Skip to main content

धराली सातताल ट्रैक, गुफा और झौपड़ी में बचा-कुचा भोजन

ये पराँठे बच गए हैं... इन्हें कौन खाएगा?... लाओ, मुझे दो...

24 जून 2018
कल किसी ने पूछा था - सुबह कितने बजे चलना है?
अगर सुबह सवेरे पाँच बजे मौसम खराब हुआ, तो छह बजे तक निकल पड़ेंगे और अगर मौसम साफ हुआ, तो आराम से निकलेंगे।
क्यों? ऐसा क्यों?
क्योंकि सुबह मौसम खराब रहा, तो दोपहर से पहले ही बारिश होने के चांस हैं। ऊपर सातताल पर सिर ढकने के लिए कुछ भी नहीं है।
तो इसीलिए आज मुझे भी पाँच बजे उठकर बाहर झाँकना पड़ा। मौसम साफ था, तो लंबी तानकर फिर सो गया।
...
आप सभी ने पराँठे खा लिए ना? हमने ऊपर सातताल में झील किनारे बैठकर खाने को कुछ पराँठे पैक भी करा लिए हैं और स्वाद बनाने को छोटी-मोटी और भी चीजें रख ली हैं। अभी दस बजे हैं। धूप तेज निकली है। कोई भी आधी बाजू के कपड़े नहीं पहनेगा, अन्यथा धूप में हाथ जल जाएगा। संजय जी, आप बिटिया को फुल बाजू के कपड़े पहनाइए। क्या कहा? फुल बाजू के कपड़े नहीं हैं? तो तौलिया ले लीजिए और इसके कंधे पर डाल दीजिए। हाथ पर धूप नहीं पड़नी चाहिए।
और अब सभी लोग आगे-आगे चलो। मैं पीछे रहूँगा। बहुत आगे मत निकल जाना। निकल जाओ, तो थोड़ी-थोड़ी देर में हमारी प्रतीक्षा करना। सभी साथ ही रहने चाहिए। यह सीधी पगडंडी जा रही है। जिधर भी यह मुड़ेगी, हमें भी उधर ही मुड़ लेना है।
...
इस यात्रा में बच्चे ढेर सारे सवाल पूछेंगे। उनके हर सवाल का जवाब दिया जाना होगा। लेकिन चुन्नू बाबू तो कुछ पूछ ही नहीं रहे। कम बोलते हैं। संजय जी उनकी इस आदत से बड़े परेशान हैं। कहते हैं - जो बच्चे शुरू में बड़ा ऊधम मचाते हैं, वे आगे चलकर अच्छे हो जाते हैं; लेकिन जो बच्चे शुरू में एकदम गुपचुप रहते हैं, वे आगे चलकर ऊधम मचाते हैं। चुन्नू बड़ा होकर ऊधम मचाया करेगा, इसलिए हम चिंतित रहते हैं।
“क्यों रे चुन्नू! कुछ पूछते क्यों नहीं? अच्छा, यह बताओ कि जंगल में यह रुक-रुककर सीटी बजने जैसी आवाज कैसी है?”
“पता नहीं।”
“पता तो किसी को भी नहीं है, लेकिन अंदाजे से ही बता दो।”
“कोई जंगली जानवर हो सकता है?”
“हाँ, जरूर हो सकता है।”
“या शायद जंगली जानवर न भी हो, कोई और भी कारण हो सकता है।”
“हाँ, सही बात है। बिल्कुल हो सकता है।”
“वैसे, यह आवाज है किसकी?”
“मुझे भी नहीं पता। हो सकता है कोई गड़रिया सब्जी बना रहा हो और कुकर की ढीली सीटी से लगातार भाप निकलती जा रही हो।”
“यहाँ जंगल में कौन सब्जी बनाएगा?”
और इस तरह चुन्नू बाबू शुरू हो गए। संजय जी, आपको अब चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है।
असल में पानी का पाइप टूटा हुआ था। उससे लगातार प्रेशर में पानी आ रहा था, तो उसकी आवाज थी यह।

