Skip to main content

अब फोटो खींचकर पैसे कमाइए...

रोरिक आर्ट गैलरी, नग्गर

इस यात्रा वृत्तान्त को आरम्भ से पढने के लिये यहां क्लिक करें
नग्गर का जिक्र हो और रोरिक आर्ट गैलरी का जिक्र न हो, असम्भव है। असल में रोरिक ने ही नग्गर को अन्तर्राष्ट्रीय पहचान दी है। निकोलस रोरिक एक रूसी चित्रकार था। उसकी जीवनी पढने से पता चलता है कि एक चित्रकार होने के साथ-साथ वह एक भयंकर घुमक्कड भी था। 1917 की रूसी क्रान्ति के समय उसने रूस छोड दिया और इधर-उधर घूमता हुआ अमेरिका चला गया। वहां से वह भारत आया लेकिन नग्गर तब भी उसकी लिस्ट में नहीं था। पंजाब से शुरू करके वह कश्मीर गया और फिर लद्दाख, कराकोरम, खोतान, काशगर होते हुए तिब्बत में प्रवेश किया। तिब्बत में उन दिनों विदेशियों के प्रवेश पर प्रतिबन्ध था। वहां किसी को मार डालना फूंक मारने के बराबर था। रोरिक भी मरते-मरते बचा और भयंकर परिस्थितियों का सामना करते हुए उसने सिक्किम के रास्ते भारत में पुनः प्रवेश किया और नग्गर जाकर बस गये। एक रूसी होने के नाते अंग्रेज सरकार निश्चित ही उससे बडी चौकस रहती होगी।

खैर, चित्रकारी में वह प्रसिद्ध तो पहले से ही था, भारत आकर जब वह स्थापित हो गया तो और भी ज्यादा प्रसिद्धि मिलने लगी। 13 दिसम्बर 1947 को यहीं पर उनकी मृत्यु हुई। उनके घर को ही अब संग्रहालय का रूप दे दिया गया है और रोरिक आर्ट गैलरी के नाम से जाना जाता है। इसी में उनके चित्रों का संग्रह है। इन्हीं में से एक चित्र जवाहर लाल नेहरू व इन्दिरा गांधी का भी है। इन्दिरा बडी अच्छी लग रही है। रोरिक का घर बिल्कुल साफ सुथरा है और बन्द ही रहता है। दर्शकों को बाहर ही बाहर गैलरी में घूम-घूमकर व खिडकियों-दरवाजों के अन्दर झांक-झांककर इसे देखना होता है। वास्तव में इसके ठाठ देखकर बडा दिल जलता है। तब वे जिस कार का प्रयोग करते थे, वह भी यहां सुरक्षित खडी है। इसमें प्रवेश का शुल्क पचास रुपये है।
आर्ट गैलरी से कुछ पहले नग्गर का किला भी है। पहले यह कुल्लू के राजाओं का महल हुआ करता था। बाद में उन्होंने इसे अंग्रेजों को बेच दिया। आजादी के बाद यह भारत सरकार के नियन्त्रण में आ गया और इसे दर्शनीय स्थल बनाने हेतु राष्ट्रीय धरोहर बना दिया गया। आज इसमें हिमाचल पर्यटन का एक होटल है। यह इस इलाके की अन्य इमारतों की तरह लकडी व पत्थर से बना है व भूकम्परोधी है। इसमें भी प्रवेश का शुल्क लगता है, फोटो खींचने का शुल्क अलग से है। हम यहां तक आते-आते पसीने पसीने हो गये थे। कारों में मनाली घूमने आये रईस साफ-सुथरे ‘टूरिस्टों’ की भीड में हमने घुसना ठीक नहीं समझा और इसे बाहर से ही प्रणाम करके आगे बढ चले।
निकोलस रोरिक का घर

इस फोटो में बायें नेहरू है तो बीच में इन्दिरा।




यहां से दिखता ब्यास घाटी का विहंगम नजारा



रोरिक की एक कलाकृति


रोरिक की कार



अगला भाग: चन्द्रखनी ट्रेक- रूमसू गांव

चन्द्रखनी ट्रेक
1. चन्द्रखनी दर्रे की ओर- दिल्ली से नग्गर
2. रोरिक आर्ट गैलरी, नग्गर
3. चन्द्रखनी ट्रेक- रूमसू गांव
4. चन्द्रखनी ट्रेक- पहली रात
5. चन्द्रखनी दर्रे के और नजदीक
6. चन्द्रखनी दर्रा- बेपनाह खूबसूरती
7. मलाणा- नशेडियों का गांव




Comments

  1. aap k sath hm v ghum liye....

