Skip to main content

मैं जंगल में भटक गया

इस यात्रा वृत्तान्त को शुरू से पढने के लिये यहां क्लिक करें
कुल्लू के पास बिजली महादेव का मन्दिर है। यहां से पूरा कुल्लू शहर और भून्तर साफ-साफ दिखाई देते हैं। जाने का एकमात्र रास्ता कुल्लू से ही है। लेकिन मैने इरादा किया भून्तर की तरफ से उतरने का। उतरने लगा तो कुछ चरवाहे मिले। उन्होने रास्ता बता दिया। उनके बताये रास्ते पर चलते हुए कुछ दूर जाने पर नीचे उतरती सीढियां मिलीं। सामने बहुत दूर पार्वती नदी दिख रही थी और मणिकर्ण जाने वाली सडक भी। सडक पर चलती हुईं कारें, बसें बहुत नन्ही-नन्ही दिख रही थीं। शाम के पांच बजे के आसपास का टाइम था। मैने अपना लक्ष्य रखा दो घण्टे में यानी सात बजे तक नीचे नदी तक उतरने का। पहाडों का जो थोडा बहुत अनुभव था, उससे अन्दाजा लगाया कि दो घण्टे में नदी तक उतरना बहुत मुश्किल काम है। इसीलिये चलने की स्पीड भी बढा दी।

नीचे दूर-दूर गांव ही दिख रहे थे। पहाडों पर ऊपर चढने में जितना ज्यादा जोर पडता है, नीचे उतरने में बिल्कुल भी नहीं पडता। सांस भी नहीं फूलती। इसलिये मेरे पास रुककर सांस लेने का भी बहाना नहीं था। तेजी से लगातार उतरते जाना था। एक जगह पर रास्ते के दो टुकडे हो गये मतलब एक टुकडा दाहिने जा रहा था और एक बायें। भून्तर भी दाहिनी तरफ ही था। गौर से देखा तो लगा कि दाहिने वाला रास्ता ज्यादा दूर नहीं जा रहा है। बायें वाले पर चल पडा। बस, यही गलती कर दी। जैसे जैसे चलता गया, भून्तर दूर होता गया। फिर भी सामने पार्वती नदी थी। सोचा कि नीचे उतरकर मणिकर्ण रोड से कोई गाडी पकड लूंगा।
कुछ दूर चला तो तीन-चार कुत्ते खडे थे। देखते ही भौंकने लगे। वापस भागने का तो मतलब ही नहीं था। पत्थर उठाकर फेंकता तो क्या पता वे मुझ पर ही टूट पडते। पहाडी कुत्ते थे, मोटे-मोटे, झबरे। डरता-डरता पास पहुंचा तो वे पीछे हटने लगे। और आखिर में इधर-उधर हो गये। यहां से तो बच गया। एक गांव में पहुंचा और जल्दी ही बाहर भी निकल गया। छोटे-छोटे गांव होते हैं।
छह बज गये और अभी भी लग रहा था कि उतनी ही ऊंचाई पर हूं। नदी भी उतनी ही दूर लग रही थी। पीछे भून्तर भी नहीं दिख रहा था। तभी एक बात पर गौर किया कि मैं नीचे उतर ही नहीं रहा हूं। जिस रास्ते पर मैं चल रहा था वो कभी थोडा नीचे जाता फिर उतना ही ऊपर आ जाता। कुल मिलाकर एक ही लेवल में जा रहा था। इसी लेवल में यह कई गांवों को जोड रहा था। यह ख्याल आते ही मैं नीचे उतरने का कोई और रास्ता ढूंढने लगा। भूख लग रही थी। यह इलाका पहाड के पूर्वी हिस्से में था, इसलिये सूरज नहीं दिख रहा था। यहां अन्धेरा भी जल्दी हो जाता है। नदी के उस पार वाले पहाड पर अभी भी धूप थी।
यह सोचते ही तेजी से नीचे उतरने की ललक बढ गयी। कहते हैं कि जहां चाह, वहां राह। एक जगह काफी नीचे तक एक नन्ही सी लकीर जाती दिखी। इसी पर हो लिया। नीचे चीड का जंगल था। चीड के जंगल में भूत के किस्से काफी सुने थे। अकेला होने के कारण डर सा भी लग रहा था। अब एक विचार और आया। मणिकर्ण रोड नदी के उस तरफ है। यानी मुझे नदी पार करनी ही पडेगी। वो भी पार्वती नदी, जिसे हिमालय की तेज बहती नदियों में गिना जाता है। यहां दूर-दूर तक पुल भी नहीं मिलते। लेकिन वो तो बाद की बात है, पहला लक्ष्य है नदी तक पहुंचना।
चीड के जंगल में ही एक पगडण्डी भी मिल गयी। नीचे जा रही थी। झाडियों के बीच से होती हुई। (काफी हो गया ना? चलिये, कुछ चित्र देखिये)

