Friday, November 20, 2015

दिल्ली से गैरसैंण और गर्जिया देवी मन्दिर

   सितम्बर का महीना घुमक्कडी के लिहाज से सर्वोत्तम महीना होता है। आप हिमालय की ऊंचाईयों पर ट्रैकिंग करो या कहीं और जाओ; आपको सबकुछ ठीक ही मिलेगा। न मानसून का डर और न बर्फबारी का डर। कई दिनों पहले ही इसकी योजना बन गई कि बाइक से पांगी, लाहौल, स्पीति का चक्कर लगाकर आयेंगे। फिर ट्रैकिंग का मन किया तो मणिमहेश परिक्रमा और वहां से सुखडाली पास और फिर जालसू पास पार करके बैजनाथ आकर दिल्ली की बस पकड लेंगे। आखिरकार ट्रेकिंग का ही फाइनल हो गया और बैजनाथ से दिल्ली की हिमाचल परिवहन की वोल्वो बस में सीट भी आरक्षित कर दी।
   लेकिन उस यात्रा में एक समस्या ये आ गई कि परिक्रमा के दौरान हमें टेंट की जरुरत पडेगी क्योंकि मणिमहेश का यात्रा सीजन समाप्त हो चुका था। हम टेंट नहीं ले जाना चाहते थे। फिर कार्यक्रम बदलने लगा और बदलते-बदलते यहां तक पहुंच गया कि बाइक से चलते हैं और मणिमहेश की सीधे मार्ग से यात्रा करके पांगी और फिर रोहतांग से वापस आ जायेंगे। कभी विचार उठता कि मणिमहेश को अगले साल के लिये छोड देते हैं और इस बार पहले बाइक से पांगी चलते हैं, फिर लाहौल में नीलकण्ठ महादेव की ट्रैकिंग करेंगे और वापस रोहतांग से आ जायेंगे। इस यात्रा में ऊधमपुर के रहने वाले रोमेश शर्मा जी ने भी सहमति दे दी। दिल्ली का ही एक मित्र करण जादौन अपनी बुलेट पर साथ चलेगा और पठानकोट से हम रोमेश जी को ले लेंगे।

