Skip to main content

लोहारू-सीकर मीटर गेज रेल यात्रा

रेल यात्राओं के क्रम में एक दिन कार्यक्रम बना लोहारू-सीकर मीटर गेज लाइन का। वैसे तो जयपुर से सीकर जंक्शन तक मीटर गेज जाती है। सीकर से आगे दो दिशाओं में विभक्त हो जाती हैं- एक चली जाती है चुरू और दूसरी जाती है लोहारू। चुरू और लोहारू दोनों अब बडी लाइन से सीधे दिल्ली से जुड गये हैं। रेवाडी-सादुलपुर लाइन पर लोहारू है और सादुलपुर-रतनगढ लाइन पर चुरू।
उस दिन मैं नाइट ड्यूटी करके सुबह सराय रोहिल्ला स्टेशन पर जा पहुंचा। यहां से दिल्ली सराय-सादुलपुर एक्सप्रेस (14705) चलती है जो बारह बजे लोहारू पहुंचा देती है। इस रूट पर चलने वाली सभी गाडियां अभी लगभग खाली ही दौडती हैं। इसलिये जनरल डिब्बे में आराम से लेटने वाली बर्थ मिल गई। बारह बजे का अलार्म लगाया और टाइम पर लोहारू पहुंच गया।
यहां से मीटर गेज की गाडी जयपुर स्पेशल पैसेंजर (02094) बारह चालीस पर चलती है। इस इलाके में तीन-चार साल पहले मीटर गेज लाइनों का जाल बिछा था- दिल्ली-रेवाडी-सादुलपुर-रतनगढ-बीकानेर, रेवाडी-रींगस-फुलेरा, लोहारू-सीकर-जयपुर, सादुलपुर-हिसार, सादुलपुर-हनुमानगढ-श्रीगंगानगर-सूरतगढ, चुरू-सीकर, रतनगढ-सरदारशहर, रतनगढ-डेगाना; ये सभी लाइनें मीटर गेज ही थीं। आज के टाइम में बस लोहारू-सीकर-जयपुर, चुरू-सीकर, रतनगढ-सरदारशहर और सादुलपुर-हनुमानगढ-श्रीगंगानगर लाइनें ही मीटर गेज हैं। बीकानेर बडी लाइन से दिल्ली से जुड गया है। बाकी लाइनों से जो गाडियां हटीं, उन्हें स्पेशल के तौर पर इन बची-खुची लाइनों पर डाल दिया गया है। इसलिये लोहारू-सीकर-जयपुर लाइन पर पैसेंजर गाडियों की भरमार है।

लोहारू जंक्शन हरियाणा में पडता है और इससे अगला स्टेशन भावधडी राजस्थान में। इसलिये आगे का पूरा रूट राजस्थान में ही गुजरता है- शेखावाटी इलाके में। शेखावाटी की हवेलियां बडी प्रसिद्ध हैं और अपनी कलात्मकता के लिये जानी जाती हैं। हालांकि मुझे इस गाडी को छोडकर कहीं हवेली आदि देखने तो जाना नहीं था। एक लिस्ट दे रहा हूं लोहारू से सीकर तक के सभी स्टेशनों की और उनकी समुद्र तल से ऊंचाई भी:
1. लोहारू जंक्शन (268.64 मीटर)
2. भावधडी
3. सूरजगढ (295 मीटर)
4. चिडावा (317 मीटर)
5. नारी खेतडी
6. रतन शहर (331 मीटर)
7. झुंझुनूं (338 मीटर)
8. नूआ (342 मीटर)
9. डूंडलोद मुकुन्दगढ (363 मीटर)
10. बलवन्तपुरा चेलासी
11. नवलगढ (422 मीटर)
12. जेरठी दादिया
13. सीकर जंक्शन (431 मीटर)
सीकर पहुंचते ही मैंने फिर से अपने सोने का इंतजाम कर लिया। गाडी जैसे ही रींगस पहुंची, अपन उतर गये। रींगस से शाम छह बजे के करीब रेवाडी पैसेंजर आती है। दस बजे तक रेवाडी और आधी रात तक वापस दिल्ली।
तो यह थी शेखावाटी में हमारी एक छोटी सी यात्रा। अभी जयपुर-चुरू मीटर गेज लाइन और रह गई है, इसे भी जल्दी ही पूरा करना है।


