Skip to main content

अमरनाथ यात्रा- पिस्सू घाटी से शेषनाग

इस यात्रा-वृत्तान्त को शुरू से पढने के लिये यहां क्लिक करें
अमरनाथ यात्रा की पैदल चढाई चन्दनवाडी से शुरू होती है। चन्दनवाडी पहलगाम से सोलह किलोमीटर आगे है। चन्दनवाडी से कठिन चढाई चढकर यात्री पिस्सू टॉप पहुंचते हैं। पिस्सू टॉप तक का रास्ता काफी मुश्किल है, आगे का रास्ता कुछ कम मुश्किल है। कुछ दूर तक तो उतराई ही है। अधिकतर यात्री चन्दनवाडी से यहां तक खच्चर से आते हैं। आगे की यात्रा पैदल करते हैं। लेकिन कुछ यात्री ऐसे भी होते हैं, जो पिस्सू टॉप तक पैदल आते हैं और इस मुश्किल चढाई में उनका मामला गडबड हो जाता है। आगे चलने लायक नहीं रहते। इसलिये उन्हे आगे के अपेक्षाकृत सरल रास्ते में खच्चर करने पडते हैं। हमारे दल में मनदीप भी ऐसा ही था। पिस्सू टॉप तक पहुंचने में ही पैर जवाब दे गये और आगे शेषनाग के लिये खच्चर करना पडा।
यह इलाका समुद्र तल से काफी ऊंचाई पर है, इसलिये सूर्य की किरणें बहुत तीखी लगती हैं। उनसे बचने के लिये कोल्ड क्रीम लगानी पडती है। कोल्ड क्रीम मनदीप के पास थी, लेकिन उसके खच्चर पर जाने से पहले ही सभी ने अपने-अपने मुंह पोत लिये थे। यहां भी शहंशाह भागमभाग में लगा था। बिल्लू की हालत भी काफी खराब थी। इसके बावजूद भी उसने खच्चर नहीं किया, फलस्वरूप सबसे पीछे चल रहा था। बाकी मैं, कालू और धर्मबीर साथ-साथ थे।
हिमालय की ऊंचाइयों में एक खास बात है कि यहां दोपहर बाद मौसम खराब होने लगता है। दो बजे के बाद यहां भी मौसम बदलने लगा। जहां थोडी देर पहले तीखी धूप पड रही थी, अब बाद्ल छा गये। बादल छाते ही कडकडाती ठण्ड लगनी शुरू हो गयी। नीचे की तरफ से काले बादल भी दिखने लगे। अब हम समझ गये कि कुछ देर बाद बारिश भी हो सकती है। इसलिये हमने अपनी चलने की स्पीड तेज कर दी। मन में था कि बारिश होने से पहले शेषनाग पहुंच जाये।
लेकिन हमारे शेषनाग पहुंचने से पहले ही बारिश भी हो गयी। रेनकोट साथ लाये थे, इसलिये बच गये। नहीं तो किसी बडे से पत्थर के नीचे बैठना पडता। यात्रा में काफी संख्या में साधु आते हैं। इनमें से ज्यादातर बहुत कम कपडों में होते हैं। कोई-कोई तो नंगे पैर होता है। बारिश हुई तो सभी पत्थरों के नीचे बैठ गये। इन बडे-बडे पत्थरों से तेज हवा से भी बचाव हो रहा था और बारिश से भी।
खैर, बारिश होती रही और हम शेषनाग झील के पास जा पहुंचे। यह चन्दनवाडी से 15-16 किलोमीटर दूर है। चन्दनवाडी के बाद रात बिताने का इन्तजाम यही पर है। इसलिये चन्दनवाडी से निकलने के बाद हर एक यात्री को शेषनाग पहुंचना ही पडता है।

PISSOO TOP
अब हम पिस्सू टॉप से निकल चुके हैं। पीछे मुडकर देखने पर ऐसा दिखता है पिस्सू टॉप।

MANDEEP AND ME
अब हम पिस्सू टॉप से निकल चुके हैं। पीछे मुडकर देखने पर ऐसा दिखता है पिस्सू टॉप।
दो लठधारी जाट। मनदीप और मैं।
PITTHOO
बोझा ढोने का सारा काम इन स्थानीय मुसलमानों का ही है।

SHOO-SHOO
अबे, कहां खडा होकर शू-शू कर रहा है।

AMARNATH YATRA
आज का लक्ष्य है- शेषनाग।

SURAKSHA CHAUKI
यह है यहां की सुरक्षा चौकी। चौकी के पीछे चारों तरफ बरफ है।

MANDEEP
जब मनदीप के घुटने जवाब दे गये तो बेचारे को खच्चर करना पडा। फोटू खिंचवाने में शर्म आयी तो मुंह ढक लिया।

NATURE
रास्ते में पडने वाले दृश्य मन मोह लेते हैं।

SHEEP
पहलगाम के गडरिये इतनी दूर तक भेड चराने आते हैं। सर्दियां खत्म होने के बाद बरफ पिघलती है तो जमीन पर घास उगने लगती है।
इसी तरह के किसी गडरिये बूटा मलिक ने अमरनाथ गुफा की खोज की थी।

NATURE 2
A SADHU
साधु भी बडी संख्या में अमरनाथ जाते हैं।

JOJPAL
सामने है जोजपाल। यह असल में एक चरागाह है। लेकिन आजकल यहां भण्डारे लगे हुए हैं।

