Skip to main content

साम्भर झील और शाकुम्भरी माता

इस यात्रा वृत्तान्त को शुरू से पढने के लिये यहां क्लिक करें
24 नवम्बर 2012 को रात होने तक मैं साइकिल चलाकर पुष्कर से साम्भर झील पहुंच गया। अगले दिन जब पूछताछ की तो पता चला कि यहां से 23 किलोमीटर दूर एक लोकप्रिय मन्दिर है- शाकुम्भरी माता मन्दिर। इधर अपना भी फाइनल हो गया कि शाकुम्भरी तक चलते हैं।
साम्भर झील खारे पानी की एक बहुत बडी झील है। राजस्थान के अर्धमरुस्थलीय इलाके में फैली यह झील जयपुर, अजमेर और नागौर जिलों में स्थित है। वैसे तो साम्भर लेक नाम से जोधपुर लाइन पर रेलवे स्टेशन भी है लेकिन नजदीकी बडा स्टेशन छह किलोमीटर दूर फुलेरा है।
भौगोलिक रूप से इस झील को पानी की सप्लाई चारों तरफ से आती हुई कई नदियां करती हैं लेकिन शुष्क इलाके में उनसे नियमित सप्लाई सम्भव नहीं है। मानसून के दौरान ही इन नदियों में पानी रहता है, बाकी समय सूखी रहती हैं। इसलिये इसमें भू-गर्भ से पानी निकालकर भरा जाता है। पानी में नमक की मात्रा बहुत ज्यादा है, इसलिये यह झील नमक की ‘खेती’ के लिये जानी जाती है।
झील में नमक ढोने के लिये रेल लाइनें बिछी हुई हैं। साम्भर लेक स्टेशन के पास नमक शोधन कारखाना है जहां नमक की सफाई से लेकर पैकिंग तक होती है। इस कारखाने तक कच्चा नमक लाने के लिये झील के अन्दर बिछी रेल लाइनें बडी कारगर हैं। यहां दो गेज की लाइनें हैं- मीटर और नैरो। कारखाने के अपने छोटे छोटे इंजन हैं और नमक ढोने हेतु लकडी के छोटे छोटे डिब्बे भी हैं। लकडी के डिब्बे ही नमक के लिये सर्वोत्तम होते हैं क्योंकि लोहे का क्षरण बडी जल्दी होता है।
एक तरह से देखा जाये तो साम्भर एक ऐसी झील है जिसमें तीनों गेज की रेल पटरियां हैं- ब्रॉड, मीटर और नैरो। ब्रॉड गेज से भारतीय रेल गुजरती है जो झील के बीच से निकलती है। बाकी दोनों लाइनें नमक ढोने के लिये हैं।
झील के दक्षिणी किनारे से होते हुए 18 किलोमीटर दूर एक गांव है- कोरसीना, जहां से शाकुम्भरी मन्दिर पांच किलोमीटर दूर रह जाता है। वैसे कोरसीना से एक रास्ता रूपनगढ भी जाता है। मैं कल रूपनगढ से ही आया था लेकिन इस रास्ते को पकडने की बजाय नरैना वाला रास्ता पकड लिया। अगर कल रूपनगढ से साम्भर लेक जाने के लिये मैं यह कोरसीना वाला रास्ता पकड लेता तो आज दोबारा इस रास्ते पर नहीं आता।
शाकुम्भरी माता की भी पौराणिक और स्थानीय कथाएं हैं, जिन्हें मैं यहां नहीं लिखूंगा। मेरा यहां तक आने का मकसद साम्भर झील देखना था। 23 किलोमीटर का सारा रास्ता झील के किनारे ही रहता है। रास्ते में कई गांव भी पडते हैं जिनके तालाबों में कई तरह के पक्षी विचरण करते हुए दिखते हैं। सर्दियों में उत्तरी भारत में पक्षियों की संख्या बढ जाती हैं क्योंकि उच्च अक्षांशों जैसे कि साइबेरिया में सबकुछ बर्फ से ढक जाता है तो ये पक्षी जीवन-यापन के लिये निम्न अक्षांशों में चले आते हैं।
शाकुम्भरी मन्दिर पर अच्छी खासी चहल पहल थी। भण्डारे भी चल रहे थे। जलेबी-पकौडी और चाय का प्रसाद भी बंट रहा था। यहां से दूर क्षितिज तक झील का फैलाव दिखता है। चूंकि झील में पानी बेहद सीमित है तो सतह पर जमा नमक की परत सबकुछ सफेद दिखाने लगती है। उस पार नावा शहर है। नावा में रेलवे स्टेशन है। यहां से थोडा बहुत चक्कर काटकर एक रास्ता नावा भी जाता है। मैं नावा के रास्ते लौटना चाहता था लेकिन चूंकि आज शाम तक जयपुर पहुंचना था जो कि यहां से करीब 95 किलोमीटर दूर है। इसलिये नावा को परले किनारे ही रहने दिया गया।


