Skip to main content

महाकाल की नगरी है उज्जैन

13 अगस्त 2009, अगले दिन जन्माष्टमी थी। मैं उस दिन भोपाल के पास भीमबैठका में था। ताऊ का फोन आया। बोले कि भाई, हम नासिक जा रहे हैं, कल शाम को यहाँ से निकलेंगे। तू दोपहर तक इंदौर आ जा, मिल लेंगे। जब मैंने उन्हें बताया कि मैं भोपाल में हूँ, बोले तो एक काम कर, आज रात को उज्जैन पहुँच जा। सुबह चार बजे महाकाल मंदिर में भस्म आरती होती है। उसे जरुर देखना। इसके अलावा वहां तेरे लायक कुछ भी नहीं है। फिर सीधे इंदौर आ जाना।
...
ताऊ की बात हमने तुरन्त मानी। रात ग्यारह वाली पैसेंजर पकड़ी, टीटी की 'कृपा' से सोते हुए गए। ढाई बजे ही उज्जैन पहुँच गए। साढे तीन बजे तक नहा-धोकर चार बजे महाकाल मंदिर पहुँच गए। पहुँचते ही प्रसाद वालों ने पचास रूपये का प्रसाद जबरदस्ती 'गले' में बाँध दिया। जन्माष्टमी होने की वजह से काफी लम्बी लाइन लगी थी। अन्दर गर्भगृह में भस्म आरती की तैयारी चल रही थी। बाहर जगह-जगह टीवी स्क्रीन पर आरती का लाइव प्रसारण चल रहा था।

...
इसे वैसे तो महाकालेश्वर मंदिर कहते हैं। यह शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। शिप्रा नदी पास से ही बहती है। सुबह चार बजे यहाँ भस्म आरती होती है। इसमें प्रयुक्त होने वाली भस्म कोई साधारण चीज नहीं होती, बल्कि ताज़ी चिता की राख होती है। महाकाल की कृपा से नगरी में रोजाना कोई ना कोई मर ही जाता है। ताऊ बताते हैं कि अगर कई चिता हों, तो केवल उसी चिता की राख ली जायेगी, जिस पर शंकर जी रात को तांडव करते हैं। राख पर उनके पैरों के निशान होते हैं।
...
मैं पौराणिक कथा नहीं सुनाऊंगा। लेकिन इतना तय है कि यह मंदिर हजारों साल पुराना है। जैन व बौद्ध ग्रंथों में भी इसका उल्लेख है। उज्जयिनी के महान राजाओं में विक्रमादित्य व राजा भोज का नाम आता है। विक्रमादित्य ने तो विक्रम संवत का आरम्भ कराया था जो कि आज तक चल रहा है। उन्ही के नाम पर ही सिंहासन बत्तीसी व बेताल पच्चीसी की कथाएं प्रसिद्द हैं। बेताल पच्चीसी पढने के लिए नरेश जी के ब्लॉग यह भी खूब रही की इस पोस्ट से शुरू करें। विक्रम व भोज इस मंदिर में पूजा करते थे।
...
बाद में मुसलमान शासन काल में इस मंदिर को तबाह कर दिया गया। बिलकुल खण्डहर बना दिया गया। वाकई उन धर्मान्ध शासकों ने कभी संस्कृति व धरोहर के लिए कुछ नहीं किया। उनका जोर केवल मकबरें व मस्जिदों तक ही रहा। चलो खैर, समय बदला, उनका राज भी ख़त्म हो गया। फिर पूरे मालवा पर मराठों का शासन हो गया। मराठों ने इस मंदिर का दोबारा उद्धार कराया। आज यह काफी बड़े भाग में फैला है।
...
ये तो हुई महाकाल मंदिर की जानकारी, जो मैंने जुटाई। अब मैं बताता हूँ, मैंने किस तरह आरती में भाग लिया। चार बजे जब मैं पहुंचा तो जन्माष्टमी की वजह से कम से कम सौ-डेढ़ सौ मीटर लम्बी लाइन लगी थी। साफ़ सुथरे फर्श पर सभी पालथी मारे बैठे थे। मैं भी बैठ गया और टीवी स्क्रीन पर देखने लगा। रात को साढे ग्यारह बजे सोया था और ढाई बजे ही उठ गया था। इसलिए नींद आ रही थी। बैठते ही तुंरत टुल्ल। मेरे जैसे लगभग सभी थे। करीब साढे पांच बजे सभी उठे और जयकारा बोलने लगे। मतलब कि आरती ख़त्म। वो तो भला हो ताऊ का, उन्होंने बाद में मुझे लाइव कमेंट्री सुना दी थी तो थोडी बहुत जानकारी भी हो गयी। फिर भी इस बात का संतोष है कि मैं भस्म आरती में शामिल तो हुआ।
...
यहाँ से निकलकर ध्यान आया कि अरे हाँ, यह तो कुम्भ नगरी है। चलो, शिप्रा नदी को भी देखकर आते हैं। राम घाट की तरफ चला गया। यहीं से एक किताब ली- "उज्जयिनी तीर्थ महात्म्य"। इसमें पेज- 19 पर लिखा है- 'शिप्रा नदी गंगा से भी बढ़कर है।' शिप्रा को गंगा से बढ़कर बताना अपने मुहं मियां मिट्ठू बनना ही है। बस, यहीं पर मूड खराब हो गया। फिर उज्जैन में कुछ नहीं देखा। तुंरत स्टेशन पहुंचा। अवंतिका एक्सप्रेस से ग्यारह बजे तक इंदौर पहुँच गया।

