Skip to main content

अब फोटो खींचकर पैसे कमाइए...

गोम्बोरंजन से शिंगो-ला पार

इस यात्रा वृत्तान्त को आरम्भ से पढने के लिये यहां क्लिक करें
आज तारीख थी 17 अगस्त 2014
आपको ध्यान होगा कि मैं पवित्र गोम्बोरंजन पर्वत के नीचे एक अकेले कमरे में सो गया था। रात में एकाध बार आंख भी खुली थी लेकिन मैं चूंकि सुरक्षित स्थान पर था, इसलिये कोई डर नहीं लगा। हां, एकान्त में होने का एक अजीब सा डर तो होता ही है।
साढे सात बजे आंख खुली। कुछ बिस्कुट खाये, पानी पीया, बिस्तर समेटा और सवा आठ बजे तक निकल पडा। अब ऊंचाई बढने लगी थी और रास्ता भी ऊबड खाबड होने लगा था। जिस स्थान पर मैं सोया था, वो जगह समुद्र तल से 4250 मीटर पर थी, अब जल्दी ही 4400 मीटर भी पार हो गया। वैसे तो अभी भी बडी चौडी घाटी सामने थी लेकिन इसमें छोटी छोटी कई धाराओं के कारण रास्ता बिल्कुल किनारे से था जहां बडे-बडे पत्थरों की भरमार थी।
सामने बहुत दूर खच्चरों का एक बडा दल इस घाटी को पार कर रहा था। कैमरे को पूरा जूम करके देखा तो पता चला कि उन पर कुछ राशन लदा है और कुछ लोग पैदल भी चल रहे हैं। निश्चित ही वह एक ट्रेकिंग ग्रुप होगा जो आज लाखांग में रुका होगा। आज शिंगो-ला पार कर लेगा।

लाखांग मुझे दिख नहीं रहा था लेकिन उस ग्रुप के कारण अन्दाजा हो गया कि यह अब ज्यादा दूर भी नहीं है। इतना तो निश्चित है कि वह ग्रुप मेरे रुकने के स्थान से आज नहीं गुजरा है।
दस बजे मैं लाखांग पहुंच गया। यह कोई गांव नहीं है। शिंगो-ला से कुछ पहले समुद्र तल से 4470 मीटर की ऊंचाई पर एक ढाबा है जहां रात रुक सकते हैं और खाना भी मिल जाता है। ढाबेवाले ने बताया कि तत्काल चाहिये तो मैगी मिलेगी तथा प्रतीक्षा कर सकते हैं तो रोटी मिल जायेगी। जब रोटी मिल रही है तो भला मैं मैगी क्यों खाने लगा? वह रोटी बनाने की तैयारी करने लगा और मैं रजाईयों के ढेर पर पडकर सो गया। आधे घण्टे बाद जब रोटी बन गई तो उसने ही मुझे जगाया।
...
इस यात्रा के अनुभवों पर आधारित मेरी एक किताब प्रकाशित हुई है - ‘सुनो लद्दाख !’ आपको इस यात्रा का संपूर्ण और रोचक वृत्तांत इस किताब में ही पढ़ने को मिलेगा।
आप अमेजन से इसे खरीद सकते हैं।



गोम्बोरंजन पर्वत के नीचे जहां मैं सोकर उठा था।



यही लाखांग है। नीले-पीले तिरपाल दिख रहे हैं, वह दुकान है।



इस पर लिखा है- SAVE: Shingo-La, Zanskar, Himalaya, India, Mother Earth.


फ्यांग







अब शिंगो-ला नजदीक है।


इन्हीं दरारों से पता चलता है कि यह ग्लेशियर है।

बर्फ के ऊपर कालान्तर में पत्थर आ जाते हैं जिससे बर्फ ढक जाती है। 



शिंगो-ला से लिया गया फोटो। बीच में गोम्बोरंजन पर्वत दिख रहा है जिसके नीचे मैं रात रुका था।

शिंगो-ला 5000 मीटर से ज्यादा ऊंचाई पर स्थित एक ऐसा दर्रा है जिसे पार करना आसान है।