साम्भर लेक रेलवे स्टेशन

झील में कर्मचारियों के आने-जाने के लिये चलने वाली एक ‘रेल-बस’

झील क्षेत्र से गुजरती भारतीय रेल






शाकुम्भरी माता जाने वाली सडक

मन्दिर अभी भी आठ किलोमीटर दूर है। बीच में पानी सा दिख रहा है, वो पानी नहीं बल्कि मृगमरीचिका है।



कोरसीना गांव में जब मैं मोबाइल में शाकुम्भरी का रास्ता देख रहा था, तो यह बच्चा आया और बोला कि मेरा फोटो खींचो। फोटो खिंचवाकर इसने कैमरे में फोटो देखा और भाग गया।

शाकुम्भरी की पहाडी पर बनी छतरी।




शाकुम्भरी माता मन्दिर


झील में नमक ढोने वाली ट्रेन

झील में नमक ढोने के लिये नैरो और मीटर गेज इस्तेमाल होते हैं। यह ट्रेन नैरो गेज की है।


शाकुम्भरी माता का एक मन्दिर उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में भी है। यहां क्लिक करें

जयपुर पुष्कर यात्रा
1. और ट्रेन छूट गई
2. पुष्कर
3. पुष्कर- ऊंट नृत्य और सावित्री मन्दिर
4. साम्भर झील और शाकुम्भरी माता
5. भानगढ- एक शापित स्थान
6. नीलकण्ठ महादेव मन्दिर- राजस्थान का खजुराहो
7. टहला बांध और अजबगढ
8. एक साइकिल यात्रा- जयपुर- किशनगढ- पुष्कर- साम्भर- जयपुर

Comments

  1. एक शाकुम्भरी मन्दिर शायद मुंज़फ़्फरनगर/सहारनपुर में भी है

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (22-12-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  3. पटरियां टेढी-मेढी हैं, शायद धूप और गरमी के कारण
    क्या इनपर ट्रेन चलने में समस्या नहीं आती

    ReplyDelete
  4. वाह, हमें तो आधी कमीज निकाले बच्चे का अन्दाज भा गया। रेल का खेल नमक के संग भी फैला है।

    ReplyDelete
  5. नमक के ढेर और पानी बाम्बे की तरह ही है पर यहाँ नमक ढोने के लिए ट्रेन नहीं है ... शाकुम्भरी माता का नाम तो सुना था पर देखा आज ..मुझे राजस्थान के गाँव बहुत ही पसंद है .... तुमने जलेबी नहीं खाई क्या ?...

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन प्रस्तुति. साइकिल में odometer लगवाना पड़ेगा, इतना जो चलाते हो.

    ReplyDelete
  7. रोचक यात्रा वर्णन ... उत्तर प्रदेश का शाकुंभरी माता का मंदिर देखा हुआ है ...

    ReplyDelete
  8. amazing dude....
    keep posting...nice blog

    ReplyDelete
  9. सुन्दर मनोरम तस्वीरों के साथ बढ़िया प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  10. ओह भाई मजा आ गया ! जियो भारत के लाल !

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर फोटोज

    ReplyDelete
  12. Aaj 23sal ke bad janm bhumi ke dershen hue esa lega jese m papa ke sath trali me beth ker jheel dekh rhi hu thankyou for this dershen

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

जाटराम की पहली पुस्तक: लद्दाख में पैदल यात्राएं

पुस्तक प्रकाशन की योजना तो काफी पहले से बनती आ रही थी लेकिन कुछ न कुछ समस्या आ ही जाती थी। सबसे बडी समस्या आती थी पैसों की। मैंने कई लेखकों से सुना था कि पुस्तक प्रकाशन में लगभग 25000 रुपये तक खर्च हो जाते हैं और अगर कोई नया-नवेला है यानी पहली पुस्तक प्रकाशित करा रहा है तो प्रकाशक उसे कुछ भी रॉयल्टी नहीं देते। मैंने कईयों से पूछा कि अगर ऐसा है तो आपने क्यों छपवाई? तो उत्तर मिलता कि केवल इस तसल्ली के लिये कि हमारी भी एक पुस्तक है। फिर दिसम्बर 2015 में इस बारे में नई चीज पता चली- सेल्फ पब्लिकेशन। इसके बारे में और खोजबीन की तो पता चला कि यहां पुस्तक प्रकाशित हो सकती है। इसमें पुस्तक प्रकाशन का सारा नियन्त्रण लेखक का होता है। कई कम्पनियों के बारे में पता चला। सभी के अलग-अलग रेट थे। सबसे सस्ते रेट थे एजूक्रियेशन के- 10000 रुपये। दो चैप्टर सैम्पल भेज दिये और अगले ही दिन उन्होंने एप्रूव कर दिया कि आप अच्छा लिखते हो, अब पूरी पुस्तक भेजो। मैंने इनका सबसे सस्ता प्लान लिया था। इसमें एडिटिंग शामिल नहीं थी।