Skip to main content

शाकुम्भरी देवी शक्तिपीठ

शाकुम्भरी देवी उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में एक प्रसिद्ध शक्तिपीठ है। रोजाना हजारों श्रद्धालु यहां देवी के दर्शन के लिये पहुंचते हैं। शाकुम्भरी को दुर्गा का रूप माना जाता है।
यह हमारी मसूरी यात्रा का पहला पडाव था। दिल्ली से चलकर सीधे रुडकी, छुटमलपुर, कलसिया, बेहट और शाकुम्भरी। देवी के मन्दिर से करीब एक किलोमीटर पहले बाबा भूरा देव जी का मन्दिर है। देवी के दर्शन से पहले बाबा के दर्शन करने होते हैं। कुछ लोग इसे भैरों देव जी भी कहते हैं। मान्यता है कि यह देवी का रक्षक है।
भूरा देव जी के बाद एक किलोमीटर का रास्ता नदी के बीच से होकर जाता है। हालांकि नवम्बर के शुष्क महीने में नदी एक महीन सी धार के साथ बह रही थी लेकिन बरसात में नदी का वेग काफी बढ जाता होगा। शाकुम्भरी मन्दिर भी नदी के अन्दर ही बना है। दोनों तरफ छोटे छोटे पहाड हैं। यह एक किलोमीटर नदी के पत्थरों को सेट करके गाडियों के चलने लायक रास्ता बना हुआ है। मानसून में जब नदी पूरे उफान पर बहती होगी तो श्रद्धालुओं को पैदल ही नदी के अन्दर से निकलकर जाना पडता होगा। लेकिन ये शिवालिक की पहाडियां हैं। जब तक बारिश होती रहेगी, तब तक नदी भी बहती रहेगी। जैसे ही बारिश बन्द होती होगी तो नदी भी रुक जाती होगी।
नदी के चौडे इलाके में ही गाडियों की पार्किंग और बस अड्डा बना है। प्रसाद की दुकानें सब नदी के अन्दर ही हैं।



भूरा देव मन्दिर
कैसे जायें:
यहां जाने के कई रास्ते हो सकते हैं लेकिन दिल्ली से जाने वालों के लिये सबसे बेहतरीन रास्ता है- रुडकी होते हुए। रुडकी से छुटमलपुर तक राष्ट्रीय राजमार्ग है जो काफी बेहतरीन हालत में है। छुटमलपुर से एक सडक सहारनपुर चली जाती और और दूसरी देहरादून। दिल्ली से शामली होते हुए भी सहारनपुर पहुंचा जा सकता है लेकिन वो रास्ता काफी खराब हालत में है। सहारनपुर से शाकुम्भरी जाने के लिये छुटमलपुर जाने की कोई जरुरत नहीं है। यहां से यमुनोत्री रोड पकडकर कलसिया होते हुए बेहट तक जाना होता है, जहां से शक्तिपीठ मात्र 15 किलोमीटर दूर है।
अच्छा, अब छुटमलपुर से बेहट जाने के लिये भी सहारनपुर जाने की कोई जरुरत नहीं है। छुटमलपुर से एक सीधा रास्ता कलसिया जाता है जहां से बेहट चार किलोमीटर दूर है। लेकिन यह छुटमलपुर-कलसिया मार्ग बहुत बुरी अवस्था में है और पूरे 21 किलोमीटर तक एक-एक डेढ डेढ फुट तक के गड्ढे हैं। अपनी और गाडी की सलामती चाहते हो तो इस रास्ते का इस्तेमाल मत करना। एक दूसरा रास्ता भी है। छुटमलपुर से देहरादून की तरफ चलने पर कुछ आगे सुन्दरपुर आता है। यहां से बायें हाथ की तरफ जसमौर के लिये रास्ता गया है। यह भी 21 किलोमीटर ही है लेकिन कलसिया वाले रास्ते के मुकाबले बहुत बेहतरीन हालत में है। जसमौर बेहट और शाकुम्भरी के बीच में है। यहां से शाकुम्भरी 8 किलोमीटर दूर रह जाता है।
अगर ट्रेन से जाना है तो सीधे सहारनपुर पहुंचना होगा। इसके बाद बस ही एकमात्र सहारा है। सहारनपुर से शाकुम्भरी के लिये नियमित बसें चलती हैं।



