Skip to main content

सातताल और नल दमयन्ती ताल

इस यात्रा वृत्तान्त को शुरू से पढने के लिये यहां क्लिक करें
22 मार्च 2012 और मैं था कनमन में। कनमन बरेली और हल्द्वानी के बीच में बहेडी से दस किलोमीटर पहले है। यहां अपने एक दोस्त सतेंद्र रहते हैं। सुबह आराम से उठकर पहले तो मैं बहेडी गया और फिर वहां से बस पकडकर हल्द्वानी। मैं कनमन से ही लेट चला था इसलिये हल्द्वानी पहुंचने में और भी लेट हो गया। आज मुझे नैनीताल जाना था और रात को वहीं रुककर अगले दिन फिर नैनीताल घूमना था। लेकिन कल जो मैंने आगरा-बरेली रेल यात्रा की तो उसमें ठण्डी हवा चलने के कारण अंदाजा लगा लिया कि नैनीताल में सर्दी मेरी औकात से ज्यादा होगी। असल में मैं जब दिल्ली से चला था तो आगरा के लिये चला था, मुझे इसी यात्रा में नैनीताल भी जाना है, यह बात मैं भूल गया था और गरम कपडे नहीं रखे। एक यह कारण भी था नैनीताल को रद्द करने का। इसके बदले तय हुआ कि सातताल चला जाये और शाम को वापस हल्द्वानी में ही रुका जाये।
अब मुझे याद नहीं कि मैं हल्द्वानी से भीमताल तक बस से गया था या जीप से। शायद जीप से गया था और शायद बस से। खैर, कोई नहीं। भीमताल का जो मुख्य चौक है, जहां से एक रास्ता नौकुचियाताल जाता है, दोपहर एक बजे मैं वहां पहुंचा। मैं अपने निर्धारित समय से चार पांच घण्टे लेट था, इसलिये इस लेटलतीफी का कुछ नुकसान तो होना ही था। वो बात अलग है कि कोई नुकसान नहीं हुआ और मैं समय से सातताल घूमकर लौट आया।
सातताल और भीमताल के बीच में मात्र एक पहाडी ही है। यहां जाने के लिये एक सडक भी बनी है जो इस पहाडी का चक्कर काटकर इससे बचती हुई जाती है। भीमताल से जब भवाली की ओर जाते हैं तो रास्ते में एक तिराहा आता है जहां से यह सातताल वाली सडक निकलती है। इसके अलावा भीमताल से पैदल रास्ते भी हैं जो इस पहाडी के ऊपर से होकर जाते हैं। मैं ऐसे ही किसी पैदल रास्ते की तलाश में था।
मुख्य चौक पर ही मैंने एक मूंगफली वाले से पूछा तो उसने एक पैदल रास्ता बता दिया। पैदल रास्ते को पहाड में शॉर्टकट कहते हैं। ये तो ध्यान नहीं कि मैं कहां कहां से गुजरा था लेकिन इतना जरूर याद है कि बाइपास रोड का इस्तेमाल भी मैंने किया था। बाइपास रोड को जहां मैंने छोडा, वहां से बडी तेज चढाई शुरू हो जाती है। हालांकि यह भी एक मोटर रोड ही है जो आखिर में सातताल रोड पर नल दमयन्ती ताल के पास जा मिलती है। मैं इसे पहले ही भांप गया था कि यह रोड असली रोड में मिलने जा रही है, इससे मुझे उस पहाडी को शॉर्टकट से लांघने के रोमांच से मोहताज होना पडता। यह अन्दाजा होते ही मैंने यह सडक छोड दी और उस पहाडी पर ऊपर चढने लगा। ज्यादा ऊपर तो नहीं चढना पडा, हल्का रास्ता भी बना था। और ऊपर पहुंचते ही दूसरी तरफ करीब हजार फीट नीचे मुझे सातताल भी दिख गया लेकिन नीचे उतरने का रास्ता नहीं मिला।
