Skip to main content

नौकुचियाताल

पिछली बार हमने भीमताल में घुमाया था। आज नौकुचियाताल की ओर चलते हैं। यह भीमताल से चार किलोमीटर पूर्व में है। पक्की सड़क बनी हुई है। जहाँ भीमताल 1370 मीटर की ऊँचाई पर है, वहीं नौकुचियाताल अपेक्षाकृत कम ऊँचाई पर है।
...
भीमताल से नौकुचियाताल तक चार किलोमीटर का रास्ता पैदल चलने के लिए भी एकदम उपयुक्त है। चूंकि ऊँचाई में कोई ज्यादा परिवर्तन नहीं होता। तो ना तो पहाड़ पर जोरदार चढाई का झंझट है, ना ही तीव्र उतराई का। रास्ते में दो गाँव भी पड़ते हैं- पहाडी गाँव।
...
नौकुचियाताल नौ कोनों वाला ताल है। कहते हैं कि अगर कोई एक ही निगाह में सभी कोनों को देख ले, तो उसे मोक्ष प्राप्त होता है। वैसे मुझे हद से हद पांच कोने ही दिखे थे, यानी कि मोक्ष से चार कोने दूर।

यहाँ पर भी ठहरने के लिए बढ़िया इंतजाम है। भीडभाड तो बिलकुल भी नहीं है। मैं यहाँ पर दो घंटे तक बैठा रहा। दोपहर बाद तीन बजे यहाँ से चला। चार बजे तक वापिस भीमताल पहुँच गया। दिन छिपता है सात बजे तो सोचा कि तीन घंटे तक क्या किया जाये? चलो, नैनीताल चलते हैं। देखते हैं वहां पर क्या हो रहा है? भीडभाड तो जबरदस्त ही होगी। आखिर महाप्रसिद्ध जगह जो ठहरी।

अब फोटो देखिये।

ये तो थे भीमताल से नौकुचियाताल के रास्ते के फोटो
अब ताल के चित्र देखिये।

भीमताल नैनीताल यात्रा श्रंखला
2. नौकुचियाताल

Comments

  1. नौकुचियाताल घूमने में मजा आ गया..बहुत सही!!

    ReplyDelete
  2. कवित्तमय ताल का निवेदन पसंद आया.

    ReplyDelete
  3. अच्छा है मज़ा लो घूमने का और जलाओ हम जैसे चाह कर भी नही घूम पा रहे लोगो को।बढिया तक़दीर पाई है दोस्त्।

    ReplyDelete
  4. नौकुचिया ताल को
    पोस्ट और चित्रों के माध्यम से
    ब्लॉग-जगत पर लाने के लिए,
    बधाई।

    ReplyDelete
  5. भाई भीमताल हम भी गये थे पर नौकुचिया ताल इसलिये नही गये कि कहीं सारे नौ कोने एक साथ दिख गये और हम सही मे मोक्ष को प्राप्त हो गये तो फ़िर यहां ब्लागरों का माथा कौन खायेगा?

    और भाई आजकल के तेरे फ़ोन मे मिस काल मारण का भी बैलेंस नही सै के? या इब्बी तक नैनीताल म्ह ही बैठ्या सै?

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. नौकुचिया ताल की यात्रा का आनंद लिया आपके साथ. बोर्ड की तस्वीर लगा कर बढ़िया किया आपने.

    ReplyDelete
  7. फिर से याद आ गई ये जगहें। आपका शुक्रिया, आभार, धन्‍यवाद।

    ReplyDelete
  8. वाह जी वाह.. दो साल पहले नैनीताल गए थे.. वहां की यादें ताजा कराने का आभार

    ReplyDelete
  9. हम तो बिना गए घूम लेते है इस ब्लोग के जरिये। कई फोटो बेहतरीन है।

    ReplyDelete
  10. ताऊ रामराम,
    कती खरी बात कह दी है तन्ने तो. इश टैम 84 पिस्ये पड़े हैं. चल कोई नी, आज सांज कू मिस कॉल नी मिस्टर कॉल मारता हूँ.