दोस्तों, इधर आओ। यह देखो। यह है सातताल की पहली झील। समुद्र तल से ऊँचाई 2850 मीटर। मैंने पहले ही बता दिया था कि ये झीलें बेहद छोटी हैं। इसलिए आपको इन्हें देखने में शायद आनंद न आए। तो यह सोच लेना कि हम जंगल-वाक कर रहे हैं। यहाँ अनगिनत वनस्पतियाँ हैं और फोटो खींचने की शानदार लोकेशन भी।
हम स्थानीय लोगों से भी बातचीत करते चलेंगे और उनकी गतिविधियों को भी देखेंगे। वो एक आदमी खेत में काम कर रहा है। चलिए, उससे बातचीत करते हैं।
क्या बात करेंगे उससे?
कुछ भी। उसकी दिनचर्या के बारे में, उसकी पढ़ाई-लिखाई के बारे में, उसकी कमाई के बारे में। और वह नई उम्र का है, तो पहाड़ छोड़कर मैदान में क्यों नहीं गया, यह भी पता करेंगे।
“हमारा यहाँ सेब का बगीचा है जी। बहुत अच्छी कमाई होती है। प्रति पेटी इतने रुपये मिलते हैं, जो सीजन खत्म होने तक कई लाख पार कर जाते हैं। अभी हम चेरी की भी पौध तैयार कर रहे हैं। यहाँ चेरी भी काफी पैदा होती है और सारी की सारी चेरियाँ यहीं पर बिक भी जाती हैं। धराली में आपने देखा होगा, चेरी ढाई सौ रुपये किलो हैं। सेब से भी ज्यादा आमदनी है।”
और आप सभी तो आगे निकल गए, लेकिन इससे मुझे पता चला है कि दूसरी झील के आसपास कहीं गुफा भी है।
अब हम दूसरी झील की ओर चलेंगे। धराली से पहली झील साढ़े तीन किलोमीटर दूर है और पहली से दूसरी झील डेढ़ किलोमीटर पर है। खुशी की बात यह है कि दूसरी झील सातताल में सबसे बड़ी झील है और दुख की बात है कि यह एकदम सूख चुकी है।
वो रहा दूसरा ताल। सूखने के बावजूद भी सबसे ज्यादा खूबसूरत है यह। एकदम खाली हरा-भरा मैदान और उस तरफ घना जंगल। बिल्कुल खजियार जैसी लोकेशन। फिलहाल धूप तेज है। कुछ देर छाँव में बैठ जाते हैं। नहीं, उस पेड़ पर काँटें हैं, उसकी छाँव में मत बैठना।
अब हम वो गुफा ढूँढ़ने जाएँगे, जिसका नाम भीम गुफा भी है। हमें नहीं पता गुफा कहाँ है। लेकिन उसने बताया था कि बायीं ओर को रास्ता जाता है। जबकि सीधा रास्ता तीसरी और चौथी झील पर जाता है। फिलहाल हम बायीं ओर थोड़ी दूर घूमकर आते हैं। कौन साथ चलेगा?
संजय जी, चुन्नू महाराज और अमित राणा चल देते हैं। बाकी सभी यहीं पेड़ की छाँव में बैठते हैं। समुद्र तल से 2980 मीटर ऊपर। आप लोग पराँठे खा लेना, हम लौटकर खाएँगे।





यह हल्की-सी पगडंडी मिली है। इस पर चलते हैं थोड़ी दूर। गुफा मिलेगी, तो ठीक है; अन्यथा लौट आएंगे। अब मैं मोबाइल में गाने बजा देता हूँ। चारों ओर घना जंगल है। और आपको पता ही है कि पूरे हिमालय के जंगलों में तेंदुए और काले भालू बहुतायत में हैं। इस जंगल में भी ये जानवर मौजूद हैं। उनसे बचना है, तो हमें उन्हें बताना होगा कि हम आ रहे हैं। वे रास्ते से हट जाएंगे। समस्या तब होती है, जब अचानक आमना-सामना हो जाता है। या तो हम जोर-जोर से बातें करते हुए चलें या फिर मोबाइल में तेज आवाज में गाने बजाएं।

