Skip to main content

पदुम- दारचा ट्रेक- पुरने से तेंगजे

इस यात्रा-वृत्तान्त को आरम्भ से पढने के लिये यहां क्लिक करें
आज देश में स्वतन्त्रता दिवस मनाया जा रहा था और हम जांस्कर के दुर्गमतम स्थान पर छोटे से गांव के छोटे से खेत में तम्बू लगाये पडे सो रहे थे। हमें तिरंगा देखना था और दो घरों के गांव पुरने में इसकी कोई सम्भावना नहीं थी। उम्मीद थी कि आगे बढेंगे तो कहीं किसी बडे गांव में स्कूल मिलेगा और हम तिरंगा देख सकेंगे।
आगे बढने से पहले थोडा सा भूतकाल में लौटते हैं। कल की बात है। जब हम फुकताल से पुरने आये तो हमें घोडे वाला मिला। यह वही घोडे वाला था जो हमें परसों शाम अनमो से चा के रास्ते में मिला था और हमने उसे सुबह पुरने में मिलने को कहा था। जिस समय हमारी घोडे वाले से बात हुई थी, उस समय हमारा इरादा पुरने रुकने का ही था लेकिन बाद में अन्धेरा हो गया तो इरादा बदल गया और हम चा रुक गये। हालत हमारी तब ऐसी थी कि हम इस वाकये को भूल गये।
अब आगे क्या हुआ, यह भी जान लीजिये। वो घोडे वाला तेंगजे का था जो पुरने से भी करीब 15 किलोमीटर आगे है। वह पहले अपने घर गया। उसे पुरने तक पहुंचने में ही अन्धेरा हो गया होगा। अपने घर वह कम से कम दस ग्यारह बजे रात को पहुंचा होगा। फिर रात को ही वहां से पुरने लौट आया और सुबह हमें ढूंढने लगा। लेकिन हम वहां होते तो उसे मिलते भी। तब हम चा में थे और फुकताल जाने वाले थे। वह हमें ढूंढता रहा लेकिन हम नहीं मिले। फिर दोपहर को प्रकाश जी और विधान का सामान लेकर एक आदमी पुरने गया। आपको याद होगा कि हमने आठ सौ रुपये में सामान चा से पुरने पहुंचाने के लिये एक आदमी को कहा था और खाली हाथ फुकताल चले गये थे। उस आदमी ने वहां हमारे बारे में बताया। उससे हमने किसी घोडे वाले को तैयार करने को भी कहा था। उसने एक घोडे वाले को तैयार कर दिया। अब पुरने में दो घोडे वाले ऐसे हो गये जो हमारा इंतजार कर रहे थे।
छोटा सा गांव पुरने; हर किसी को हमारा सब मामला पता चल गया। तेंगजे के घोडे वाले को भी। तेंगजे वाले ने दूसरे घोडे वाले से बताया होगा कि हमारी बात उससे परसों ही हो गई थी इसलिये वह बडा दावेदार है। यह सुनकर दूसरा घोडे वाला चला गया। जब हम शाम को फुकताल गोम्पा देखकर पुरने आये तो तेंगजे वाला मिला। उसने शिकायत की कि हमने पुरने रुकने को कहा था और रुक गये चा गांव में। हमने अपनी मजबूरी बताई। उसने कहा कि वो आज पूरे दिन हमारा इन्तजार करता रहा और इस वजह से उसकी आज की दिहाडी का नुकसान हुआ है। अगर हमारा इन्तजार न करता तो वो अपने घोडे को कहीं और लगा देता। कमाई के लिहाज से आजकल पीक सीजन चल रहा है। उसने आज का भी किराया मांग लिया जो आठ सौ रुपये तय हुआ था।
यह सुनकर विधान फट पडा। बडी जोरदार बहस हुई। मारपीट नहीं हुई, बस इतनी कमी रह गई। घोडे वाला भी तैश में आ गया और आज की दिहाडी पर अड गया और कल से पन्द्रह सौ रुपये प्रतिदिन किराया निर्धारित कर दिया। 
...
इस यात्रा के अनुभवों पर आधारित मेरी एक किताब प्रकाशित हुई है - ‘सुनो लद्दाख !’ आपको इस यात्रा का संपूर्ण और रोचक वृत्तांत इस किताब में ही पढ़ने को मिलेगा।
आप अमेजन से इसे खरीद सकते हैं।



पुरने में अपना रात का ठिकाना


प्रकाश जी और विधान के साथ इस यात्रा का आखिरी भोजन

पुरने का पुल... इसे पार करके दाहिने रास्ता अनमो व पदुम जाता है जबकि सीधे शिंगो-ला। प्रकाश जी और विधान दाहिने मुड गये और मैं सीधे चला गया।