KULLU
यह बन्दा यहां बैठकर भारत-श्रीलंका का मैच सुन रहा था। रेडियो पर।


KULLU
यह वो रास्ता है जो मुझे बिजली महादेव से कुछ नीचे से मिला था।


KULLU
एक हिमाचली गांव


KULLU
बताइये यह क्या है?


KULLU
सेब है यह। लाल सुर्ख है लेकिन स्वाद खट्टा मीठा था। ऊपर वाले पेड से तोडकर कई सेब खा डाले।


KULLU
जैसे-जैसे नीचे उतर रहा हूं, भून्तर भी दूर होता जा रहा है।


KULLU
यह क्या है?


KULLU
वो पगडण्डी शायद नीचे भून्तर जा रही है लेकिन मैंने उसे छोड दिया। यह गलती मुझ पर बहुत भारी पडी।


KULLU
चलते जाओ, चलते जाओ। कभी ना कभी तो नीचे पहुंचेंगे ही।


KULLU
देखने में तो यह कोई पुराने मन्दिर का खण्डहर लग रहा है। लेकिन सामने दीवार है। पहाड पर जगह जगह पानी फूटता है, जिसे गांव वाले पीने के काम में लाते हैं। लगता है कि कभी यहां भी पानी निकलता होगा, जिसके ऊपर छत बना दी और सामने दीवार इसलिये बना दी ताकि जानवर ना घुस सकें। हालांकि अब यह सूखा था।


KULLU
दो घण्टे हो गये उतरते-उतरते। अब भी नदी उतनी ही दूर है। देखता हूं, इस जंगल में नीचे उतरता हूं, शायद कहीं पर कुछ बात ही बन जाये।


KULLU
ओ हो हो हो। इसे कहते हैं सांयकालीन नजारा।


KULLU
पेड गिर गये तो गिर गये। कोई उठाने वाला नहीं है।


KULLU
यह हल्की सी पगडण्डी लग रही है। चलो, देखते हैं कहां पहुंचते हैं।


KULLU
अरे, यह तो और घनी झाडियों में जा रही है। लेकिन जा तो रही है।


KULLU
आ हा हा। दिख गयी मंजिल। सामने एक मोटर मार्ग दिख रहा है।


KULLU
ये रहा मोटर मार्ग। इससे नीचे नदी है, नदी के उस तरफ मणिकर्ण रोड। मेरा लक्ष्य है मणिकर्ण रोड पर पहुंचना। वहां से मणिकर्ण भी जा सकता हूं और कुल्लू भी। इस सडक पर चलता हूं, यह पक्का मणिकर्ण रोड से ही निकली होगी।


KULLU
इस तरफ तो अन्धेरा होने लगा है लेकिन उस तरफ अभी भी धूप है।


KULLU
हां, पार्वती नदी अब कुछ पास दिखने लगी है। उस तरफ मणिकर्ण रोड दिख रही है।


KULLU
एक पत्थर पर कैमरा रखा, दस सेकण्ड भरे और सामने खडा हो गया। अरे, यह क्या? केवल पैर ही आये हैं। दोबारा करता हूं। हां, अब ठीक है।