बस, फिर होना क्या था? सूखी झाडियों के बीच से बचते-बचाते मुझे निकलना पडा। यहां जंगल में मैं अकेला था, इसलिये डर भी लगना ही था। पूरे हिमालय में तेंदुओं की कमी नहीं है। बडा दिलेर जानवर होता है तेंदुआ। यहां भी कमी नहीं है इसकी। मुझे पूरा यकीन है कि किसी ना किसी तेंदुए ने मुझे देखा जरूर होगा। उससे बचने के लिये मैं जानबूझकर ज्यादा आवाज करता हुआ चल रहा था। सूखी पत्तियां इफरात में बिखरी पडी थीं, इसलिये पैरों से ज्यादा आवाज करना मुश्किल नहीं था। इंसान तेंदुए का प्राकृतिक भोजन नहीं है, इसलिये वो इंसान पर कोई ध्यान नहीं देता। यह बात जिम कार्बेट साहब अपनी किताबों में बार बार लिखते हैं। हालांकि एक जगह मुझे पत्तियों में खडखडाहट जैसी आवाज रुक-रुककर सुनाई पडी लेकिन जल्दी ही पता चल गया कि कुछ पक्षी उछल-कूद मचा रहे हैं, इसलिये वो आवाज आ रही है।
मतलब ये कि मैं बिना किसी परेशानी के सातताल पहुंच गया। जहां भीमताल के आसपास की सभी पहाडियां सूखी पडी थीं, वहीं सातताल के पास की पहाडियां हरी-भरी थीं। आनन्द आ गया इसे देखते ही। यहां पहले सात ताल थे लेकिन अब तीन ही बचे हैं। इनमें जो सबसे बडा है, उसके किनारे कुछ दुकानें हैं जहां खाना पीना हो जाता है। इसके अलावा रुकने का इंतजाम भी है- कुमाऊं मण्डल विकास निगम जिन्दाबाद। ताल के दो किनारे जहां बेहद आसपास आ जाते हैं, वहां छोटी सी पुलिया भी है।
मुझे पता चला था कि यहां आने वाली सडक जो भीमताल-भवाली के बीच से निकली थी, वो आगे जाकर भीमताल-हल्द्वानी रोड में जा मिलती है। मैं उसी पर जाने की सोच रहा था लेकिन स्थानीयों ने मुझे रोक दिया और भवाली वाली रोड पर ही जाने की सलाह दी। वापसी में मैं शॉर्टकट से नहीं जाना चाहता था। इसलिये छोटे-मोटे शॉर्टकट मारते हुए इसी रोड के उच्चतम बिन्दु पर पहुंचा। यहां से एक सडक भीमताल की ओर जा रही थी। यह वही सडक थी जो मैंने सातताल आते समय शॉर्टकट मारने के चक्कर में छोड दी थी। इसी से थोडा हटकर नल दमयन्ती ताल भी है। यह ताल बेहद छोटा सा ताल है। चारों तरफ पक्के घाट बने हैं और किनारे पर एक मन्दिर भी है।
शाम छह बजे तक मैं फिर से भीमताल के मुख्य चौक पर था। नैनीताल तो जाना नहीं था इसलिये मैं हल्द्वानी चला गया। रात को ठहरने के लिये बस अड्डे के पास ही दो सौ रुपये का एक बढिया कमरा लिया और पडकर सो गया। अगले दिन मुझे कालाढूंगी, खुरपा ताल और कार्बेट फाल देखकर रामनगर जाना था। रामनगर से दिल्ली तक मेरा रिजर्वेशन कार्बेट पार्क लिंक एक्सप्रेस से था।