(शिप्रा नदी, राम घाट)

(महाकाल मंदिर समूह)

(महाकाल मंदिर समूह)

(सुबह-सुबह मन्दिर में लगी लाइन)

(राम घाट)

(राम घाट)

अगला भाग: इंदौर में ब्लॉगर ताऊ से मुलाकात

मध्य प्रदेश मालवा यात्रा श्रंखला
1. भीमबैठका- मानव का आरम्भिक विकास स्थल
2. महाकाल की नगरी है उज्जैन
3. इन्दौर में ब्लॉगर ताऊ से मुलाकात
4. ओमकारेश्वर ज्योतिर्लिंग
5. सिद्धनाथ बारहद्वारी
6. कालाकुण्ड - पातालपानी

Comments

  1. चलो, ताऊ की मेहमानदारी का किस्सा सुनाने वाला कोई तो मिला. :)

    ReplyDelete
  2. आपकी यात्रा से हम भी दर्शन करके धन्य हो गये।
    आभार!

    ReplyDelete
  3. महाकालेश्वर मंदिर में भस्म की आरती रोमांच पैदा करने वाली है. चिता पर शंकरजी के पैरों के निशान.... जय भोले शंकर!!! बहुत ही बढिया जगह घूम आये नीरज जी इस बार. आगे का वृतांत भी जल्दी सुनाईयेगा.

    ReplyDelete
  4. हमेशा की तरह दिलचस्प और रोचक यात्रा व्रूतांत पर
    भाई ये ताऊ कौन है? लगता है आप किसी गलत ताऊ के चाल्हे चढ गये? ताऊ तो खुद ताऊ से नही मिलता.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. अच्छा हुआ रात में आपको गायें, सूअर और कुत्ते नहीं दिखाई दिये, वरना हमारे उज्जैन की इज्जत उतर जाती… :) :)

    ReplyDelete
  6. सुंदर चित्र सहित सुंदर विवरण पढने को मिला .. बहुत अच्‍छी पोस्‍ट !!

    ReplyDelete
  7. आपके साथ घूमने का जो आनंद है वो और किसी के साथ कहाँ...??? बहुत नयनाभिराम चित्र और रोचक वर्णन....
    नीरज

    ReplyDelete
  8. अमा यार ये मूड भी ना अजीब है जब देखो खराब हो जाता है। कमाल तो देखिए मूड खराब में भी इतनी चीजें याद रख ली :) खैर अच्छी पोस्ट पर हमने आज चोरी नही की।

    ReplyDelete
  9. ताऊ जी, ऐसा है कि वो गलत हो या सही हो, इसे तो वो ही जाने. मेरे साथ तो कुछ भी गलत नहीं हुआ, अब मैं कैसे कह दूं कि वो गलत ताऊ था. क्या आपको उस ताऊ से जलन हो रही है?