यह स्टेशन हरियाणा के भिवानी जिले में है।


लोहारू से अगला स्टेशन है- भावधडी जो राजस्थान के झुंझनू जिले में है।






यह है शेखावाटी इलाके का एक प्रमुख शहर झुंझनू।







मीटर गेज ट्रेन


सीकर पहुंचकर अपना काम खत्म हो जाता है।


Comments

  1. इस तरह की यात्रा कभी कभी हम भी किया करते थे पर दिल्ली में .... जब जेब में आल-रूट पास होता था :)

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर जानकारी के लिए धन्यवाद|

    ReplyDelete
  3. रेलवे से आपके लगाव के क्या कहने. हमतो मीटर गेज में एक ही बार गए थे. मिरज से वास्को. अब वहां भी बड़ी लायीं आ गयी है. पहले लगता था की डब्बे एक दम छोटे होंगे. बर्थ में पैर फ़ैलाने की जगह नहीं होगी आदि. परन्तु कोई परेशानी नहीं हुई थी. नेरो गेज में तो गए हैं. बैठ कर.

    ReplyDelete
  4. अपनी रेलवे की खबर आपसे मिलती रहती है।

    ReplyDelete
  5. रेल चली, रेल चली...

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. इस रेलयात्रा मे आपका फोटो क्यो नहि लगाया ।

    ReplyDelete
  8. अपने निश्चय को पूरा करने का भरपूर जूनून है आपमें.

    ReplyDelete

  9. चलो हम भी चलते हैं ...
    यात्रा में साथ देने के लिए धन्यवाद चौधरी , समय कब कट गया पता ही नहीं चला !
    शुभकामनायें अगले सफ़र के लिए !

    ReplyDelete
  10. जब से शेखावाटी एक्सप्रेस दिल्ली आना बंद हुई है उसके बाद से अपने शहर सीकर का रेल्वे स्टेशन आज आपके ब्लॉग पर ही देखा है स्टेशन गए कई वर्ष गुजर गए|
    और हाँ सीकर रेल्वे स्टेशन भवन को हेरिटेज का दर्जा मिल गया|

    ReplyDelete
  11. Ab broad gauge ki baari Jaipur-Ringas-Sikar ki hai. Than only Mavli remain left for metet gauge service. Phuleta shed almost closed for meter gauge locomotives.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

पुस्तक-चर्चा: पिघलेगी बर्फ

पुस्तक मेले में घूम रहे थे तो भारतीय ज्ञानपीठ के यहाँ एक कोने में पचास परसेंट वाली किताबों का ढेर लगा था। उनमें ‘पिघलेगी बर्फ’ को इसलिये उठा लिया क्योंकि एक तो यह 75 रुपये की मिल गयी और दूसरे इसका नाम कश्मीर से संबंधित लग रहा था। लेकिन चूँकि यह उपन्यास था, इसलिये सबसे पहले इसे नहीं पढ़ा। पहले यात्रा-वृत्तांत पढ़ता, फिर कभी इसे देखता - ऐसी योजना थी। उन्हीं दिनों दीप्ति ने इसे पढ़ लिया - “नीरज, तुझे भी यह किताब सबसे पहले पढ़नी चाहिये, क्योंकि यह दिखावे का ही उपन्यास है। यात्रा-वृत्तांत ही अधिक है।”  तो जब इसे पढ़ा तो बड़ी देर तक जड़वत हो गया। ये क्या पढ़ लिया मैंने! कबाड़ में हीरा मिल गया! बिना किसी भूमिका और बिना किसी चैप्टर के ही किताब आरंभ हो जाती है। या तो पहला पेज और पहला ही पैराग्राफ - या फिर आख़िरी पेज और आख़िरी पैराग्राफ।

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।