   लेकिन तभी मौसम खराब हो गया। इतना खराब हो गया कि हिमाचल की कई सडकें बन्द होने की खबरें आने लगीं। मुझे सबसे ज्यादा डर साचपास का था। हमारी यात्रा का उच्चतम बिन्दु वही था और वहां बर्फ पडने की उडती-उडती खबर भी मुझे मिली थी। रोमेश जी से बात हुई। उन्होंने बताया कि ऊधमपुर में भी बारिश से बुरा हाल है और अगले तीन दिन भारी बारिश होगी। इतना जानते हुए भी उस इलाके में यात्रा करना ठीक नहीं।
   जहां हिमाचल और जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश हो रही थी, वही उत्तराखण्ड में बिल्कुल भी बारिश नहीं थी। अब इरादा बना उत्तराखण्ड जाने का। पूरे आठ दिन हमारे हाथ में थे। मैं बद्रीनाथ नहीं गया हूं, इसलिये बद्रीनाथ चलो। साथ में या तो सतोपंथ ताल की ट्रैकिंग करेंगे या फिर रुद्रनाथ की। दोनों ही ट्रैक तीन-तीन दिनों के हैं। साथ में ट्रैकिंग स्टिक भी ले लीं। 23 सितम्बर को दोपहर डेढ बजे मैं, निशा और करण दो बाइकों पर चल पडे।
   बद्रीनाथ जाने का सीधा मार्ग है हरिद्वार होते हुए। लेकिन मैं अगर हरिद्वार से जाऊंगा तो वापसी हरिद्वार से नहीं करूंगा, किसी अन्य मार्ग से आऊंगा। इसलिये क्यों न जाना अन्य मार्ग से कर लिया जाये। वापस हरिद्वार से आ जायेंगे। इसलिये कुमाऊं वाला रास्ता पकडा- रामनगर वाला।
   जब मैं और निशा गूगल मैप पर रास्ते की दूरियां देख रहे थे तो उसे काशीपुर के पास जसपुर दिखाई दिया। उसने तुरन्त कहा कि एक रात जसपुर रुकेंगे, वहां उसकी एक मित्र रहती है। मैंने तुरन्त सहमति दे दी क्योंकि दोपहर दिल्ली से चलकर रात होने तक रामनगर पहुंचते और रात रामनगर में रुकते। जसपुर ज्यादा दूर तो नहीं है, इसलिये रामनगर की बजाय जसपुर में ही रुक लेंगे। निशा ने अपनी मित्र को सूचित कर दिया। उन्होंने सलाह दी कि मुरादाबाद के रास्ते मत आना, लम्बा पडेगा बल्कि अमरोहा, कांठ, स्योहारा होते हुए आना। बताया कि सडक भी अच्छी है।
   तो जी, डेढ बजे दिल्ली शास्त्री पार्क से चल दिये। पुस्ता रोड होते हुए अक्षरधाम से बायें गाजियाबाद की तरफ मुड गये। मोहननगर के रास्ते इसलिये नहीं गये क्योंकि सीलमपुर-वेलकम के पास और दिलशाद गार्डन से गाजियाबाद तक मेट्रो का काम चल रहा है। सडक छोटी हो गई है और ट्रैफिक उतना ही है; लिहाजा जाम लग जाता है। अक्षरधाम के रास्ते गये, यहां ट्रैफिक तो मिला लेकिन सब चलता रहता है, जाम नहीं लगता। लालबत्ती भी कम ही हैं। एक घण्टे में लालकुआ पहुंच गये।
   सडक चार लेन की है। अच्छा ट्रैफिक है। हालांकि जितना हम आगे बढते गये, ट्रैफिक उतना ही कम होता गया। हापुड के बाद तो काफी कम हो गया। दिल्ली से हापुड तक सडक को छह लेन का कर देना चाहिये। बल्कि दिल्ली के चारों तरफ कम से कम सौ-सौ किलोमीटर तक छह लेन की सडकें तो होनी ही चाहिये। मेरठ रोड पर भी चार लेन के बावजूद भयंकर ट्रैफिक रहता है।