नक्शे को बडा करके देखने के लिये इस पर क्लिक करें।
सर्वश्रेष्ठ मार्ग: दिल्ली- मेरठ- मुजफ्फरनगर- रुडकी- छुटमलपुर- बिहारीगढ- सुन्दरपुर- जसमौर- शाकुम्भरी।
छुटमलपुर-कलसिया मार्ग भारत के सबसे बुरे और खराब मार्गों में से एक है।

अगला भाग: सहस्त्रधारा और शिव मन्दिर


मसूरी धनोल्टी यात्रा
1. शाकुम्भरी देवी शक्तिपीठ
2. सहस्त्रधारा और शिव मन्दिर
3. मसूरी झील और केम्प्टी फाल
4. धनोल्टी यात्रा
5. सुरकण्डा देवी

Comments

  1. हद हो गयी मात्र चार महीने बाद ही हम दोनों इस सुन्दरतम मार्ग पर पुन: घूम गये।

    ReplyDelete
  2. ''सबसे बुरे और खराब मार्ग'' भी तो एक खोजो हजार मिलते हैं, किस्‍म की चीज है.

    ReplyDelete
  3. नीरज भाई शाहकुम्भ्री पीठ हमारे मुज़फ्फरनगर से ११० किलोमीटर पड़ती हैं, सबसे सीधा रास्ता देवबंद से आगे नंगल से बाये को सड़क कटती हैं, जो सहारनपुर में स्टार पेपर पर निकलती हैं. वंहा से बाहरो बाहर एक सड़क सीधे शाह कुम्भर देवी जाती हैं, हम इधर के लोगो के लिए इस पीठ की सबसे अधिक मान्यता हैं. इससे पहले देवबंद में माता बाला सुन्दरी के दर्शन किये जाते हैं. तब फिर आगे की और जाते हैं. आपका यात्रा वृत्तान्त बहुत अच्छा हैं. जय माता की.

    ReplyDelete
  4. आपकी जानकारी जिंदाबाद

    नीरज

    ReplyDelete
  5. शाकम्भरी देवी का एक मंदिर राजस्थान के झुंझुनू जिले में उदयपुरवाटी नामक स्थान के पास भी अरावली की सुरम्य वादियों में स्थित बहुत मनोहारी स्थल है|

    ReplyDelete
  6. बढ़िया रहा ---जय माता दी!!!

    ReplyDelete
  7. yatra vratant jivant aur aanand dayak he

    ReplyDelete
  8. Kafi time se soch raha hu jaane ki yaha

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

नेपाल यात्रा- गोरखपुर से रक्सौल (मीटर गेज ट्रेन यात्रा)

इस यात्रा वृत्तान्त को शुरू से पढने के लिये यहां क्लिक करें । 11 जुलाई की सुबह छह बजे का अलार्म सुनकर मेरी आंख खुल गई। मैं ट्रेन में था, ट्रेन गोरखपुर स्टेशन पर खडी थी। मुझे पूरी उम्मीद थी कि यह ट्रेन एक घण्टा लेट तो हो ही जायेगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। ठीक चार साल पहले मैं गोरखपुर आया था, मेरी ट्रेन कई घण्टे लेट हो गई थी तो मन में एक विचारधारा पैदा हो गई थी कि इधर ट्रेनें लेट होती हैं। इस बार पहले ही झटके में यह विचारधारा टूट गई। यहां से सात बजे एक पैसेंजर ट्रेन (55202) चलती है- नरकटियागंज के लिये। वैसे तो यहां से सीधे रक्सौल के लिये सत्यागृह एक्सप्रेस (15274) भी मिलती है जोकि कुछ देर बाद यहां आयेगी भी लेकिन मुझे आज की यात्रा पैसेंजर ट्रेनों से ही करनी थी- अपना शौक जो ठहरा। इस रूट पर मैं कप्तानगंज तक पहले भी जा चुका हूं। आज कप्तानगंज से आगे जाने का मौका मिलेगा।