Skip to main content

देवदार के खूबसूरत जंगल में स्थित है बाहू और बालो नाग मंदिर


एक दिन की बात है मैं मोटरसाइकिल लेकर घियागी से बाहू की तरफ चला। इरादा था गाड़ागुशैनी और छाछगलू पास तक जाना। छाछगलू पास का नाम मैंने पहली बार तरुण गोयल से सुना था और इस नाम को मैं हमेशा भूल जाता हूँ। तब हमेशा गोयल साहब से पूछता हूँ और आज भी गोयल साहब से पूछने के बाद ही लिख रहा हूँ। उनसे पूछने का एक कारण और भी है कि वे इसे “छाछगळू” बोलते हैं। और इस तरह बोलते हैं जैसे मुँह में छाछ और गुड़ भरकर बोल रहे हों। तो मुझे यह उच्चारण सुनना बड़ा मजेदार लगता है और मैं बार-बार उनसे इसका नाम पूछता रहता हूँ।

तो उस दिन मैं बाहू तक गया और सामने दिखतीं महा-हिमालय की चोटियों को देखकर मंत्रमुग्ध हो गया। यह समुद्र तल से 2300 मीटर ऊपर है और एकदम सामने ये चोटियाँ दिखती हैं। जीभी और घियागी तो नीचे घाटी में स्थित हैं और वहाँ से कोई बर्फीली चोटी नहीं दिखती। तो यहाँ आकर ऐसा लगा जैसे रोज आलू खाते-खाते आज शाही पनीर मिल गया हो।
जीभी से इसकी दूरी 10 किलोमीटर है और शुरू में बहुत अच्छी सड़क है, फिर थोड़ी खराब है, फिर और खराब है और आखिर में जब आप बाहू में खड़े होते हैं और कोई बस गुजर जाए, तो आप धूल से सराबोर हो जाएँगे, बशर्ते कि उस दिन धूप निकली हो। उस दिन भी तेज धूप निकली थी और जैसे ही बंजार-छतरी बस आई, मुझे गर्मागरम चाय का कप हथेली से ढकना पड़ा था।
फिर हुआ ये कि तेज धूप के कारण मेरी आँखों में जलन होने लगी और मैं वापस घियागी लौट आया - गाड़ागुशैनी और छाछगलू फिर कभी जाने का वादा करके।


अभी हाल ही में जब दीप्ति भी आई हुई थी और दिल्ली से सुनेजा साहब भी आए हुए थे और भरत नागर भी आया हुआ था, तो पूरे सप्ताह ‘धूप कम हो’, ‘धूप कम हो’ का जाप करते-करते भी जब धूप कम नहीं हुई, तो हम निकल पड़े। आज भी इरादा छाछगलू तक जाने का था और पक्का इरादा कर रखा था। सुनेजा साहब को जीभी से शाम तीन बजे की बस पकड़नी थी और उन्होंने कह भी दिया था कि बस जरूर पकड़वा देना।

“नहीं, बस को भूल जाओ। बस पकड़वाने की गारंटी नहीं है। बस पकड़नी है, तो मत चलो। और अगर चलना है, तो बस का नाम भी मत लेना।”
न उन्हें कोई जल्दी थी और न हमें। उन्होंने बस का नाम भी न लेने की प्रतिज्ञा करी और भरत की कार में बैठ गए। पीछे-पीछे मैं और दीप्ति मोटरसाइकिल पर।

धूप भले ही तेज हो, लेकिन तापमान 25 डिग्री से ऊपर नहीं था। आज मैंने धूप का चश्मा लगा लिया था और पूरी बाजू की शर्ट पहन रखी थी। बाहू तालाब के पास बनी पार्किंग में अपनी-अपनी गाड़ियाँ खड़ी कीं और महा-हिमालय को निहारने लगे। देवदार के पेड़, पुरानी शैली के बने हुए बाहू गाँव के घर और महा-हिमालय की बर्फीली चोटियाँ। इच्छा हुई कि काश इस गाँव का कोई व्यक्ति फेसबुक पर मित्र बन जाए और अपने घर बुलाए, तो दो-चार दिन जन्नत में कटेंगे। वैसे यहाँ जिओ और एयरटेल के नेटवर्क बहुत अच्छे हैं, इसलिए माना जा सकता है कि यहाँ के व्यक्ति फेसबुक तो खूब चलाते होंगे।

यहाँ से आगे बालो नाग मंदिर के लिए एक मोटर मार्ग जाता है। यह कच्चा होने के साथ-साथ पथरीला भी है। स्थानीयों ने सुझाव दिया कि दूरी दो किलोमीटर है, लेकिन कार के लायक रास्ता नहीं है।
“कारें जाती तो होंगी।” हमने पूछा।
“हाँ जी, जाती हैं।”
“तो हम ले जाएँ?”
“मत ले जाओ।”
और सबने एक सुर में तय कर लिया कि न कार जाएगी और न ही मोटरसाइकिल। इस वजह से मोटरसाइकिल ने हमेशा की तरह कार को गालियाँ दी होंगी।