   गढमुक्तेश्वर में गंगा पार की और गजरौला जाकर रुके। अभी तक तीन घण्टे हो चुके थे और कुछ विश्राम करने का मन था। एक जगह लस्सी और पकौडियां ले लीं। करण अपने साथ आलू के परांठे लाया था। इन्हें निपटाकर जब चले तो पांच बज गये थे। अभी भी हमें काफी दूरी तय करनी थी और शीघ्र ही अन्धेरा हो जायेगा। अमरोहा का रास्ता वैसे तो जोया से अलग होता है लेकिन हम जोया से पहले ही अमरोहा की ओर मुड गये। निशा यहीं की रहने वाली है, इसलिये रास्तों की अच्छी परिचित है। अमरोहा में भीड ने बडा तंग किया। फिर भी निशा ने बताया कि आज तो कुछ भी भीड नहीं है, अन्यथा यहां इतनी भीड होती है कि चलना ही मुश्किल हो जाता। अमरोहा पार करते करते छह बज गये थे।
   यहां से कांठ और वहां से स्योहारा- अच्छी टू-लेन सडक है। कोई गड्ढा तक नहीं। अन्धेरा हो ही गया था। ट्रैफिक भी कम ही था, इसलिये सामने से आ रहे वाहनों से कोई दिक्कत नहीं हुई। फिर मैंने नाइट विजन चश्मा लगा रखा था। उससे भी काफी फायदा मिला। सात बजे हम स्योहारा में थे। गूगल बता रहा था कि यहां से जसपुर जाने के लिये हमें धामपुर के रास्ते जाना चाहिये जबकि जसपुर वाले बता रहे थे कि स्योहारा से सुरजन नगर के रास्ते आओ। हमने जसपुर वालों की बात मानी। बाद में अनुभव हुआ कि गूगल की बात मान लेनी चाहिये थी।
   स्योहारा से निकलकर जैसे जैसे रामगंगा के नजदीक आते गये, वैसे वैसे सडक खराब होती गई। सडक का काम चल रहा है, इसलिये करीब दस किलोमीटर तक कच्चा रास्ता और पत्थर बिखरे पडे थे। ऊपर से फिर निर्जन इलाका। यहां करण ने कहा- यूपी में दो तरह के खराब रास्ते होते हैं- एक तो ऐसे खराब और एक वैसे खराब। कोई और राज्य होता तो हमें अन्धेरे में सुनसान रास्ते पर चलने में कोई डर नहीं लगता लेकिन यहां हमें डर लगा। यूपी का होने के कारण यहां की कुछ बातों से मैं अच्छी तरह परिचित हूं।
   सुरजननगर से अच्छी सडक मिल गई जो आगे ठाकुरद्वारा जाती है। जब हमें कुछ सन्देह हुआ तो एक स्थानीय से जसपुर के रास्ते के बारे में पूछा। यहां से जसपुर 10-12 किलोमीटर ही है लेकिन यह रास्ता तो और भी ‘सदाबहार’ था। यह एक रजवाहे की पटरी पर बना था। दोनों तरफ झाड-झंगाड उगे थे और पूरा टूटा-फूटा रास्ता। फिर कुछ ही देर पहले बारिश हुई थी तो रास्ते भर कीचड में चलना पडा। पता नहीं जसपुर वालों को यह रास्ता कैसे अच्छा लगा? जब जसपुर पहुंचे और धामपुर से आने वाली साफ-सुथरी चौडी सडक मिली तो स्वयं को बहुत कोसा कि यह मक्खन जैसी सडक छोडकर कीचड में घूमते फिर रहे हैं। स्योहारा से जसपुर तक 36 किलोमीटर तय करने में बिना रुके डेढ घण्टे लग गये।
   हां, सुरजन नगर से जसपुर के बीच में कहीं हम यूपी से उत्तराखण्ड में प्रवेश कर गये। जसपुर उत्तराखण्ड में है।
   दोनों सहेलियां खूब उत्साहपूर्वक मिलीं। वहां कोई मुझे नहीं जानता था और करण के तो जानने का सवाल ही नहीं। लेकिन जाते ही दो सब्जियों के साथ मशरूम की सब्जी भी मिली तो लगा कि इससे ज्यादा खातिरदारी नहीं हो सकती।