EATING PAKAUDI
चाय पकौडी का मजा लो और आगे बढो।

WAITING FOR FOOD
भण्डारों के बाहर स्थानीय लोगों का जमावडा लगा रहता है। इसका कारण है कि भण्डारों में इन लोगों को आने नहीं दिया जाता। कहीं कहीं इनका टाइम निर्धारित होता है कि इस समय के बाद आओ। कहीं –कहीं तो इनके लिये मुख्य भण्डारे की बगल में एक छोटा सा भण्डारा होता है जहां इन्हे चाय, रोटी, सब्जी मिल जाते हैं। जबकि यात्रियों के लिये एक से एक बढकर आइटम होता है।

AMARNATH YATRI
जय बाबा बर्फानी

WATER
पूरी यात्रा के पैदल मार्ग में जम्मू-कश्मीर पुलिस नहीं दिखी। जबकि सीआरपी, बीएसएफ व सेना जगह-जगह यात्रियों की सेवा में लगी थी। यहां सुरक्षा बल पानी पिला रहे हैं।

YATRA
NEAR A WATERFALL
इस झरने तक आते-आते मौसम खराब होने लगा था।

NEERAJ
जल्दबाजी में एक फोटू खिंचवाया और भाग चले।

LIDDAR RIVER
दूर नीचे जाती लिद्दर। लिद्दर नदी शेषनाग झील से ही निकलती है।

GREAT AMARNATH YATRA
AMARNATH YATRA 2
SHESHNAG
और वो दिख गयी शेषनाग झील।
झील के उस ओर बायीं तरफ तम्बू नगरी बसी है। आज रात्रि विश्राम वहीं पर होगा।

अगला भाग: शेषनाग झील

अमरनाथ यात्रा
1. अमरनाथ यात्रा
2. पहलगाम- अमरनाथ यात्रा का आधार स्थल
3. पहलगाम से पिस्सू घाटी
4. अमरनाथ यात्रा- पिस्सू घाटी से शेषनाग
5. शेषनाग झील
6. अमरनाथ यात्रा- महागुनस चोटी
7. पौषपत्री का शानदार भण्डारा
8. पंचतरणी- यात्रा की सुन्दरतम जगह
9. श्री अमरनाथ दर्शन
10. अमरनाथ से बालटाल
11. सोनामार्ग (सोनमर्ग) के नजारे
12. सोनमर्ग में खच्चरसवारी
13. सोनमर्ग से श्रीनगर तक
14. श्रीनगर में डल झील
15. पटनीटॉप में एक घण्टा

Comments

  1. सर्दी नहीं लगी.. जैकेट नही टांगा?

    ReplyDelete
  2. जय बर्फानी बाबा!!!

    ReplyDelete
  3. रोचक यात्रा वृत्तांत. फोटू तो गजब के हैं.

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर और मनमोहक फोटो है । और लेखन का तो जवाब ही नहीं। । पढ़ते-पढ़ते लगा कि हम भी उन रास्तों पर चल रहे है।

    ReplyDelete
  5. जाट तो खुद ही लट्ठ होते हैं, इन्हें लट्ठ धारण करने की क्या जरुरत थी। :)

    प्रणाम

    ReplyDelete
  6. बहुत ही लाजवाब चित्र और रोचक विवरण.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. अरे नीरज क्यो दिल दुखा रहा है, इतने सुंदर सुंदर चित्र दिखा कर, सच कहूं तो दिल करता है कि अभी उड कर आ जाऊ, बहुत मनमोहक लगे सभी चित्र, धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर और जीवन्त चित्र।

    ReplyDelete
  9. यात्रा जितनी कठिन होती है फोटुएं उतनी ही सुंदर आती हैं।
    यह भी एक रहस्य ही है :-)

    ReplyDelete
  10. भण्डारों के बाहर स्थानीय लोगों का जमावडा लगा रहता है। इसका कारण है कि भण्डारों में इन लोगों को आने नहीं दिया जाता। कहीं कहीं इनका टाइम निर्धारित होता है कि इस समय के बाद आओ। कहीं –कहीं तो इनके लिये मुख्य भण्डारे की बगल में एक छोटा सा भण्डारा होता है जहां इन्हे चाय, रोटी, सब्जी मिल जाते हैं। जबकि यात्रियों के लिये एक से एक बढकर आइटम होता है।
    any specific reason for this.....

    ReplyDelete
  11. बड़े ही खूबसूरत दृश्य दिखा रहे हैं आप अपने कैमरे से!

    ReplyDelete
  12. फोटो मनमोहक है

    ReplyDelete
  13. अमरनाथ यात्रा करना अपने आप में एक अलग ही अदभुद अनुभव है, कश्मीर युही धरती का स्वर्ग नहीं1

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी कुछ प्रमुख ऊँचाईयाँ

बहुत दिनों से इच्छा थी एक लिस्ट बनाने की कि मैं हिमालय में कितनी ऊँचाई तक कितनी बार गया हूँ। वैसे तो इस लिस्ट को जितना चाहे उतना बढ़ा सकते हैं, एक-एक गाँव को एक-एक स्थान को इसमें जोड़ा जा सकता है, लेकिन मैंने इसमें केवल चुनिंदा स्थान ही जोड़े हैं; जैसे कि दर्रे, झील, मंदिर और कुछ अन्य प्रमुख स्थान। 

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।