KULLU
घुमावदार मणिकर्ण रोड


KULLU MAP

कुछ आगे नदी पर एक पुल था, पुल पार करके गाडी की प्रतीक्षा करने लगा। यहां से आधा किलोमीटर दूर छरोड नाला है। छरोड नाला से भून्तर की दूरी पांच किलोमीटर है। यहां से मणिकर्ण की कोई गाडी नहीं मिली। लेकिन एक कुल्लू की गाडी मिल गयी। रात नौ बजे तक कुल्लू पहुंचा। बस अड्डे के पास में ही एक कमरा लिया और सुबह जल्दी उठने का वादा करके सो गया।


मणिकर्ण खीरगंगा यात्रा
1. मैं कुल्लू चला गया
2. कुल्लू से बिजली महादेव
3. बिजली महादेव
4. कुल्लू के चरवाहे और मलाना
5. मैं जंगल में भटक गया
6. कुल्लू से मणिकर्ण
7. मणिकर्ण के नजारे
8. मणिकर्ण में ठण्डी गुफा और गर्म गुफा
9. मणिकर्ण से नकथान
10. खीरगंगा- दुर्गम और रोमांचक
11. अनछुआ प्राकृतिक सौन्दर्य- खीरगंगा
12. खीरगंगा और मणिकर्ण से वापसी

Comments

  1. मस्त दोस्त.. क्या घूम के आये हो.. और कितना सरल शब्दों में लिखा डाला....

    ReplyDelete
  2. ईश्वर बचाये कि आपके साथ कभी घूमने न जाना पड़े..वरना हम तो आधे बचेंगे. :)


    वैसा पहला तो आपने बता दिया कि सेब है और दूसरा, लेवेन्डर का फूल!

    ReplyDelete
  3. neeraj,
    mesmerizing post.
    तुम्हें तो कोई एडवेंचर ट्रेल वाली कंपनी खोल लेनी चाहिये।
    फ़ोटो बहुत शानदार, पोस्ट तो शानदार होती ही है तुम्हारी
    और वो फ़ोटो क्या धतूरे के फ़ूल की हैं?

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चित्र हैं।

    ReplyDelete
  5. आपने हमें भी जंगल में भटका दिया था .. रास्‍ता देखा तो जान में जान आयी !!

    ReplyDelete
  6. यात्रा वृत्तान्त बहुत सुन्दर रहा!

    ReplyDelete
  7. मजेदार और रोमांचक .

    ReplyDelete
  8. कमाल का आदमी सै भाई तू तो
    वादा किससे किया था??
    शानदार फोटोज के लिये धन्यवाद
    Man vs. Wild याद आ गया।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  9. पिछली पोस्ट पढ़कर लग रहा था कि आप भटकेंगे अवश्य । :)

    ReplyDelete
  10. भाई, ये घुमक्कड़ी ऐसे ही बनी रहे. बहुत रोचक पोस्ट और तसवीरें. आपका ब्लॉग मुझे सबसे बढ़िया बढ़िया ब्लॉग में से एक लगता है. बहुत बड़ा फैन हूँ मैं इसका, नीरज.

    ReplyDelete
  11. वाह वाह नस्त मोला जी आप ने तो खुब घुमाया, लेकिन हां तो डर ही गये कि अगर रास्ता नही मिला तो..... सभी चित बहुत सुंदर लगे यह सेब का पेड तो जाना पहचान है, हमारे यहां ऎसे पॆड भी बहुत मिलते है, ओर यह फ़ुल जिस के बारे आप ने पुछा है इस का नाम याद नही आ रहा, लेकिन इस का पोधा आदमी से बडा होता है
    धन्यवाद इस बहुत सुंदर पोस्ट के लिये

    ReplyDelete
  12. majedar post.. laga hamne bhi aapke sath ghoom liya..

    ReplyDelete
  13. वाह एक से बढ़कर एक शानदार चित्र |

    ReplyDelete
  14. वाह जी मान गए. बड़ी हिम्मत दिखाई. सुन्दर संस्मरण.

    ReplyDelete
  15. नीरज जी...भटक तो मैने भी गया आपने इतना सजीव और बढ़िया वर्णन कर . की देखते ही मन इन्ही चित्रों में रम गया...बहुत उम्दा और खूबसूरत प्रस्तुति......धन्यवाद नीरज जी...