24 सितम्बर 2015, जसपुर से गैरसैंण
   सुबह साढे आठ बजे जसपुर से निकल लिये। जसपुर से पूर्व दिशा में काशीपुर है और वहां से उत्तर में रामनगर। लेकिन यहां हमें एक ऐसा रास्ता बता दिया गया जो सीधे रामनगर ही जाता है। रास्ता बहुत अच्छा है, मुझे बडा पसन्द आया। एक घण्टे में रामनगर पहुंच गये। यहां से पहाड शुरू हो जाते हैं। रामनगर से निकलते ही जिम कार्बेट का जंगल है और खूब होटल और जंगल सफारी वाले मिले। खूब पालतू हाथी भी थे जो जंगल में पर्यटकों को घुमाते होंगे। हम यहां बिना रुके निकल गये और सीधे रुके गर्जिया देवी मन्दिर पर।
   गर्जिया देवी मन्दिर कोसी नदी के किनारे बना है। इसकी स्थिति कुछ ऐसी है कि ऐसा लगता है जैसे यह नदी के बीचोंबीच एक द्वीप की तरह है। जबकि ऐसा नहीं है। यहां कोसी में एक नदी और आकर मिलती है। गर्जिया मन्दिर दोनों के संगम पर बना है। मन्दिर के बाहर श्रद्धालुओं की बडी भीड थी, लाइन लगी थी, हम अन्दर नहीं गये। बाहर नदी किनारे बैठे, कुछ फोटो खींचे और चल दिये।
   यहां से दस किलोमीटर आगे मोहान नामक स्थान है। पहले मैं सोचता था कि मोहान कोई गांव होगा। शायद यहां गांव भी हो लेकिन मुझे जंगल में एक तिराहे के अलावा कुछ नहीं दिखाई दिया। बायें सडक गढवाल जाती है और दाहिने रानीखेत। हम रानीखेत की तरफ चल दिये। मोहान के बाद सडक पतली हो जाती है। उत्तराखण्ड के पहाडों में मुख्य हाईवे पर भी ट्रैफिक नहीं मिलता, यहां तो क्या खाक मिलेगा? फिर भी कभी-कभार कोई बस आ जाती या जीप आ जाती। हिमाचल के ड्राइवर याद आ गये जो ऐसी पतली सडकों पर भी फर्राटे से गाडियां भगाते हैं। करसोग जाते समय हम ऐसी ही एक तेज रफ्तार बस के अचानक सामने आ जाने से खाई में गिरने से बाल-बाल बचे थे। जबकि यहां सब सावधानी से चलाते हैं।
   दोपहर को नींद आने ही लगती है। टोटाम के पास कुछ देर रुके। मुंह धोया, कुछ फोटो खींचे। हिन्दी में टोटाम लिखा पहली बार देखा। अभी तक अंग्रेजी में ही देखता था और इसे तोता आम पढता था। आज पता चला कि यह तोता आम नहीं बल्कि टोटाम है।
   हमें भिकियासैंण जाना था। भतरोजखान से एक रास्ता भिकियासैंण जाता है लेकिन उससे पहले भी एक दूसरा रास्ता वहां जाता है। यह दूसरा रास्ता कुछ छोटा भी था, हमने इसी से जाने का इरादा कर रखा था। जब हमारे अन्दाजे के अनुसार वो तिराहा आया तो हमने बाइक रोक दी। यह कोई गांव नहीं था, बस तिराहा ही था। एक यात्री शेड बना था, दो-चार यात्री बैठे थे। पता चला कि यह सडक भिकियासैंण नहीं जाती बल्कि इससे अगली जाती है। हम चलने ही वाले थे कि उस सडक से एक जीप आई। वो ड्राइवर नया रहा होगा। सामने जब उसने टी-पॉइण्ट देखा तो सोच रहा होगा कि दाहिने जाना है या बायें। इसी चक्कर में वो दाहिने-बायें देख रहा था। हम बीच में खडे थे। हमारा ध्यान नहीं दिया उसने। वो तो जीप की सवारियों ने शोर मचाया, अचानक तेज ब्रेक लगाये; फिर भी जीप फिसली और हमसे एक मीटर की दूरी पर रुक गई। हमने भी राहत की सांस ली, उन्होंने भी राहत की सांस ली... और सब हंस दिये।
   भिकियासैंण मोड पर कुछ ढाबे थे। भूख भी लगी थी और नींद भी आ रही थी। रुकना अनिवार्य था। मूली के परांठे मिल गये। यह भी कोई गांव नहीं था, बस एक तिराहा और कुछ ढाबे ही थे, बस। हिमालय में ऐसी जगहों पर रुककर कुछ खाने का आनन्द निराला ही होता है। फिर जंगल अगर चीड का हो तो क्या कहने!
