Friday, October 26, 2018

प्रजातंत्र... इंदौर... 24 अक्टूबर 2018




2 comments:

  1. शानदार प्रस्तुति प्रभु जी

    ReplyDelete
  2. नीरज भाई आपके आखिरी लाइन से हताशा झलक रही है।जायज भी है।लेकिन ऐसे आयोजनों से परिवर्तन की शुरुआत तो होती ही है।किसी न किसी में तो अंकुर फूटेगा।

    ReplyDelete