यह बाड़ कैसी है? उस तरफ सेब का बगीचा है और खेत भी हैं। उधर एक छानी भी दिख रही है। बाड़ पार करें क्या? अगर छानी में कुत्ता हुआ तो? तेंदुए और काले भालू से तो बचना आसान है, लेकिन कुत्ते से बचना आसान नहीं। उससे छुपने में ही भलाई है।
अरे, छानी से एक आदमी बाहर निकल आया है और हमें आने का इशारा कर रहा है। चलो, चलते हैं। अब कुत्ते की कोई समस्या नहीं।
यहाँ तो बहुत सारे आदमी हैं। दारू की भी गंध आ रही है। मतलब पार्टी चल रही है। जंगल में मंगल।
“यह हमारा ही फार्म है। हम वैसे तो देहरादून में सैटल हो गए हैं, लेकिन साल में कभी-कभार आ जाते हैं। कल आए थे, उधर जंगल में कैंपिंग की थी। यह नेपाली नौकर बहादुर यहीं रहता है। सब यही सम्भालता है। फिलहाल सेब की खेती है, चेरी भी है और राजमा आदि भी बो रखा है।... और आप लोग चाय पीकर जाना, बन रही है।”
“मंजूर।”
तभी चुन्नू की आवाज आई - “पापा, भूख लगी है, चलो।”
“अरे, भूख लगी है। तो ये लो साग और चावल।”
प्लेट में साग और बासमती चावल हाजिर हो जाते हैं। कुछ चुन्नू ने खाए और कुछ उसके पापा ने। तारीफ दोनों ने की।
सभी लोग साथ ही निकल पड़ते हैं। इन्हें अब देहरादून जाना है। शायद अगले साल फिर आएंगे। हमें यहीं ठहरने का सुझाव देते हैं। खाने-पीने की कोई तंगी है ही नहीं।
लेकिन हमें भीम गुफा देखनी है। बहादुर दिखा देगा। पीछे लग लो इसके।
गुफा बहुत लंबी चौड़ी नहीं है। इधर से घुसो और उधर से निकल जाओ। खड़े-खड़े ही पार कर जाओगे। कहते हैं कि हर साल इसमें जून तक भी बर्फ भरी रहती थी, अमरनाथ जी की तरह, लेकिन इस साल कम बर्फबारी हुई है, इसलिए सब पिघल गई।

चलिए, अब हमने गुफा देख ली और साग चावल भी खा लिए। घने जंगल में स्थित ऐसी जगह की हमने कल्पना भी नहीं की थी। यहाँ तो बार-बार आना चाहिए।
“हम लोग यहाँ सर्दियों में भी रहते हैं। चारों ओर बर्फ होती है और आने-जाने के सब रास्ते बंद हो जाते हैं।” बहादुर ने बताया।

और ताल के किनारे बैठे सभी यात्री हमारी प्रतीक्षा करते-करते ऊब चुके थे और नतीजा अब मिला। सबने खूब सुनाई हमें। उन्हें नहीं पता था कि यहाँ से कुछ ही दूर जंगल के बीच में एक छानी भी है।
“अरे, हम वहाँ साग और चावल खाकर आए हैं।”
“हा हा हा... गुफा में सफेद बालों वाली बुढ़िया साग बना रही होगी।”
“हमारी बात पर यकीन नहीं हो रहा ना? अभी थोड़ी देर में बहादुर आएगा, तब आएगा आपको यकीन।”

उधर से बहादुर आता दिखा और इधर सभी को यकीन होता चला गया। साग बना है तो गजब का ही बना होगा। हमें क्यों नहीं बुलाया आपने?
“बहादुर भाई, साग और भी बचा है क्या?”
“हाँ जी, बहुत सारा बचा है।”
“तो चलो, हम भी खाएंगे।”
“चल तो देता, लेकिन मालिक लोग नीचे धराली गए हैं। उनका यह सामान मुझे ले जाना है। वे मेरी प्रतीक्षा करेंगे।”
“प्लीज, प्लीज।”

