Skip to main content

जयपुर का जंतर मंतर

इस यात्रा वृत्तान्त को आरम्भ से पढने के लिये यहां क्लिक करें
जयपुर वाला जंतर मंतर हवामहल के पास ही है। हवामहल की ऊपरी मंजिल से यह दिखता भी है।
जंतर मंतर महाराजा जयसिंह द्वितीय के काल में बनवाया गया था। शायद उन्होंने ही दिल्ली में भी बनवाया था। दिल्ली वाला अपना देखा हुआ नहीं है। बताते हैं कि जयपुर वाला जंतर मंतर ज्यादा विशाल है।
यहां विदेशियों का आगमन बहुत ज्यादा होता है। और वे इसकी गणितीय गणनाओं में दिलचस्पी भी लेते हैं। इसलिये उन गणनाओं को समझाने के लिये यहां गाइडों की भरमार है। हमारे लिये तो जंतर मंतर की ‘इमारतें’ फोटू खींचने की जगहें हैं।



उन्नतांश यंत्र

दक्षिणोत्तर भित्ति यंत्र
वृहत सम्राट यंत्र

सभी राशियों के लिये राशि वलय यंत्र



नाडीवलय यंत्र

राम यंत्र


यहां विदेशियों की भरमार रहती है।
उस दिन एक देशी जाट भी था। शर्ट बदल ली है।

अगला भाग: सिटी पैलेस, जयपुर

जयपुर यात्रा
1. जयपुर यात्रा-आमेर किला
2. जयपुर की शान हवामहल
3. जयपुर का जन्तर मन्तर
4. सिटी पैलेस, जयपुर
5. नाहरगढ किला, जयपुर

Comments

  1. suder chitra
    mushafir ho yaro
    na dar he na thikana

    ReplyDelete
  2. नीरज,

    आपकी घुमक्कड़ी वाली पोस्टें मुझे इसलिए पसंद हैं क्योंकि आप लिखने से ज्यादा तस्वीरों का इस्तेमाल करते हैं. अपनी तो घर बैठे ही सारी घुमक्कड़ी हो जाती है. वैसे सच कहूँ तो आपकी पोस्टें देखकर मेरे मन में तो ईर्ष्यावश एक ही ख्याल आता है की प्यारे घूम लो जब गृहस्थी के कोल्हू में जुतोगे तो हमारी तरह एक ही जगह पर मिलोगे.

    ReplyDelete
  3. इस स्थान पर कई बार गया हूँ। यह हमेशा आकर्षित करता है।

    ReplyDelete
  4. हमें तो देशी ही ज्यादा पसंद है, जाट भी और खाट भी:)

    खूबसूरत तस्वीरें और शानदार पोस्ट, हमेशा की तरह।

    जुटया रह छोरे घुमक्कड़ी में. जद तक ’नून तेल लाकड़ी’ ते बच रया है।

    ReplyDelete
  5. बहुत खुद यहां तो सारे ही फ़िरंगी दिख रहे हे, चित्र बहुत सुंदर राम राम

    ReplyDelete
  6. बधाई! शर्ट बदल ली आपने :)

    प्रणाम

    ReplyDelete
  7. वाह, वाह गुरु , आपने तो सारे ही चित्र एक-एक कर खूबसूरती से उतारे !

    ReplyDelete
  8. अभी भी वैसा का वैसा है जैसा बरसों पहले था...बहुत गज़ब है ये जंतर मंतर...
    नीरज

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत तश्वीरें। आपकी घुमक्कड़ी देख कर कुछ-कुछ होता है।

    ReplyDelete
  10. आप अच्छे फोटोग्राफर भी बनते जा रहे हैं।

    ReplyDelete
  11. आपका संग्रह दिनों दिन विशाल होता जा रहा है | शुभकामनाये |

    ReplyDelete
  12. बहतु अच्छी तस्वीरें ओर जानकारी .

    ReplyDelete
  13. घर बैठे सुन्दर दृश्य दिखाने के लिऐ धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  14. शायद जंतर मंतर का रास्ता हवामहल के आगे से बाज़ार होते हुए जाता है, बहुत पहले गया था इसलिए पक्का मालूम नहीं है

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

नेपाल यात्रा- गोरखपुर से रक्सौल (मीटर गेज ट्रेन यात्रा)

इस यात्रा वृत्तान्त को शुरू से पढने के लिये यहां क्लिक करें । 11 जुलाई की सुबह छह बजे का अलार्म सुनकर मेरी आंख खुल गई। मैं ट्रेन में था, ट्रेन गोरखपुर स्टेशन पर खडी थी। मुझे पूरी उम्मीद थी कि यह ट्रेन एक घण्टा लेट तो हो ही जायेगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। ठीक चार साल पहले मैं गोरखपुर आया था, मेरी ट्रेन कई घण्टे लेट हो गई थी तो मन में एक विचारधारा पैदा हो गई थी कि इधर ट्रेनें लेट होती हैं। इस बार पहले ही झटके में यह विचारधारा टूट गई। यहां से सात बजे एक पैसेंजर ट्रेन (55202) चलती है- नरकटियागंज के लिये। वैसे तो यहां से सीधे रक्सौल के लिये सत्यागृह एक्सप्रेस (15274) भी मिलती है जोकि कुछ देर बाद यहां आयेगी भी लेकिन मुझे आज की यात्रा पैसेंजर ट्रेनों से ही करनी थी- अपना शौक जो ठहरा। इस रूट पर मैं कप्तानगंज तक पहले भी जा चुका हूं। आज कप्तानगंज से आगे जाने का मौका मिलेगा।