Skip to main content

देहरादून का इतिहास

भौगोलिक रूप से देहरादून शिवालिक की पहाडियों और मध्य हिमालय की पहाडियों के बीच में स्थित है। वास्तव में यह पूर्व में गंगा से लेकर पश्चिम में यमुना नदी तक फैला हुआ है। इस तरह की विस्तृत घाटियों को ही "दून" कहते हैं। इस घाटी में सौंग व आसन जैसी कई नदियाँ हैं। आसन व यमुना के संगम पर तो बैराज भी बना है।
इसी जिले में ऋषिकेश व मसूरी जैसी विश्व प्रसिद्द जगहें हैं। राजाजी राष्ट्रीय पार्क का काफी बड़ा हिस्सा भी इसी में पड़ता है। भारतीय सर्वेक्षण विभाग और राष्ट्रीय वन अनुसन्धान संस्थान देहरादून में ही हैं। देश को मिलिट्री अफसर देने वाली इंडियन मिलिट्री अकेडमी (IMA) यही पर है।
अब देखते हैं देहरादून का इतिहास। 1675 में सिक्खों के सातवें गुरू, गुरू हरराय के पुत्र राम राय ने यहाँ एक डेरा स्थापित किया था। इसी डेरा को बाद में "देहरा" कहा जाने लगा।
स्कन्द पुराण के अनुसार यह इलाका केदार खंड का भाग था। यहाँ पर भगवान् शिवजी का शासन था। यह भी कहा जाता है कि देहरादून गुरू द्रोणाचार्य की जन्मस्थली थी। स्वर्गारोहण को जाते समय पांडवों ने भी यहाँ कुछ समय व्यतीत किया था। ईसा पूर्व कुछ शताब्दियों पहले विश्व के महान सम्राट अशोक का राज्य यहाँ तक फैला था। अशोक ने कालसी में शिलालेख भी खुदवाए। कालसी देहरादून से 50-60 किलोमीटर दूर है।
1815 तक देहरादून नेपाली गोरखाओं के कब्जे में रहा। इसके बाद अंग्रेजों ने कब्जा कर लिया। और इसे सहारनपुर जिले की तहसील बना दिया। 1825 में देहरादून तहसील को कुमाऊँ मंडल में कर दिया गया, जिला सहारनपुर ही रहा। इसके चार साल बाद ही इसे कुमाऊँ से हटाकर मेरठ मण्डल में डाल दिया। इसके महत्त्व को देखते हुए अंग्रेजों ने 1871 में देहरादून को जिला बना दिया।
आजादी के बाद उत्तर प्रदेश के पहाडी जिलों को दो मंडलों में बाँट दिया- गढ़वाल व कुमाऊँ। 1968 में देहरादून को मेरठ मंडल से हटाकर गढ़वाल मंडल में मिला दिया गया। 9 नवम्बर, सन 2000 को उत्तराँचल (अब उत्तराखंड) बनने के बाद इसे अस्थायी राजधानी बनाया गया। यहाँ के क्षेत्रीय राजनीतिक दल चमोली जिले के गैरसैण गाँव को स्थायी राजधानी बनाने की मांग कर रहे हैं।
यहाँ पहुँचने के लिए दिल्ली, चंडीगढ़ व हरिद्वार जैसी जगहों से नियमित बस सेवा उपलब्ध है। देहरादून से पैंतीस किलोमीटर दूर ऋषिकेश के पास जौलीग्रांट में सक्रिय हवाई अड्डा भी है। और ट्रेनें भी कम नहीं हैं।
देहरादून जाकर आप कहाँ कहाँ घूम सकते हैं? अभी बताता हूँ- ऋषिकेश, मसूरी, सहस्त्रधारा, डाकपत्थर, आसन पक्षी विहार, चकराता, लाखामंडल, कालसी आदि।
बस, अभी इतना ही।

Comments

  1. बहुत अच्छी जानकारी के लिए आभार ! ब्लॉग पर लगा तिरंगा बहुत अच्छा लगा !

    ReplyDelete
  2. जल्द घुमने जाते है..