शिंगो-ला से आती नदी जो पुरने में बारालाचा-ला से आती सारप नदी में मिल जाती है।


सामान ढोने का एकमात्र साधन


रास्ते में मिला एक छोटा सा गांव- नाम ध्यान नहीं।


मार्लिंग जाने के लिये पुल


तेस्ता गांव में प्रवेश



खराब मौसम और धूल भरा ठण्डा तूफान पास आता हुआ।


तेस्ता गांव

कूरू गांव में प्रवेश


इसमें कोई नहीं था। यहीं मैंने आधे-पौने घण्टे तक आराम किया।


तीर की नोक पगडण्डी पर है, नदी से बिल्कुल सटकर।

तेंगजे के पास


तेंगजे गांव

इसी पुल से तेंगजे में प्रवेश करना है।


आज का ठिकाना


तेंगजे की स्थिति। नक्शे में इसे दांग्जे लिखा है। नक्शे को छोटा व बडा करके भी देखा जा सकता है।



अगला भाग: पदुम दारचा ट्रेक- तेंगजे से करग्याक और गोम्बोरंजन

पदुम दारचा ट्रेक
1. जांस्कर यात्रा- दिल्ली से कारगिल
2. खूबसूरत सूरू घाटी
3. जांस्कर यात्रा- रांगडुम से अनमो
4. पदुम दारचा ट्रेक- अनमो से चा
5. फुकताल गोम्पा की ओर
6. अदभुत फुकताल गोम्पा
7. पदुम दारचा ट्रेक- पुरने से तेंगजे
8. पदुम दारचा ट्रेक- तेंगजे से करग्याक और गोम्बोरंजन
9. गोम्बोरंजन से शिंगो-ला पार
10. शिंगो-ला से दिल्ली वापस
11. जांस्कर यात्रा का कुल खर्च




Comments

  1. बहुत सुन्दर वर्तान्त। और फोटो का तो क्या कहना.

    ReplyDelete
  2. अदभुत जगह, अदभुत नज़ारे और अदभुत नीरज ! चल अकेला चल अकेला.................
    दानो साथियों से अलग होते ही पोस्ट में भी रफ़्तार आ गयी है।

    ReplyDelete
  3. नीरज भाई वास्तव मे विधान भाई और प्रकाश जी का यात्रा छोड़ना दुखद था। लेकिन रास्ता भी कुछ नही था। खैर अगर आपके स्थान पर मै होता तो उनके साथ ही वापस लोट जाता लेकिन आपने ऐसा न करके अदभुद साहस का परिचय दिया है। दुर्गुम यात्रा के शानदार दुर्लभ फोटो। आगे की यात्रा का इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. वापस तो मैं भी लौट आता लेकिन यह सर्वसम्मति से लिया गया फैसला था जिसमें विधान और प्रकाश जी को भी कोई आपति नहीं थी।

      Delete
  4. घर के कमरे में बैठे बैठे ही आप के साथ ट्रेकिंग का आनन्द ले लिया, अद्भुत और अद्वितीय। शुक्रिया,नीरज जी। दोनों साथियों का बिछुङना दुखद रहा।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर यात्रा वृतांत ,फोटोग्राफी तो लाजवाब रहता है आपका ,फोटो सेन्स गजब का है

    ReplyDelete
  6. यात्रा मे कुछ रुकावट के बावजूद सफल यात्रा और जानदार पहाड़ो के शानदार फोटो ।

    ReplyDelete
  7. ऐसे ही एक गुजरती डिश बनती है जिसे दाल ढोकला कहते है इसमें भी तुअर की दाल में कच्चा आटे की रोटिया बनाकर शक़्क़र पारे की तरह काट कर उबलते है पर वो बहुत स्वादिष्ट लगती है

    ReplyDelete
    Replies
    1. गुजरती डिश या गुजराती डिश???

      Delete
    2. तू भी ना .... हा हा हा हा हा गुजराती डिश सही कहा

      Delete
  8. भाई जब हम ग्रुप मे यात्रा कर रहे होते है,तब हमारी मानसीकता अलग होती पर जब ग्रुप टूट जाता है ओर यात्रा अकेले करनी होती तब मन मे क्या विचार आते रहते है,बताईयेगा जरूर? ओर आपने कैसे यह समय कैसे बिताया

    ReplyDelete
    Replies
    1. यह सब बताया है त्यागी जी...

      Delete
  9. रोमांचकारी लेख....

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

रेल एडवेंचर- अलवर से आगरा

हां तो, पिछली बार आपने पढा कि मैं रेवाडी से अलवर पहुंच गया। अलवर से बांदीकुई जाना था। ट्रेन थी मथुरा-बांदीकुई पैसेंजर। वैसे तो मुझे कोई काम-धाम नहीं था, लेकिन रेल एडवेंचर का आनन्द लेना था। मेरा तरीका यही है कि किसी भी रूट पर सुबह के समय किसी भी पैसेंजर ट्रेन में बैठ जाओ, वो हर एक स्टेशन पर रुकती है, स्टेशन का नाम लिख लेता हूं, ऊंचाई भी लिख लेता हूं, फोटो भी खींच लेता हूं। हर बार किसी नये रूट पर ही जाता हूं। आज रेवाडी-बांदीकुई रूट पर निकला था। अलवर तक तो पहुंच गया था, अब आगे जाना है।