    सुरेश जी,
    ये जानवर तो हर शहर में दिख जाते हैं, इसलिए इनको देखना अपना टाइम ही खराब करना है. मैं किसी शहर की बुराई देखने नहीं जाता. मेरी इस पोस्ट में इसी की कमी थी जो आपने पूरी कर दी है, धन्यवाद.

    ReplyDelete
  10. वाह आपका गंगा प्रेम देख आनंद आ गया! सोते हुए ही सही 'भस्म आरती' में शामिल तो हो गए.

    ReplyDelete
  11. महाकाल की भस्मारती में शामिल होने का आनंद ही कुछ और है, ताजे फ़ोटो देखकर अच्छा लगा, "जय महाकाल"।

    ReplyDelete
  12. "जय महाकाल"। This is the culmination of ur Kaanvad yatra !

    ReplyDelete
  13. देखो भाई तुमने कांवड़ यात्रा की और हम जैसे पापियों को शिव शम्भू का नाम लेने को ब्लॉग के माध्यम से प्रेरित किया ,सो अपनी इस यात्रा को इस का प्रसाद मानो , मानो न मानो किन्तु सच !

    ReplyDelete
  14. उज्जैन मे पोस्ट ग्रेजुएशन के दौरान दो साल बिताये है 25 साल पहले तब की याद करा दी आपने । वो गोपाल मन्दिर की जन्माष्टमी और सवारी महकाल की फ्रीगंज की शामे और न जाने क्या क्या । लग रहा है उज्जैन पर कुछ लिख ही दूँ ।

    ReplyDelete
  15. nice description aisa laga mano hum khud apke sath ghum rahe hain... thanks again

    for reader if want to read more religious travel article u can visit www.aachman.com

    ReplyDelete
  16. jo photo aap nee daala hai bhasm aarti ke liye line kaa uss ko dekh kar vishwas nahi hota ki aap nee bhasm aarti dekhi hai, kyun ki bhasm aarti ke liye to sirf dhoti mai jaaya jaata hai, aur entry ke liye ek din pahle pass banwana padta hai...

    ReplyDelete
  17. श्रीराम.............
    नीरज भाई श्री महाकाल नागरी उजॆन में काल्वैराव मंदिर ,जंतर मंतर ,घड-कालिका मंदिर ये भी देखणे लायक हैं.
    शुभ -यात्रा ............मुकुंद -धुळे-MH -18

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

जिम कार्बेट की हिंदी किताबें

इन पुस्तकों का परिचय यह है कि इन्हें जिम कार्बेट ने लिखा है। और जिम कार्बेट का परिचय देने की अक्ल मुझमें नहीं। उनकी तारीफ करने में मैं असमर्थ हूँ क्योंकि मुझे लगता है कि उनकी तारीफ करने में कहीं कोई भूल-चूक न हो जाए। जो भी शब्द उनके लिये प्रयुक्त करूंगा, वे अपर्याप्त होंगे। बस, यह समझ लीजिए कि लिखते समय वे आपके सामने अपना कलेजा निकालकर रख देते हैं। आप उनका लेखन नहीं, सीधे हृदय पढ़ते हैं। लेखन में तो भूल-चूक हो जाती है, हृदय में कोई भूल-चूक नहीं हो सकती। आप उनकी किताबें पढ़िए। कोई भी किताब। वे बचपन से ही जंगलों में रहे हैं। आदमी से ज्यादा जानवरों को जानते थे। उनकी भाषा-बोली समझते थे। कोई जानवर या पक्षी बोल रहा है तो क्या कह रहा है, चल रहा है तो क्या कह रहा है; वे सब समझते थे। वे नरभक्षी तेंदुए से आतंकित जंगल में खुले में एक पेड़ के नीचे सो जाते थे, क्योंकि उन्हें पता था कि इस पेड़ पर लंगूर हैं और जब तक लंगूर चुप रहेंगे, इसका अर्थ होगा कि तेंदुआ आसपास कहीं नहीं है। कभी वे जंगल में भैंसों के एक खुले बाड़े में भैंसों के बीच में ही सो जाते, कि अगर नरभक्षी आएगा तो भैंसे अपने-आप जगा देंगी।