    लो टिप्पणी.. दो धन्यवाद :)

    ReplyDelete
  3. अरे आपने तो देहरादून जाने का मूड बना दिया है.....बहुत अच्छी जानकारी दी है आपने

    ReplyDelete
  4. आभार, अच्छी जानकारी के लिए ।

    ReplyDelete
  5. बहुत लाजवाब जानकारी दी आपने.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. देहरादून का इतिहास बताने का शुक्रिया ।

    और कार से भी जाया जा सकता है । :)

    हम लोग तो कार से कई घूमने गए है देहरादून और उसके आस-पास की जगहें ।

    ReplyDelete
  7. देहरादून जाकर 'गुच्चू पानी' देखना न भूलियेगा.

    ReplyDelete
  8. achhi jankari di hai apne dehradoon ki...

    ReplyDelete
  9. देहरादून देख चुके हैं। अच्छा लगा था जाना।

    ReplyDelete
  10. Dehradun Tourism ko shukragujar hona chahiye aapka. acchi jaankari di hai.

    ReplyDelete
  11. इतिहास बताने के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  12. जब भी दुबारा वहाँ जाना होगा तो ये पोस्ट पढकर जाऊँगा।

    ReplyDelete
  13. सुंदर आलेख. डेरा का देहरा बन जाना हमारे लिए तो एकदम ताजा जानकारी है.

    ReplyDelete
  14. BHAI JI !! 1 Blog mein 2 pic alag-alag jagah add karna sikhaoge hame :-)

    ReplyDelete
  15. ABE YAAR TUNE TU JAAT DHARAM SALA SE JANE KE BAAD NA HI KOI PHONE BHI NAHI KIYA ? RAAT ME TERE KO PHONE KARNE KI SOCH RAHA THA PAR YAAR NEED AA GAI
    OR SUNA KYA CHAAL RAHA HAI
    MEERUT KAB GAYEGA
    MAIN ES BAAR MEERUT NAHI JAUGA KUNKI ME AGRA JA RAHA HOO ...........
    ROHIT CHAUDHARY DAURALA

    ReplyDelete
  16. aapka blog padha...achcha likhte hai aap...ho sake to taswiro ki sakhya badhaeye...likhte rahe

    ReplyDelete
  17. उत्तराखंड से जुड़े यादगार यात्रा-संसमरण हमें भेज सकते हैं...जिसके लिए अग्रिम ध्न्यवाग !

    ReplyDelete
  18. Dehradun ko garhwal mandal me 1975 me samil kiya tha

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

जाटराम की पहली पुस्तक: लद्दाख में पैदल यात्राएं

पुस्तक प्रकाशन की योजना तो काफी पहले से बनती आ रही थी लेकिन कुछ न कुछ समस्या आ ही जाती थी। सबसे बडी समस्या आती थी पैसों की। मैंने कई लेखकों से सुना था कि पुस्तक प्रकाशन में लगभग 25000 रुपये तक खर्च हो जाते हैं और अगर कोई नया-नवेला है यानी पहली पुस्तक प्रकाशित करा रहा है तो प्रकाशक उसे कुछ भी रॉयल्टी नहीं देते। मैंने कईयों से पूछा कि अगर ऐसा है तो आपने क्यों छपवाई? तो उत्तर मिलता कि केवल इस तसल्ली के लिये कि हमारी भी एक पुस्तक है। फिर दिसम्बर 2015 में इस बारे में नई चीज पता चली- सेल्फ पब्लिकेशन। इसके बारे में और खोजबीन की तो पता चला कि यहां पुस्तक प्रकाशित हो सकती है। इसमें पुस्तक प्रकाशन का सारा नियन्त्रण लेखक का होता है। कई कम्पनियों के बारे में पता चला। सभी के अलग-अलग रेट थे। सबसे सस्ते रेट थे एजूक्रियेशन के- 10000 रुपये। दो चैप्टर सैम्पल भेज दिये और अगले ही दिन उन्होंने एप्रूव कर दिया कि आप अच्छा लिखते हो, अब पूरी पुस्तक भेजो। मैंने इनका सबसे सस्ता प्लान लिया था। इसमें एडिटिंग शामिल नहीं थी।