैंडा देखने को मिल जाए। नेशनल पार्कों में जानवर आसानी से दिखते नहीं हैं, लेकिन एक गैंडा दिख जाएगा तो जीवन सफल हो जाएगा। हम हर दो-दो मिनट में ड्राइवर से यही पूछे जा रहे थे – “दादा, गैंडा दिख तो जाएगा ना?”
एक पुल पार करते ही नेशनल पार्क में प्रवेश कर गए। और थोड़ी ही दूर एक गैंडा दिख गया। ऊँची हाथी-घास में छुपा हुआ था और केवल पेट का कुछ हिस्सा दिख रहा था। कैमरा 30 गुणा जूम करने पर छोटा-सा फोटो आया। फिर कैमरा एक तरफ रख दिया और गाड़ी रुकवाकर इसे ही देखने में लग गए।
“आगे बहुत सारे गैंडे मिलेंगे और सड़क के एकदम नजदीक मिलेंगे”, ड्राइवर ने कहा।
“और अगर न मिले तो? एक गैंडा दिख रहा है। इसे ही निहारने दो, दादा।”
काजीरंगा नाम सुनते ही गैंडे की छवि बनती है और गैंडा नाम सुनते ही काजीरंगा दिमाग में आता है। दोनों एक-दूसरे के पर्याय कहे जा सकते हैं। मुझे नहीं पता था कि पार्क कितना बड़ा है और ज्यादातर गैंडे इस समय कहाँ होंगे। तो एक गैंडा घास में आधा छुपा था, तो मैं इसमें खो गया। पेट पर लटकती खाल और ऊपर बैठा एक बगुला।
ड्राइवर भी ऊब गया और बाकी सभी भी। आखिरकार गाड़ी चला ही दी। मुझे तसल्ली नहीं थी। मैं इस एक को ही घास से निकलते देखना चाहता था। मुझे नहीं पता था कि कुछ ही आगे अनगिनत गैंडे सड़क के एकदम नजदीक होंगे।
मैं तो हैरान रह गया यह देखकर। नेशनल पार्कों में बढ़ती व्यावसायिकता को देखकर मेरा कभी मन नहीं होता था जाने का। प्रवेश शुल्क, सफारी, फोरेस्ट हट्स और फिर तमाम तरह के प्रतिबंध – कभी मन नहीं होता था। आज पहली बार ये सब काम किए। और पहली बार एहसास हो रहा है कि नेशनल पार्क क्यों खास होते हैं।
जंगली हाथियों में और जंगली भैंसों में किसी की दिलचस्पी नहीं थी, सिवाय मेरे। गैंडे समेत ये तीनों बड़े शाकाहारी जानवर एक ही मैदान में अपना भोजन साझा कर रहे थे। इनके बीच में बारहसिंगे और पक्षी तो खिलौने-से लग रहे थे। मन करने लगा कि एक-दो दिन रुकना चाहिए यहाँ, लेकिन आज हमारी यात्रा का आखिरी दिन था और दिन का भी आखिरी समय था।
“ये लोग फरवरी में सारी हाथी-घास को जला देते हैं। तब सभी जानवर स्पष्‍ट देखे जा सकते हैं। बाघ भी आसानी से दिख जाता है।” ड्राइवर ने बताया।
“क्यों? जला क्यों देते हैं?”


ये हाल ही में प्रकाशित हुई मेरी किताब ‘मेरा पूर्वोत्तर’ के ‘असम के आर-पार फिर से’ चैप्टर के कुछ अंश हैं। किताब खरीदने के लिए नीचे क्लिक करें:








नेशनल पार्क में कुछ कदम चलते ही आपको ये सब दिखने लगते हैं

जलक्रीड़ा का आनंद लेता गैंडा




गैंडा निःसंदेह काजीरंगा का राजा है... लेकिन भैंसे भी मंत्री से कम नहीं...



यही घास गैंडों की शरणस्थली है














कपिल चौधरी के साथ





यह बाढ़ का पैमाना है... 2017 में मानसून में भयंकर बाढ़ आई थी और सैंकड़ों जानवरों को नेशनल पार्क छोड़ना पड़ा था...




और यह रहा हमारा और इंदौर वालों का ग्रुप फोटो...

अगले दिन दिल्ली के लिए वापसी

ब्रह्मपुत्र भारत से बांग्लादेश में प्रवेश कर रहा है... इस फोटो में दोनों ही देश दिख रहे हैं... लेकिन सीमा-रेखा की पहचान मुश्किल है...

बादलों के ऊपर







और मोटरसाइकिल कहाँ गई? उसे गुवाहाटी ही छोड़ दिया। जल्द ही फिर आएँगे और बाकी पूर्वोत्तर देखेंगे।







1. “मेरा पूर्वोत्तर”... यात्रारंभ
2. “मेरा पूर्वोत्तर”... गुवाहाटी से शिवसागर
3. “मेरा पूर्वोत्तर” - शिवसागर
4. “मेरा पूर्वोत्तर” - चराईदेव: भारत के पिरामिड
5. “मेरा पूर्वोत्तर” - अरुणाचल में प्रवेश
6. “मेरा पूर्वोत्तर” - नामदफा नेशनल पार्क
7. “मेरा पूर्वोत्तर” - नामदफा से नामसाई तक
8. “मेरा पूर्वोत्तर” - तेजू, परशुराम कुंड और मेदू
9. “मेरा पूर्वोत्तर” - गोल्डन पैगोडा, नामसाई, अरुणाचल
10. “मेरा पूर्वोत्तर” - ढोला-सदिया पुल - 9 किलोमीटर लंबा पुल
11. “मेरा पूर्वोत्तर” - बोगीबील पुल और माजुली तक की यात्रा
12. “मेरा पूर्वोत्तर” - माजुली से काजीरंगा की यात्रा
13. “मेरा पूर्वोत्तर” - काजीरंगा नेशनल पार्क




Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

पुस्तक-चर्चा: पिघलेगी बर्फ

पुस्तक मेले में घूम रहे थे तो भारतीय ज्ञानपीठ के यहाँ एक कोने में पचास परसेंट वाली किताबों का ढेर लगा था। उनमें ‘पिघलेगी बर्फ’ को इसलिये उठा लिया क्योंकि एक तो यह 75 रुपये की मिल गयी और दूसरे इसका नाम कश्मीर से संबंधित लग रहा था। लेकिन चूँकि यह उपन्यास था, इसलिये सबसे पहले इसे नहीं पढ़ा। पहले यात्रा-वृत्तांत पढ़ता, फिर कभी इसे देखता - ऐसी योजना थी। उन्हीं दिनों दीप्ति ने इसे पढ़ लिया - “नीरज, तुझे भी यह किताब सबसे पहले पढ़नी चाहिये, क्योंकि यह दिखावे का ही उपन्यास है। यात्रा-वृत्तांत ही अधिक है।”  तो जब इसे पढ़ा तो बड़ी देर तक जड़वत हो गया। ये क्या पढ़ लिया मैंने! कबाड़ में हीरा मिल गया! बिना किसी भूमिका और बिना किसी चैप्टर के ही किताब आरंभ हो जाती है। या तो पहला पेज और पहला ही पैराग्राफ - या फिर आख़िरी पेज और आख़िरी पैराग्राफ।

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।