जाट महाराज सातताल के रास्ते में

भीमताल से सातताल के बीच में एक लम्बी सी पहाडी है जिसको लांघने के लिये कई पैदल रास्ते बने हैं। उनमें से एक यह भी है।



भीमताल-सातताल के बीच की पहाडी का उच्चतम भाग। इसके एक तरफ भीमताल है और दूसरी ओर सातताल।

सातताल की तरफ नीचे उतरने पर मुझे ये झाडियां मिलीं। इनके बीच से रास्ता ढूंढना काफी मुश्किल और डरावना काम था।

इन्हीं झाडियों के रास्ते पर जाटराम

दूर-दूर तक कोई आदमी तो दूर, रास्ता तक नहीं मिल पा रहा था। नीचे बहुत दूर सातताल दिख रहा था, बस उसी के सहारे नीचे उतरना हो रहा था।

आखिरकार यह एक पतली सी पगडण्डी मिली

उसी पहाडी से सातताल का फोटो

सातताल के पास

सातताल

सातताल भीमताल के विपरीत काफी हरा भरा और सुन्दर है।

सातताल के जल में पहाडियों का प्रतिबिम्ब

सातताल और हरी-भरी पहाडियां

एक छोटी सी पुलिया भी है, जहां से ताल को पार किया जा सकता है।

यह है सातताल-भीमताल रोड

भीमताल की तरफ जाती सडक। यह सडक उस पहाडी का चक्कर काटकर आती है, जिसको मैं थोडी देर पहले लांघकर आया था।

नल दमयन्ती ताल

नन्हा सा नल दमयन्ती ताल
अगला भाग: कार्बेट म्यूजियम और कार्बेट फाल

आगरा नैनीताल यात्रा वृत्तान्त
1. ताजमहल
2. आगरा का किला
3. आगरा- बरेली पैसेंजर ट्रेन यात्रा
4. सातताल और नल दमयन्ती ताल
5. कार्बेट म्यूजियम और कार्बेट फाल

Comments

  1. वाकई खूबसूरत है सातताल।

    ReplyDelete
  2. ऐसे मनोरम दृश्यों में तो घंटों बिताये जा सकते हैं।

    ReplyDelete
  3. मन निर्मल कर देने वाले दृश्‍य.

    ReplyDelete
  4. नीरज भाई आपका यात्रा वृत्तान्त पढ़ कर मन खुश हो जाता हैं, आपके बहाने से हम भी सैर कर लेते हैं, हमारी शुभकामनाये आपके साथ हैं

    ReplyDelete
  5. वाह वही कमाल कर दिया आपने ! अकेले ही निकल लिए जंगलो के रास्ते तालो को ढूंढने...डर नहीं लगा आपको...?
    नल दमयंती ताल हमारा भी देखा हुआ छोटा पर सुंदर हैं... इसमें ढेर सारी मछलियाँ थी उस समय | क्या अब भी हैं ?

    ReplyDelete
  6. पिछले साल मै यहाँ गया था . सात ताल के किनारे बने वाई एम् सी ए के कैम्प में रुका था . कुमाऊ के तालो में सात ताल सबसे खूबसूरत है .

    ReplyDelete
  7. neeraj babu,main to nahi gaya hoon per aap le ke chale gaye,bahut badhiya.

    ReplyDelete
  8. is bar yahi jane ka irada hei ...tumhari jaankari kam aaegi ..

    ReplyDelete
  9. पिछली अक्टूबर में मैं भी यहाँ था। नैनीताल के सारे तालों में प्राकृतिक सुंदरता के मामले में सातताल का सानी नहीं है। पहाड़ी लांघकर आना दिलचस्प लगा।

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

नेपाल यात्रा- गोरखपुर से रक्सौल (मीटर गेज ट्रेन यात्रा)

इस यात्रा वृत्तान्त को शुरू से पढने के लिये यहां क्लिक करें । 11 जुलाई की सुबह छह बजे का अलार्म सुनकर मेरी आंख खुल गई। मैं ट्रेन में था, ट्रेन गोरखपुर स्टेशन पर खडी थी। मुझे पूरी उम्मीद थी कि यह ट्रेन एक घण्टा लेट तो हो ही जायेगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। ठीक चार साल पहले मैं गोरखपुर आया था, मेरी ट्रेन कई घण्टे लेट हो गई थी तो मन में एक विचारधारा पैदा हो गई थी कि इधर ट्रेनें लेट होती हैं। इस बार पहले ही झटके में यह विचारधारा टूट गई। यहां से सात बजे एक पैसेंजर ट्रेन (55202) चलती है- नरकटियागंज के लिये। वैसे तो यहां से सीधे रक्सौल के लिये सत्यागृह एक्सप्रेस (15274) भी मिलती है जोकि कुछ देर बाद यहां आयेगी भी लेकिन मुझे आज की यात्रा पैसेंजर ट्रेनों से ही करनी थी- अपना शौक जो ठहरा। इस रूट पर मैं कप्तानगंज तक पहले भी जा चुका हूं। आज कप्तानगंज से आगे जाने का मौका मिलेगा।