   यहां से हमने यह सडक छोड दी। यह सीधी रानीखेत जा रही थी। हम भिकियासैंण की तरफ मुड गये। इस बीस किलोमीटर के रास्ते में हमें बस एक ट्रक मिला, बाकी कोई नहीं मिला। हां, रामगंगा नदी भी मिल गई जो आगे 40 किलोमीटर दूर चौखुटिया तक हमारे साथ ही रहेगी।
   तीन बजे भिकियासैंण पहुंचे और बिना रुके पार हो गये। बीस किलोमीटर आगे मासी है। मासी से चौखुटिया तक 15 किलोमीटर की सडक बेहद खराब थी। इसकी मरम्मत का काम चल रहा था और पूरे रास्ते भर पत्थर पडे थे। इसे तय करने में एक घण्टा लग गया और साथ ही आज ही कर्णप्रयाग पहुंचने की योजना पर भी पानी फिर गया।
   चौखुटिया रामगंगा के किनारे बसा है। यह एक बहुत चौडी घाटी है और रामगंगा यहां बेहद शान्ति से बहती है। किसी भी दृष्टि से यह पहाडी नदी नहीं लगती। इस घाटी में धान की खेती हो रही थी।
   चौखुटिया में रामगंगा पार करके गैरसैंण की चढाई आरम्भ हो जाती है। यहीं कहीं हम कुमाऊं छोडकर गढवाल में प्रवेश कर जाते हैं। चौखुटिया कुमाऊं के अल्मोडा जिले में है और गैरसैंण गढवाल के चमोली जिले में।
   गैरसैंण का नाम अगर आपने नहीं सुना तो अब सुन लीजिये। उत्तराखण्ड राज्य बनने के बाद से ही कुछ क्षेत्रीय पार्टियां देहरादून की बजाय गैरसैंण को राजधानी बनाने के लिये प्रयासरत और आन्दोलनरत हैं। अब ये तो मुझे नहीं पता कि इसकी असली वजह क्या है। लेकिन जहां तक मेरी अकल सोचती है, उसके अनुसार यह गढवाल-कुमाऊं की सीमा पर है और पर्वतीय नगर है। इसे प्रस्तावित करने वाले लोग गढवाल के रहे होंगे, तभी तो उन्होंने चौखुटिया की इतनी चौडी घाटी की बजाय पहाड पर ऊपर बसे गैरसैंण का नाम लिया। यानी राजधानी गढवाल में भी रहेगी और कुमाऊं वाले भी खुश हो जायेंगे।
   पौने सात बजे गैरसैंण पहुंचे। अन्धेरा हो चुका था। यह बडा ही छोटा सा कस्बा है। बल्कि यह तो गांव है। अच्छे-खासे देहरादून में बसी-बसाई राजधानी को छोडकर गैरसैंण में राजधानी बनाने की बात सिर्फ राजनीति मामले के अलावा और कुछ नहीं है। हम कमरा ढूंढते-ढूंढते गैरसैंण में घुसे और पता चला कि गैरसैंण तो पीछे गया। इतना छोटा सा है यह।
   खैर, मोलभाव करके 500 रुपये का एक कमरा मिला। नीचे रेस्टोरेण्ट में खाना खाने गये तो एक मजेदार वाकया हुआ। दाल थी और भिण्डी की सब्जी थी। इनके अलावा हमने अण्डा-भुजिया भी बनवा लिये। खाने बैठे तो आनन्द आ गया। यहां हमारे अलावा और कोई ग्राहक नहीं था, तो हम रेस्टोरेण्ट वाले से भी बातचीत करते जा रहे थे। जब खाना खत्म होने को आया तो बातों-बातों में मैंने पूछ लिया कि भाईजी, आप अपने घर पर जीरा उगाते हो क्या? बोला कि नहीं भाईजी, सब नीचे से आता है। मैंने कहा- तो जीरा थोडा कम डाला करो। आपने तो अण्डा भुजिया में भी जीरा डाल रखा है। इतना सुनते ही वो तुरन्त उठा और हमारे ऊपर वाला बल्ब बन्द कर दिया और बोला- भाईजी, यह जीरा नहीं था, बल्कि रात में कीट लाइट पर आ जाते हैं। मुझे यह ऊपर वाला बल्ब बन्द करना ध्यान नहीं रहा।
   हम तीनों एक-दूसरे का मुंह देखने लगे लेकिन तब तक तो खाना समाप्त हो चुका था। खूब हंसे।

