Skip to main content

सुरकण्डा देवी

इस यात्रा वृत्तान्त को आरम्भ से पढने के लिये यहां क्लिक करें

सुरकण्डा देवी गढवाल में बहुत प्रसिद्ध शक्तिपीठ है। इसकी दूर-दूर तक मान्यता है। मसूरी-चम्बा के बीच में धनोल्टी है। यह चम्बा वो हिमाचल वाला चम्बा नहीं है बल्कि उत्तराखण्ड में भी एक चम्बा है। यह हिमाचल वाले की तरह जिला तो नहीं है लेकिन काफी बडा कस्बा है। चम्बा ऋषिकेश-टिहरी रोड पर पडता है।

 धनोल्टी से छह किलोमीटर दूर कद्दूखाल नाम की एक जगह है जहां से सुरकण्डा देवी के लिये रास्ता जाता है। दो किलोमीटर पैदल चलना पडता है। पक्का रास्ता बना है और खच्चर भी मिल जाते हैं। मेरे लिये इस जगह का आकर्षण दूसरी वजह से था। वो यह कि मुझे बताया जाता था कि यहां जाने के लिये हालांकि पैदल का रास्ता कम ही है लेकिन चढाई बडी भयानक है। जब सन्दीप भाई ने भी इस चढाई की भयानकता पर मोहर लगा दी तो लगने लगा कि वाकई कुछ तो है।

इस दो किलोमीटर के रास्ते को दो भागों में बांटा जा सकता है। पहला भाग ज्यादा तीव्र नहीं है जबकि दूसरा भाग बहुत तेज चढाई वाला है। अगर पक्के कंक्रीट वाले रास्ते से जायें तो कुछ खास फरक नहीं पडता। इसके अलावा मुझ जैसों के लिये कच्चा शॉर्ट कट भी है और यह शॉर्ट कट वाकई हैरतअंगेज है। फिर भी असली आनन्द शॉर्ट कट वाले रास्ते से जाने में ही है। कद्दूखाल जहां 2490 मीटर की ऊंचाई पर है वहीं सुरकण्डा देवी की ऊंचाई 2750 मीटर है यानी दो किलोमीटर पैदल चलकर 260 मीटर चढना कठिन चढाई में आता है।

 अब सुरकण्डा देवी का एक शानदार मन्दिर बन रहा है। हमारे अलावा एकाध श्रद्धालु और थे। धार्मिक दृष्टि से देखें तो बडे आराम से देवी के दर्शन किये, आरती में भाग लिया और प्रसाद खाया- हलुवे का प्रसाद था। पास में ही शिव और हनुमान के मन्दिर भी हैं। 

 यहां की जो सबसे बढिया बात लगी, वो हैं गढवाल हिमालय की चोटियां। जो नजारा कुमाऊं हिमालय का रानीखेत से दिखता है वहीं नजारा यहां से गढवाल हिमालय का दिखता है। नन्दा देवी से शुरू होकर किन्नौर तक की चोटियां यहां से दिखती हैं। पीछे मुडकर देखें तो ऋषिकेश और देहरादून भी दिखते हैं, गंगा भी दिखती है। हालांकि उस समय वातावरण में हल्की हल्की धुंध सी छाई थी इसलिये हमें ऋषिकेश और गंगा नहीं दिखी। लेकिन दक्षिण दिशा में यानी ऋषिकेश-देहरादून की दिशा में कोई ऊंची चोटी नहीं है, पहाड धीरे धीरे नीचे होते चले जाते हैं, तो मेरा यह अन्दाजा निराधार नहीं है।

कद्दूखाल से सुरकण्डा जाने वाला रास्ता

कद्दूखाल में पार्किंग



शॉर्ट कट

एक मोबाइल टावर दिख रहा है, वह कद्दूखाल में है।

कद्दूखाल

सुरकण्डा देवी का निर्माणाधीन मन्दिर

भैरव, हनुमान और शिव के मन्दिर



सुरकण्डा से दिखती हिमालयी चोटियां








समाप्त।


मसूरी धनोल्टी यात्रा
1. शाकुम्भरी देवी शक्तिपीठ
2. सहस्त्रधारा और शिव मन्दिर
3. मसूरी झील और केम्प्टी फाल
4. धनोल्टी यात्रा
5. सुरकण्डा देवी