कुछ ही देर में हम सभी उस छानी में थे। तमाम तरह के फूल लगे थे। दीप्ति को काम मिल गया। चूल्हा जलाकर साग-चावल गर्म कर दिए। और सब के सब प्लेटों में, थालियों में लगे पड़े थे। खा भी रहे थे और वाहवाही भी कर रहे थे।
समुद्र तल से 3000 मीटर ऊपर। चारों ओर घना जंगल। एक छानी। छानी मतलब कच्चा अस्थाई घर। सड़क किनारे छानियाँ नहीं मिलती जी। ये मिलती हैं सड़क से बहुत दूर। और इनमें रुकना और भोजन करना अलौकिक अनुभव होता है।
आज आप सभी ने इस अलौकिक अनुभव को महसूस कर लिया है।
बहादुर को नीचे जाने की जल्दी थी और उसने हमारे लिए पूरी छानी खोल दी, सारे बिस्तर-गद्दे खोल दिए।
“आप आज यहीं रुक जाओ। सारा राशन है ही। बनाना और खाना।”
हम रुक तो जाते, बना-खा भी लेते, सबका रुकने का मन भी था, लेकिन इतने लोगों के लिए कंबल रजाइयाँ यहाँ नहीं थे।
काश! पहले पता होता।
अगली बार जब भी आएंगे, स्लीपिंग बैग तो जरूर लाएंगे। सिर छुपाने की पर्याप्त जगह है यहाँ।


वो रही छानी

यह जमीन इन्हीं की है, नाम पता नहीं। देहरादून रहते हैं।


भीम गुफा






सूख चुका दूसरा ताल अब भी कम खूबसूरत नहीं है।

उमेश और अजय छानी में

यहाँ तमाम तरह के फूल थे


साग और चावल का भोग...




ऊँचाई के कारण चुन्नू को सिरदर्द हो रहा था। 3000 मीटर की ऊँचाई बहुत ज्यादा नहीं होती, लेकिन दस मिनट सो लेने से आराम मिलता है।


संजय जी और उमेश जी छानी में आराम फरमाते हुए... साथ ही आज रात यहीं रुक जाने के बारे में भी योजना बनाते हुए...

यह रही हमारी मंडली... फोटो लिया है दीप्ति ने...






दूसरी झील के किनारे ये खंडहर दिखते हैं... यहाँ कभी एक बाबाजी रहा करते थे... आग लग गई तो छोड़ना पड़ा...





वापसी का सफर




एक ने पूरा पेड़ उठा रखा है... एक खाली बोतल लिए खड़ा है...


और यह है भोजपत्र का पेड़

कुछ छोटी-छोटी वीडियो भी हैं... इन्हें भी देख लीजिए... अच्छा लगेगा...






अगला भाग: नेलांग यात्रा और गंगोत्री भ्रमण






1. गंगनानी में नहाना, ड्राइवर से अनबन और मार्कंडेय मंदिर
2. धराली सातताल ट्रैक, गुफा और झौपड़ी में बचा-कुचा भोजन
3. नेलांग यात्रा और गंगोत्री भ्रमण




Comments

  1. मजा आ गया, एक ना भूलने वाला स्वाद और बेहद शानदार दिन।

    ReplyDelete
  2. क्या कमेंट करूँ कुछ समझ न रहा।कभी और तफ़रीह के लिए चलेंगे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप भी ब्लॉग लिखते है,

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

पुस्तक-चर्चा: पिघलेगी बर्फ

पुस्तक मेले में घूम रहे थे तो भारतीय ज्ञानपीठ के यहाँ एक कोने में पचास परसेंट वाली किताबों का ढेर लगा था। उनमें ‘पिघलेगी बर्फ’ को इसलिये उठा लिया क्योंकि एक तो यह 75 रुपये की मिल गयी और दूसरे इसका नाम कश्मीर से संबंधित लग रहा था। लेकिन चूँकि यह उपन्यास था, इसलिये सबसे पहले इसे नहीं पढ़ा। पहले यात्रा-वृत्तांत पढ़ता, फिर कभी इसे देखता - ऐसी योजना थी। उन्हीं दिनों दीप्ति ने इसे पढ़ लिया - “नीरज, तुझे भी यह किताब सबसे पहले पढ़नी चाहिये, क्योंकि यह दिखावे का ही उपन्यास है। यात्रा-वृत्तांत ही अधिक है।”  तो जब इसे पढ़ा तो बड़ी देर तक जड़वत हो गया। ये क्या पढ़ लिया मैंने! कबाड़ में हीरा मिल गया! बिना किसी भूमिका और बिना किसी चैप्टर के ही किताब आरंभ हो जाती है। या तो पहला पेज और पहला ही पैराग्राफ - या फिर आख़िरी पेज और आख़िरी पैराग्राफ।

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।