यह दो किलोमीटर का पूरा रास्ता देवदार के जंगल से होकर जाता है। मजा आ जाता है। थोड़े उतार-चढ़ाव तो होते हैं, लेकिन थकान नहीं हुई।

और आखिर में जब बालो नाग मंदिर पहुँचे, तो यही महसूस हुआ कि इतने दिन यहाँ रहते हो गए, अब तक क्यों नहीं आए हम?? समुद्र तल से 2340 मीटर ऊपर देवदार के जंगल के बीच में घास का खुला मैदान। और इस मैदान में लकड़ी का बना हुआ मंदिर। अगल-बगल में दो सराय जिनका प्रयोग मेलों के समय होता है। और देवदार के ऊँचे-ऊँचे पेड़ों के बीच से झाँकती महा-हिमालय की चोटियाँ। साफ मौसम में शायद यहाँ से कुल्लू की तरफ धौलाधार और पीर पंजाल भी दिखते होंगे। उधर बायीं तरफ एक नदी, जो कुल्लू और मंडी जिलों की सीमा बनाती है। नदी के इस तरफ कुल्लू जिला और उस तरफ मंडी जिला। नदी के उस तरफ यानी मंडी जिले में शैटी धार की 3100 मीटर ऊँची चोटी और चोटी के बगल से निकलती हुई नई बनी सड़क, जो गाड़ागुशैनी को जंजैहली से सीधा जोड़ती है। यह सड़क अभी गूगल मैप पर नहीं है, लेकिन बताते हैं कि उस पर गाड़ी जा सकती है। तीर्थन वैली से जंजैहली जाने का चौथा रास्ता पता चल गया और सबसे छोटा भी।

यहाँ किसी ने फेसबुक चलाया, तो किसी ने नींद ली। दो घंटे तक तो किसी ने भी यहाँ से चलने का नाम नहीं लिया। और जब दो घंटे बाद यहाँ से चले, तो सबको इतनी भूख लग रही थी कि गाड़ागुशैनी और छाछगलू फिर से भविष्य के गर्त में समा गए।


भरत नागर विद फैमिली...

बाहू गाँव और महा-हिमालय की चोटियाँ... दोनों के बीच में परली पहाड़ी पर चैहणी गाँव भी दिख रहा है और गौर करने पर चैहणी कोठी भी...

बाहू से बालो नाग मंदिर जाने का रास्ता

यह गाँव कुल्लू में है और दूर वाला पहाड़ मंडी में



बालो नाग मंदिर



बालो नाग मंदिर चारों ओर से देवदार के घने जंगल से घिरा है...



मंदिर के पास लिखी शानदार चेतावनी...








जून 2019 के लिए तीर्थन वैली के यात्रा पैकेज



Comments

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

जाटराम की पहली पुस्तक: लद्दाख में पैदल यात्राएं

पुस्तक प्रकाशन की योजना तो काफी पहले से बनती आ रही थी लेकिन कुछ न कुछ समस्या आ ही जाती थी। सबसे बडी समस्या आती थी पैसों की। मैंने कई लेखकों से सुना था कि पुस्तक प्रकाशन में लगभग 25000 रुपये तक खर्च हो जाते हैं और अगर कोई नया-नवेला है यानी पहली पुस्तक प्रकाशित करा रहा है तो प्रकाशक उसे कुछ भी रॉयल्टी नहीं देते। मैंने कईयों से पूछा कि अगर ऐसा है तो आपने क्यों छपवाई? तो उत्तर मिलता कि केवल इस तसल्ली के लिये कि हमारी भी एक पुस्तक है। फिर दिसम्बर 2015 में इस बारे में नई चीज पता चली- सेल्फ पब्लिकेशन। इसके बारे में और खोजबीन की तो पता चला कि यहां पुस्तक प्रकाशित हो सकती है। इसमें पुस्तक प्रकाशन का सारा नियन्त्रण लेखक का होता है। कई कम्पनियों के बारे में पता चला। सभी के अलग-अलग रेट थे। सबसे सस्ते रेट थे एजूक्रियेशन के- 10000 रुपये। दो चैप्टर सैम्पल भेज दिये और अगले ही दिन उन्होंने एप्रूव कर दिया कि आप अच्छा लिखते हो, अब पूरी पुस्तक भेजो। मैंने इनका सबसे सस्ता प्लान लिया था। इसमें एडिटिंग शामिल नहीं थी।