प्रजातंत्र... इंदौर... 24 अक्टूबर 2018







Comments

  1. शानदार प्रस्तुति प्रभु जी

    ReplyDelete
  2. नीरज भाई आपके आखिरी लाइन से हताशा झलक रही है।जायज भी है।लेकिन ऐसे आयोजनों से परिवर्तन की शुरुआत तो होती ही है।किसी न किसी में तो अंकुर फूटेगा।

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी कुछ प्रमुख ऊँचाईयाँ

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

जिम कार्बेट की हिंदी किताबें

डायरी के पन्ने- 30 (विवाह स्पेशल)

लद्दाख बाइक यात्रा का कुल खर्च

ये लोग गलती से Indian बन गए और आज तक Indian हैं

केदारनाथ में दस फीट बर्फ

स्टेशन से बस अड्डा कितना दूर है?

उदयपुर- मोती मगरी और सहेलियों की बाडी