Skip to main content

सहस्त्रधारा - द्रोणाचार्य की गुफा

देहरादून से 11-12 किलोमीटर दूर है सहस्त्रधारा। मैं अप्रैल में जब यमुनोत्री गया था तो समय मिलते ही सहस्त्रधारा भी चला गया। यह एक पिकनिक स्पॉट है लेकिन यहां का मुख्य आकर्षण वे गुफाएं हैं जिनमें लगातार पानी टपकता रहता है। यह पानी गन्धक युक्त होता है। नीचे पूरी चित्रावली दी गयी है सहस्त्रधारा में घूमने के लिये। तो शेष जानकारी चित्र देंगे:

नदी का पानी रोककर तालाब बनाये गये हैं जिनमें लोग मस्ती करते हैं।



ऐसे एक नहीं, अनगिनत तालाब हैं।


ऊपर जहां तक भी निगाह जाती है, ये ही दिखते हैं। लगता है कि दुकानदारों ने अपनी दुकान लगाई और अपने तालाब बना लिये। ऊपर जहां तक दुकानें हैं वहीं तक तालाब हैं।


यह एक गुफा है। यहां कई गुफाएं हैं। सभी में पानी टपकता है। आश्चर्य इस बात का है कि ये गुफाएं शिवालिक की पहाडियों में हैं। शिवालिक की पहाडियों का मौसम कोई ज्यादा खास नहीं होता, मैदानी मौसम जैसा ही होता है। लेकिन फिर भी इनमें बारहों महीने पानी टपकता है।


लगातार गन्धक युक्त पानी टपकने से गुफाओं में अजीब-अनोखी आकृतियां बन गयीं हैं।


अन्दर फिसलन भी नहीं है। लेकिन अन्दर जाने वाला भीग जरूर जाता है।


यह है एक गुफा में जाने का संकरा सा रास्ता।


कहते हैं कि गुरू द्रोणाचार्य ने यहां पर तपस्या की थी। गर्मी से परेशान होकर उन्होने पता नहीं किससे एक आशीर्वाद लिया कि यहां हमेशा पानी टपकता रहे, तो तब से लगातार पानी टपक रहा है।



अब एक नजर पिकनिक स्पॉट पर।


नदी के साथ-साथ ऊपर चलते जायें तो दो किलोमीटर तक तालाबों और दुकानों का सिलसिला खत्म ही नहीं होता। मैं बिल्कुल अन्त तक गया था। यहां से एक रास्ता प्रसिद्ध पर्यटक स्थल धनोल्टी भी जाता है लेकिन पैदल का रास्ता है, दो दिन लगते हैं। मैं जाऊंगा कभी। नहीं, धनोल्टी से इधर आना आसान है क्योंकि वहां से उतराई है।



भई, गुफा तो प्राचीन होंगी ही। प्राकृतिक जो हैं। इस गुफा में पानी नहीं टपक रहा था। लेकिन अनियमित आकृतियां जरूर थीं जिसका मतलब है कि कभी टपकता था।


ये रही वो आकृतियां।


छत से उल्टी लटकी हुई आकृति


सबसे अच्छी बात मुझे यहां की ये लगी कि यहां धर्म का दिखावा नहीं है। नहीं तो इनको ही कामधेनु के थन बताने वालों की कमी नहीं है। दुनिया भर की कथा-कहानियां बन जाती। वैष्णों देवी के पास की शिवखोली गुफाओं में भी तो यही हाल है।


एक फोटो अपना भी जरूरी है।


यह रास्ता नदी के साथ-साथ और ऊपर की ओर चला जाता है।



यमुनोत्री यात्रा श्रंखला
1. यमुनोत्री यात्रा
2. देहरादून से हनुमानचट्टी
3. हनुमानचट्टी से जानकीचट्टी
4. जानकीचट्टी से यमुनोत्री
5. कभी ग्लेशियर देखा है? आज देखिये
6. यमुनोत्री में ट्रैकिंग
7. तैयार है यमुनोत्री आपके लिये
8. सहस्त्रधारा- द्रोणाचार्य की गुफा

Comments

  1. गर्मी से परेशान होकर उन्होने पता नहीं किससे एक आशीर्वाद लिया कि यहां हमेशा पानी टपकता रहे, तो तब से लगातार पानी टपक रहा है।
    लगता है उनके आशीर्वाद की एक्सपायरी डेट बहुत दूर नहीं है.
    बढ़िया आलेख, धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बढ़िया घुमवा दिये यहाँ भी!

    ReplyDelete
  3. नीरज जी
    बहुत खूब आपने तो हमें भी पहुँचा दिया
    सुन्दर चित्र
    वाकई घुमक्कड़ी जिन्दाबाद

    ReplyDelete
  4. सहत्रधारा में घूमने का अपना मजा है । भहुत अच्छा लगा पढ़कर ।

    ReplyDelete
  5. बढ़िया वृतांत नीरज जी, यहाँ बीसियों बार जाता हूँ मगर इस तरह ब्लॉग पर चित्र देख मजा आ गया !

    हाँ , आपने चुनौती दी थी, यात्रा लेख लिखने की, तो अपनी पुरानी एल्बम ढूंढ रहा हूँ , मिली तो एक-आद दिन में एक पोस्ट घुमक्कड़ी पे मैं भी लगाऊंगा !

    ReplyDelete
  6. नीरज भाई , मसूरी जाने के क्रम में देहरादून तो गया हूँ , पर कभी ये जगह नहीं देखी , हाँ किताबो और अखबारों में जरुर पढ़ा था पर रोमांच नहीं आता था, की वहां जाऊ ,पर तुम्हारी रिपोर्ट पढने के बाद अब यहाँ जाना पडेगा.