    ReplyDelete
  16. इस तरह के जोखिम उठाने की यही उम्र है भाई मगर जंगल-फंगल जाते हुए कोई कट्टा,तमंचा या रामपुरी न सही एक भीमसेनी लट्ठ ज़रूर ले जाया करो !काम आता है . आगे तुम्हारी मर्ज़ी मगर मेरा यही अनुभव है कि नमी वाली जगहों में कई बार जोंक चिपट जाती हैं और अगर स्विस -नाइफ़ न हो तो मुश्किल हो जाती है !

    ReplyDelete
  17. आपकी घुमक्कड़ी की जितनी प्रशंशा की जाये कम है...आज के नौजवानों के लिए आप एक आदर्श हैं...जियो नीरज भाई...अत्यधिक रोचक वर्णन और उत्तम फोटोग्राफी...
    नीरज

    ReplyDelete
  18. आपकी घुमक्कड़ी को नमन. प्रशंसनीय यात्रा वृत्तांत. आज ही मैने दिसम्बर २००८ में लिखी कुमायूं यात्रा के सातों भाग पढ़े.इतना सजीव चित्रण और इतनी बारीकी से! पढ़ कर अभिभूत हूँ

    ReplyDelete
  19. कल आधा दिन लग गया इस ब्लाग पै पढणे में और कमेंट करना ही भूल ग्या।

    और के हाल चाल सै?

    राम राम

    ReplyDelete
  20. चलो पहाड़ की चोटी पर रास्ता भूले. मैं तो एक बार घने जंगल में भटक गया था और वो भी ऐसी जगह जहां पहाड़ियों की तलहटी में भालू भी थे व कंधे पर कम से कम १५ किलो वज़न भी रहा होगा. इन जगहों की सबसे बड़ी दिक्क़त ये भी है की कोई मिलता भी नहीं जिससे कुछ पूछ लिया जाए. कहीं कोई भूले-भटके मिल भी गया तो ज़रूरी भी नहीं कि वो आपकी सहायता कर ही सकेगा. पर इसमें भी एक मज़ा है.

    ReplyDelete
  21. वाह एक से बढ़कर ए

    ReplyDelete
  22. चीड़ के पेड़ों में भूत वाली बात तो बताई नही न ही उस पेज में कुछ मिला है

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

जिम कार्बेट की हिंदी किताबें

इन पुस्तकों का परिचय यह है कि इन्हें जिम कार्बेट ने लिखा है। और जिम कार्बेट का परिचय देने की अक्ल मुझमें नहीं। उनकी तारीफ करने में मैं असमर्थ हूँ क्योंकि मुझे लगता है कि उनकी तारीफ करने में कहीं कोई भूल-चूक न हो जाए। जो भी शब्द उनके लिये प्रयुक्त करूंगा, वे अपर्याप्त होंगे। बस, यह समझ लीजिए कि लिखते समय वे आपके सामने अपना कलेजा निकालकर रख देते हैं। आप उनका लेखन नहीं, सीधे हृदय पढ़ते हैं। लेखन में तो भूल-चूक हो जाती है, हृदय में कोई भूल-चूक नहीं हो सकती। आप उनकी किताबें पढ़िए। कोई भी किताब। वे बचपन से ही जंगलों में रहे हैं। आदमी से ज्यादा जानवरों को जानते थे। उनकी भाषा-बोली समझते थे। कोई जानवर या पक्षी बोल रहा है तो क्या कह रहा है, चल रहा है तो क्या कह रहा है; वे सब समझते थे। वे नरभक्षी तेंदुए से आतंकित जंगल में खुले में एक पेड़ के नीचे सो जाते थे, क्योंकि उन्हें पता था कि इस पेड़ पर लंगूर हैं और जब तक लंगूर चुप रहेंगे, इसका अर्थ होगा कि तेंदुआ आसपास कहीं नहीं है। कभी वे जंगल में भैंसों के एक खुले बाड़े में भैंसों के बीच में ही सो जाते, कि अगर नरभक्षी आएगा तो भैंसे अपने-आप जगा देंगी।