    ReplyDelete
  2. अत्यंत ज्ञानवर्धक जानकारी नीरज भाई। भारतीय सभ्यता हमेशा से विदेशी बुद्धिजीवी वर्ग को सम्मोहित करती आई है। गर्व है।
    वैसे रोरिक साहब को वैश्विक शांति के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार के लिए भी नामांकित किया जा चुका है।

    ReplyDelete
  3. नीरज भाई किसी भी चीज की [रोरिक] इतनी गहराई से जानकारी लेकर उसको शब्दों में उड़ेलकर समझाने की आपकी कला वास्तव में तहे दिल से तारीफ के काबिल है.
    धन्यवाद.

    ReplyDelete
  4. मैं कई बार नग्गर जा चूका हूँ. इस गैलिरी के सामने से भी कई बार गुज़रा हूँ. पर मेरी रोरिक के बारे में सोच यह थी की यह कोई रूसी-ज्यू गंजेड़ी कलाकार होगा, जैसे कसोल में पड़े रहते हैं. इसीलिए कभी उत्सुकता नहीं हुई. अब अन्दर जाकर देखूंगा.

    ReplyDelete
    Replies
    1. नहीं, सभी नशेडी गंजेडी नहीं होते।

      Delete
  5. बहुत सुन्दर और रोचकता से भरपूर नीरज भाई........ एक फोटो में आपने 'विहंगम' शब्द का इस्तेमाल किया है। कृपया 'विहंगम' और 'सुंदर' शब्द में अंतर बता दीजिये।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ‘विहंगम’ और ‘सुन्दर’ में अन्तर...
      नहीं पता।

      Delete
    2. Vihagam means bird's eye view

      Delete
    3. जहाँ तक मुझे पता है विहंगम मतलब पैनोरामिक होता है

      Delete
    4. विशाल जी,
      विहंगम शब्द विहंग से बना है , विहंग का मतलब चिड़िया होता है , अंगरेजी में इसे Bird's eye view कहते है. जैसे ऊपर से चिड़िया देखती है ऐसा नजारा
      ब्रजेश मिश्रा

      Delete
  6. सर जी अबकी बार छोटी छोटी पोस्ट अपडेट कर रहे हो.

    ReplyDelete
    Replies
    1. yr sir ji ko shikayat mt kro bdi muskil se to ye bole bhandari mane hkanhi fir naraj ho gye to 3 mahino ka hangover ho jayega....
      fir ye 6oti post v ni milengi

      Delete
    2. तसल्ली रखो, सचिन भाई। बडी पोस्टें भी आयेंगी।

      Delete
    3. नहीं रोहित भाई... यह एक धरोहर है। इसे किराये पर नहीं लिया जा सकता। और न ही विशेष आज्ञापत्र के बिना इसके सभी कमरों में घूमा जा सकता।

      Delete
  7. इलाहाबाद संग्रहालय में तो एक वीथिका रोरिक को समर्पित है। शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  8. yahan per ek yellow colour ki car bhi hogi.....

    ReplyDelete
  9. जहाँ तक मुझे पता है विहंगम मतलब पैनोरामिक होता है

    ReplyDelete
  10. दिलचस्प यात्रा ---पढ़ने को कब से बेकरार थे --

    ReplyDelete
  11. कुछ दिन पहले ही 16 अप्रैल से 23 तक , हम हिमाचल में घूमे . नग्गर में यह आर्ट गैलरी भी देखी . अब जरूरी लगा कि आपका यह संस्मरण भी पढ़ूँ . सब कुछ वैसा ही ..हाँ लिखने का नजरिया व शैली और भी उत्कृष्ट है .

    ReplyDelete
  12. निकोलस रोरिक आर्टिस्ट के इतिहास ,उनकी कला ,उनका निवास आदि का बखूबी चित्रण किया है इस पिस्ट मे

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी कुछ प्रमुख ऊँचाईयाँ

बहुत दिनों से इच्छा थी एक लिस्ट बनाने की कि मैं हिमालय में कितनी ऊँचाई तक कितनी बार गया हूँ। वैसे तो इस लिस्ट को जितना चाहे उतना बढ़ा सकते हैं, एक-एक गाँव को एक-एक स्थान को इसमें जोड़ा जा सकता है, लेकिन मैंने इसमें केवल चुनिंदा स्थान ही जोड़े हैं; जैसे कि दर्रे, झील, मंदिर और कुछ अन्य प्रमुख स्थान। 

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।