Comments

  1. आखिरी बार 2 नवम्बर को गया था, तब से तो कुछ नहीं बदला है, मार्ग भी तभी पक्का हो गया था, सडक पर रहने का ठिकाना भी बन चुका था। सबसे बडा अन्तर जो आया है वो है नया मन्दिर निर्माण, चलो भाई इसे पूरा हो जाने दो अब तभी देखा जायेगा। अगर कोई इस क्षेत्र में बर्फ़ की इच्छा पूरी करना चाहता है तो मंसूरी में बर्फ़ गिरे या ना गिरे यहाँ हर हालत में गिरती है। और बहुत दिनों तक टिकती भी है।

    ReplyDelete
  2. इस पवित्र यात्रा की वर्चुअल सैर कराने का शुक्रिया।

    ------
    आपका स्‍वागत है..
    .....जूते की पुकार।

    ReplyDelete
  3. वाह. जो मुंह उठा कर विदेशों के गुण गाते घूमते हैं उन्होंने तो अपना ही मुल्क़ नहीं देखा.

    ReplyDelete
  4. वाह! सुन्दर चित्रों के साथ बहुत बढ़िया जानकारी

    Gyan Darpan
    .

    ReplyDelete
  5. रोमांचक और नयनाभिराम.

    ReplyDelete
  6. ये खुला आसमाँ, आ गये हम कहाँ..

    ReplyDelete
  7. जीते रहो मेरे शेर ....
    जीवन को जीना कोई तुमसे सीखे ...बहुतों को, तुम अपने जीवन में बिना बोले सिखाने में समर्थ रहोगे !
    तुझे देख जलन होने लगी है चौधरी !
    सस्नेह शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. नीरज भाई मैं सुरकंडा देवी तीन बार जा चुका हूँ, तुम्हारे द्वारा यात्रा वृत्तान्त पढ़ कर यादे ताज़ा हो गयी हैं, वहा पर हर मुराद पूरी होती हैं, जय माता की

    ReplyDelete
  9. ज्ञान वर्धक जानकारी, धन्यबाद

    ReplyDelete
  10. फोटो देखकर लगता है कि हम लोगों की तरह आपने भी भ्रमण की यादों के लिये डीएसएलआर (DSLR) कैमरा ले लिया है।

    ReplyDelete
  11. ओहो ! तो तुम आखिर में मंदिर चले ही गए ....तुम्हारा तिलक इसका गवाह हैं नीरज! वेसे जम रहे हो ?

    ReplyDelete
  12. सुन्दर चित्र हैं. MSc के दौरान फिल्ड वर्क में गया था वहां. कुछ बैचमेट्स ने तय किया नॉन स्टॉप चढ़ने का. सभी बीच में ही बैठते रहे, बस मैं ही अकेला बिना रुके चढ़ा.

    ReplyDelete
  13. bhaai.. mujhe bhi traveling acha lagta hai.. abhi main auli hokar aaya tha..pls put your precious comment as I am new to this field..

    http://mynetarhat.blogspot.com/2012/01/blog-post.html

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

जाटराम की पहली पुस्तक: लद्दाख में पैदल यात्राएं

पुस्तक प्रकाशन की योजना तो काफी पहले से बनती आ रही थी लेकिन कुछ न कुछ समस्या आ ही जाती थी। सबसे बडी समस्या आती थी पैसों की। मैंने कई लेखकों से सुना था कि पुस्तक प्रकाशन में लगभग 25000 रुपये तक खर्च हो जाते हैं और अगर कोई नया-नवेला है यानी पहली पुस्तक प्रकाशित करा रहा है तो प्रकाशक उसे कुछ भी रॉयल्टी नहीं देते। मैंने कईयों से पूछा कि अगर ऐसा है तो आपने क्यों छपवाई? तो उत्तर मिलता कि केवल इस तसल्ली के लिये कि हमारी भी एक पुस्तक है। फिर दिसम्बर 2015 में इस बारे में नई चीज पता चली- सेल्फ पब्लिकेशन। इसके बारे में और खोजबीन की तो पता चला कि यहां पुस्तक प्रकाशित हो सकती है। इसमें पुस्तक प्रकाशन का सारा नियन्त्रण लेखक का होता है। कई कम्पनियों के बारे में पता चला। सभी के अलग-अलग रेट थे। सबसे सस्ते रेट थे एजूक्रियेशन के- 10000 रुपये। दो चैप्टर सैम्पल भेज दिये और अगले ही दिन उन्होंने एप्रूव कर दिया कि आप अच्छा लिखते हो, अब पूरी पुस्तक भेजो। मैंने इनका सबसे सस्ता प्लान लिया था। इसमें एडिटिंग शामिल नहीं थी।