गढमुक्तेश्वर में गंगा पार करके

करण 

जसपुर से रामनगर की सड़क 


गर्जिया देवी मंदिर 












भिकियासैण 

भिकियासैण से मासी की ओर और रामगंगा नदी 

मासी-चौखुटिया रोड 


रामगंगा पार करते हुए 

चौखुटिया बड़ी चौड़ी घाटी है.


गैरसैण में डिनर 




अगले भाग में जारी...

46 comments:

  1. वाह नीरज जी । आज आपके लेख में हास-परिहास भी है । आगे और आनंद आऐगा ।

    ReplyDelete
  2. वाह! और एक सुन्दर यात्रा का आनन्द मिलने जा रहा है!

    ReplyDelete
  3. jeere wala episode achcha laga..........ANURAG SHARMA.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अनुराग जी...

      Delete
  4. bahut khub ....gairsen ko UK ki rajdhani ka plan kafi time se chal raha hai ....Gairsen Garhwal or kumaoun ka center hai

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ जी, केंद्र तो है लेकिन यह सांस्कृतिक से ज्यादा राजनीतिक मुद्दा है. अगर पहले ही गैरसैण राजधानी बन जाती तो विरोधी लोग किसी और शहर का नाम लेते...

      Delete
    2. Dehradun jesa banane mein 20 sal lagenge or approachable bhi nahi hai dehradun ki tarah

      Delete
  5. कीटभक्षी मनुष्य

    ReplyDelete
  6. अब जब भी आप लोग अंडे का भुजिया देखोगे या खाओगे तो जीरे का तड़का वाले बात याद आएगी और हंसी में ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ जी, बिलकुल...

      Delete
    2. हहहहह इस बात पर बहुत हंसी आ रही है ! अंडा मे जीरा का तडका !

      Delete
  7. कोई कुछ भी कहे यात्रा नीरज भाई और भाभी जी के साथ हो( भले ही ब्लाग पर हो) तो मज़ा तो आ ही जाता है । जीरा जरा कम खाया करो........हा हा हा

    ReplyDelete
  8. अंडे के साथ किट का भि सेवन अब तो आप प्का
    मसाहरी हो गये

    ReplyDelete
    Replies
    1. जीरे में... मतलब कीट में कौन सा मांस होता है????

      Delete
    2. Neeraj maza aa Gaya.....TOTAAM.....Tota-Aam.....jeera kam khya karo.....ha ha muze to blog pad kar he gumne ka Anand as gya. ....very good....

      Delete
  9. गैरसैण राजधानी के प्रस्ताव का मुख्य कारण ये है कि यहाँ पर उत्तराखंड सरकार के कई नेताओं ने मिटटी के भाव पर सेकड़ों नाली जमीन ले रखी है।तो जमीन का भाव बढाने के चक्कर से वहां राजधानी बनाना चाहते हैं और ये जगह आजकल वहां के मुख्यमंत्री के इलाके से भी बहुत नजदीक है

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ जी, एकदम ठीक कहा आपने... यह राजनीतिक मुद्दा है, सांस्कृतिक नहीं...धन्यवाद आपका....

      Delete
    2. rajdhani ka main mudha hai Garhwali vs Kumauani jese neta log hi tul dethe hai janta kush hai dehradun se

      Delete
  10. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (21-11-2015) को "हर शख़्स उमीदों का धुवां देख रहा है" (चर्चा-अंक 2167) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  11. नीरज भाई ,आपने मेरी समस्या का हल दे दिया |मैं भी गर्मियों की छुट्टीयों में परिवार के साथ पाताल भुवनेश्वेर जाने का प्लान बना रहा हूँ |मेरा गाँव गढ़ बुलंदशहर रोड पर है बरौली वासदेवपुर |मेरा रूट गाँव से गढ़मुक्तेश्वेर होते हुए राम नगर जाने का था ,पर दुविधा ये थी कि मुरादाबाद से रामनगर सड़क बहुत ख़राब है कोई दूसरा विकल्प समझ नहीं आ रहा था आपने मेरी दुविधा खत्म कर दी |मार्गदर्शन के लिए बहुत बहुत धन्यवाद् |मैं गर्जिया देवी होते हुए ,सोनी बिनसर महादेव ,रानीखेत ,अल्मोड़ा,जगेश्वेर धाम ,पाताल भुवनेश्वेर|वापसी कैंची धाम, नैनीताल,कार्बेट फाल ,होते हुए आने की है क्या ये सही रहेगा |कृपया मार्ग दर्शन करें साभार |बाकी आपकी यात्रा में हम खुद को आपके साथ महसूस करते हैं |