शिंगो-ला की झील











लामाजी की जेसीबी मशीन रास्ता बनाती हुई




शिंगो-ला की स्थिति। नक्शे को छोटा व बडा किया जा सकता है।



अगला भाग: शिंगो-ला से दिल्ली वापस

पदुम दारचा ट्रेक
1. जांस्कर यात्रा- दिल्ली से कारगिल
2. खूबसूरत सूरू घाटी
3. जांस्कर यात्रा- रांगडुम से अनमो
4. पदुम दारचा ट्रेक- अनमो से चा
5. फुकताल गोम्पा की ओर
6. अदभुत फुकताल गोम्पा
7. पदुम दारचा ट्रेक- पुरने से तेंगजे
8. पदुम दारचा ट्रेक- तेंगजे से करग्याक और गोम्बोरंजन
9. गोम्बोरंजन से शिंगो-ला पार
10. शिंगो-ला से दिल्ली वापस
11. जांस्कर यात्रा का कुल खर्च




Comments

  1. रात का समय, सुनसान रास्ता और अकेलापन ऐसे में गधा भी भालू या तेंदुआ नज़र आ सकता है.!
    खैर हमेशा की तरह शानदार फोटो, यात्रा अब अपने अंतिम पड़ाव की ओर बढ़ रही है.!
    बहुत बढ़िया नीरज भाई..!

    ReplyDelete
  2. घुमक्कड़ी का शानदार नमूना। फोटोग्राफ्स हमेशा की तरह लाजवाब।
    आपने ये तो बताया ही नहीं की रोटी कैसी थी। मोटी या पतली।

    ReplyDelete
    Replies
    1. रोटी ठीक ही थी। कश्मीर जैसी पतली भी नहीं थी और आम लद्दाखी जैसी मोटी भी नहीं थी।

      Delete
  3. यार बडे साहसी व्यक्ति हो,अकेले ही निकल जातेहो.

    ReplyDelete
    Replies
    1. हां त्यागी जी, ऐसे ही हैं हम तो...

      Delete
  4. yeh sab aap hi kar sakte ho bnai ham to aap ko dekh ke hi kush ho jaate hai

    ReplyDelete
  5. Shingo la k baad himachal me apka swagat hai :)

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया नीरज भाई.

    ReplyDelete
  7. आप के साहसिक यात्रा और जानदार फोटो का कोई जबाब नहीं है।बाकी रेल्वे यात्रा के बाद भविष्य मे एवरेस्ट पर्वत पर चढ़ने का प्लान भी रखिएगा ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. नहीं नहीं... एवरेस्ट का न कोई प्लान है और न ही कोई इच्छा।

      Delete
  8. बहुत बढ़िया नीरज भाई.

    ReplyDelete
  9. बहुत गजब। आपको यात्राओं के लिए शक्ति मिलती रहे, यही कामना है। संस्‍मरण कब लिखते हैं। वहीं यात्रा के दौरान कहीं ठहरने पर या यात्रा से लौटकर दिल्‍ली आकर, इतना बताने का कष्‍ट करेंगे, जिज्ञासा है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. विकेश जी नीरज जी यात्रा वृतांत दिल्ली आकर ही लिखते है..

      Delete
    2. नहीं, ठहरने के दौरान ताकत ही नहीं बचती कि संस्मरण लिखूं। हमेशा वापस दिल्ली आकर ही सबकुछ लिखता हूं।

      Delete
  10. जानदार फोटो नीरज भाई

    ReplyDelete
  11. शानदार , रोमांचक यात्रा.... शानदार फोटो...

    ReplyDelete
  12. मैंने याक शिमला और खज्जियार में देखे है वो बहुत गुस्से वाले होते है -- एक - बात जरूर है नीरज ,तुम साथियो के साथ ज्यादा कम्फर्ट महसूस करते हो की अकेले ,मेरे ख्याल से तो तुमको इस खूबसूरत जगह पर साथियो के साथ ही आना चाहिए

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी कुछ प्रमुख ऊँचाईयाँ

बहुत दिनों से इच्छा थी एक लिस्ट बनाने की कि मैं हिमालय में कितनी ऊँचाई तक कितनी बार गया हूँ। वैसे तो इस लिस्ट को जितना चाहे उतना बढ़ा सकते हैं, एक-एक गाँव को एक-एक स्थान को इसमें जोड़ा जा सकता है, लेकिन मैंने इसमें केवल चुनिंदा स्थान ही जोड़े हैं; जैसे कि दर्रे, झील, मंदिर और कुछ अन्य प्रमुख स्थान। 

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।