    ReplyDelete
  7. सहत्रधारा में घूमने का अपना मजा है ,आपने तो हमें भी पहुँचा दिया !चित्र देख अच्छा लगा!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर चित्र ओर विवरण, यह जो उलटी लटकी आकृतियां है यह सब पानी से बनी है, पानी मै चुने की तरह से एक पत्थर का मिशरन होता है, ओर पहाडो मै बनी गुफ़ाओ मै जब पानी बहुत धीरे धीरे रिश्ता है तो वो पत्थर अपनी तह छोडता जाता है, ओर जमता जाता है, ओर फ़िर इस प्रकार की आकृतियां बन जाती है, जो देखने मै बहुत सुंदर लगती है, बहुत अच्छा लगा.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. अब आपने तो बता ही दिया इन्हें कामधेनु के थन :-)

    यहां कभी-कभी बहाव बहुत तेज होता है और पैर ना जमा कर रखे हों तो बह सकते हैं।
    4 वर्ष पहले अन्जू (मेरी पत्नी) और मैं इन तालाबों में स्नान कर रहे थे। एक मित्र ने अन्जू को रबड की ट्यूब दे दी कि इस पर बैठ जाईये। अन्जू का बैलेंस बिगडा और वो बहने लगी। मैनें उसे पकडने की कोशिश की तो मैं भी साथ बह गया। दो तालाब पार करने के बाद तीन दोस्त हमें पकड पाये और बच पाये।
    फोटुओं के लिये धन्यवाद

    प्रणाम

    ReplyDelete
  10. नीरज भाई अब लगता है कि बाकी और तमाम यात्राओं की तरह मेट्रो का रूट भी आपसे पूछ कर ही तय करना होगा...नहीं तो इस बार की ही तरह पसीने की बाल्टियां भरेंगी....
    बढ़िया चित्र....यात्रावृत्त भी बढ़िया....
    और हां हस्तिनापुर की योजना बहुत जल्दी बनेगी....कल लखनऊ जा रहा हूं, लौटते ही आपको फोन करूंगा....तो तैयार रहिएगा...

    ReplyDelete
  11. चित्रों से सजी हुई बहुत सुन्दर पोस्ट!

    ReplyDelete
  12. नीरज,
    सहस्रधारा तो कई बार गये हैं, लेकिन इन गुफ़ाओं को आज ही देखा है। यही तो फ़र्क है एक घुमक्कड़ और टूरिस्ट में।
    दोबारा जाना पड़ेगा भाई।

    बढि़या पोस्ट, हमेशा की तरह।

    ReplyDelete
  13. सन १९९९ में यहाँ इतनी दुकानदारी न थी ! यहाँ भरे पानी की वजह है यहाँ हुई बेतहाशा माइनिंग. यहाँ पर्यावरण की काफी ऐसी-तैसी की गयी है और इसलिए यहाँ अब उतना पानी नहीं टपकता जितना कभी टपकता था . खैर....शब्बाखैर !

    ReplyDelete
  14. सन १९९९ में यहाँ इतनी दुकानदारी न थी ! यहाँ भरे पानी की वजह है यहाँ हुई बेतहाशा माइनिंग. यहाँ पर्यावरण की काफी ऐसी-तैसी की गयी है और इसलिए यहाँ अब उतना पानी नहीं टपकता जितना कभी टपकता था . खैर....शब्बाखैर !

    ReplyDelete
  15. स्मृति ताजा हो आयी ....शुक्रिया !

    ReplyDelete
  16. सहत्रधारा में घूमने का अपना मजा है । भहुत अच्छा लगा पढ़कर

    ReplyDelete
  17. eisa laga jese aaj hum bhi vaha ghum aaye

    ReplyDelete
  18. खुब आंनद आया आपकी यात्रा के साथ-साथ फोटो अति सुंदर ओर कलात्‍मक है.....धन्‍य है जाट....राम ....धन्‍य है तेरी धूम्‍मडी विद्या। प्रेम....ओर आभार

    ReplyDelete
  19. incredible posts

    ReplyDelete
  20. मजेदार यात्रा,पढ़ कर मजा आया वाकई

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

पुस्तक-चर्चा: पिघलेगी बर्फ

पुस्तक मेले में घूम रहे थे तो भारतीय ज्ञानपीठ के यहाँ एक कोने में पचास परसेंट वाली किताबों का ढेर लगा था। उनमें ‘पिघलेगी बर्फ’ को इसलिये उठा लिया क्योंकि एक तो यह 75 रुपये की मिल गयी और दूसरे इसका नाम कश्मीर से संबंधित लग रहा था। लेकिन चूँकि यह उपन्यास था, इसलिये सबसे पहले इसे नहीं पढ़ा। पहले यात्रा-वृत्तांत पढ़ता, फिर कभी इसे देखता - ऐसी योजना थी। उन्हीं दिनों दीप्ति ने इसे पढ़ लिया - “नीरज, तुझे भी यह किताब सबसे पहले पढ़नी चाहिये, क्योंकि यह दिखावे का ही उपन्यास है। यात्रा-वृत्तांत ही अधिक है।”  तो जब इसे पढ़ा तो बड़ी देर तक जड़वत हो गया। ये क्या पढ़ लिया मैंने! कबाड़ में हीरा मिल गया! बिना किसी भूमिका और बिना किसी चैप्टर के ही किताब आरंभ हो जाती है। या तो पहला पेज और पहला ही पैराग्राफ - या फिर आख़िरी पेज और आख़िरी पैराग्राफ।

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।