    ReplyDelete
  11. अथातो घुमक्कड़ जिज्ञासा

    ReplyDelete
  12. वाह, वाह। यहीं कहीं एक कुटिया मिल जाये वानप्रस्थाश्रम बिताने को!

    ReplyDelete
  13. नौकुचियाताल में नीबू पानी पिया या नहीं सोडा डाल के ....बहुत मजेदार होता है ....

    ReplyDelete
  14. लगा दी ना नौराई(याद) पहाड़ की!
    35 वर्ष पहले मैं भवाली से पैदल भीमताल और नौकुचियाताल गई थी। उसके बाद कुमाऊँ जाना नहीं हुआ। यादें ताजा करवाने के लिए आभार।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  15. Kumaon Mandal Vikas Nigam must felicitate u for highlighting this taal where fewer people go these days even though KMVN refurbished an old heritage building and made it a guest house for them. Thnx for publishing only beautiful pics of taal avoiding kachra on banks.

    ReplyDelete
  16. jai ho ghumakkar mahraj ki........

    ReplyDelete
  17. sabse pyara chitra to battakhs ka laga

    ReplyDelete
  18. hey..
    nice pics..n description..
    by d way ye naukuchiyataal hai kaha???

    ReplyDelete
  19. बहुत मजा आया सुन्दर सुन्दर फ़ोटूज देखकर !

    ReplyDelete
  20. बहुत मजा आया सुन्दर सुन्दर फ़ोटूज देखकर !

    ReplyDelete
  21. Infatuation casinos? guarantee this advanced [url=http://www.realcazinoz.com]casino[/url] advisor and tergiversate online casino games like slots, blackjack, roulette, baccarat and more at www.realcazinoz.com .
    you can also read our redesigned [url=http://freecasinogames2010.webs.com]casino[/url] orientate at http://freecasinogames2010.webs.com and happy result not faked folding mutate !
    another lone [url=http://www.ttittancasino.com]casino spiele[/url] purlieus is www.ttittancasino.com , because german gamblers, submit c be communicated via unrestrained online casino bonus.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

जिम कार्बेट की हिंदी किताबें

इन पुस्तकों का परिचय यह है कि इन्हें जिम कार्बेट ने लिखा है। और जिम कार्बेट का परिचय देने की अक्ल मुझमें नहीं। उनकी तारीफ करने में मैं असमर्थ हूँ क्योंकि मुझे लगता है कि उनकी तारीफ करने में कहीं कोई भूल-चूक न हो जाए। जो भी शब्द उनके लिये प्रयुक्त करूंगा, वे अपर्याप्त होंगे। बस, यह समझ लीजिए कि लिखते समय वे आपके सामने अपना कलेजा निकालकर रख देते हैं। आप उनका लेखन नहीं, सीधे हृदय पढ़ते हैं। लेखन में तो भूल-चूक हो जाती है, हृदय में कोई भूल-चूक नहीं हो सकती। आप उनकी किताबें पढ़िए। कोई भी किताब। वे बचपन से ही जंगलों में रहे हैं। आदमी से ज्यादा जानवरों को जानते थे। उनकी भाषा-बोली समझते थे। कोई जानवर या पक्षी बोल रहा है तो क्या कह रहा है, चल रहा है तो क्या कह रहा है; वे सब समझते थे। वे नरभक्षी तेंदुए से आतंकित जंगल में खुले में एक पेड़ के नीचे सो जाते थे, क्योंकि उन्हें पता था कि इस पेड़ पर लंगूर हैं और जब तक लंगूर चुप रहेंगे, इसका अर्थ होगा कि तेंदुआ आसपास कहीं नहीं है। कभी वे जंगल में भैंसों के एक खुले बाड़े में भैंसों के बीच में ही सो जाते, कि अगर नरभक्षी आएगा तो भैंसे अपने-आप जगा देंगी।