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ जी, यह रुट बिल्कुल ठीक रहेगा। लेकिन मैंने सुना है कि मुरादाबाद-ठाकुरद्वारा रोड अच्छी बनी है।

      Delete
  12. नीरज जी राम राम, जीरे के बारे में पढ़ कर मज़ा आगया. जसपुर के लिए आप लोग वाया बिजनोर, नगीना, धामपुर होकर निकल सकते थे. हाइवे हैं, बढ़िया सड़क हैं..रही बात गैर सैन की सब राजनीति हैं, राजधानी बनेगी, ठेके छूटेंगे, पैसा बनेगा.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद गुप्ता जी, आपने ठीक कहा।

      Delete
  13. नीरज जी हमे तो समय मिल नहीं पता लेकिन आपकी यात्राओं को पढ़ के ऐसा लगता है की हम भी आपके साथ घूम लिए है, बहुत ही रोचक और आनद्दयक है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद मिश्रा जी।

      Delete
  14. Jaldi Badrinath pahunche , wahan ke raste ki khoobsoorat tasveerien dekhne ko milegi.

    ReplyDelete
    Replies
    1. पहुंचेंगे जल्दी ही।

      Delete
  15. जीरे वाली अंडे की भुजी... ओहोहो लाजवाब

    ReplyDelete
  16. Neeraj bhai 100 cc splendor kis unchai tak ja sakti hai?

    ReplyDelete
    Replies
    1. 100 सीसी को कम मत समझिये। यह खारदुंगला तक भी जा सकती है।

      Delete
    2. 100 सीसी को कम मत समझिये। यह खारदुंगला तक भी जा सकती है।

      Delete
  17. Neeraj ji aapke blog main agle bhag main jari ka link kam nahin kar raha hai pls use thik karen blog padhne main dikkat ho rahi hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. अभी मैं बाहर हूँ। मोबाइल से यह काम नहीं हो पाता। दिल्ली पहुंचकर करूँगा। धन्यवाद आपका।

      Delete
  18. Neeraj Ji is bar google maps nahi dale. photo ke akhir mein map diya kijiye acha lagta hai

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ जी। किसी कारण से गूगल मैप नहीं लगा सका। जल्दी ही आपको मैप भी मिलेंगे।

      Delete
  19. नीरज जी एक बात पूछना थी. ये जो आपके जंगल में हेल्मेट पहन के सोते हुए फोटो होते है तो क्या आप सचमुच नींद में सोए हुए होते हो ? मेरा मतलब है क्या इतने कम समय के लए ऐसी जगहों पर आपको नींद आ जाती है ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. सर जी, असल में हेलमेट पहन नहीं रखा बल्कि तकिया बना रखा है। अक्सर दोपहर को बाइक चलाते चलाते नींद आने लगती है तो इस तरह 5 मिनट सो लेना बड़ा काम का होता है। तो कई बार मैं सो जाता हूँ और कई बार केवल फ़ोटो के लिए ऐसा करता हूँ।

      Delete
  20. Neeraj bhai ..
    aap to bear gyrlls (Man vs wild) ban gaye...कीटभक्षी...

    ReplyDelete
  21. Jeera Khane se pahle chk kar lena ji

    ReplyDelete
  22. हा हा हा हा आमलेट तो नॉनवेज हो गया

    ReplyDelete
  23. हहहहहहाहा मजा आ गया नीरज जी!

    ReplyDelete