Skip to main content

बैजनाथ यात्रा - काँगड़ा घाटी रेलवे

मुझे राम बाबू चांदनी चौक मेट्रो स्टेशन पर मिला। रात को दस बजे। उसे बुलाया तो था आठ बजे ही, लेकिन गुडगाँव से आते समय धौला कुआँ के पास जाम में फंस गया। खैर, चलो दस बजे ही सही, आ तो गया। एक भारी भरकम बैग भी ले रहा था। पहाड़ की सर्दी से बचने का पूरा इंतजाम था।
मैंने पहले ही पठानकोट तक का टिकट ले लिया था। दिल्ली स्टेशन पर पहुंचे। पता चला कि जम्मू जाने वाली पूजा एक्सप्रेस डेढ़ घंटे लेट थी। प्लेटफार्म पर वो ही जबरदस्त भीड़। पौने बारह बजे ट्रेन आई। अजमेर से आती है। ट्रेन में प्लेटफार्म से भी ज्यादा भीड़। लगा कि बैठने-लेटने की तो दूर, खड़े होने को भी जगह नहीं मिलेगी।
...
बर्थ पर लेटा रामबाबू
तभी मेरे दिमाग में घंटा सा बजा। याद आया कि बारह बजे एक जम्मू स्पेशल ट्रेन भी तो चलती है। प्लेटफार्म 13 पर वही ट्रेन खड़ी मिल गयी। इस ट्रेन में ज्यादा सवारियां नहीं जाती। सभी सवारियां पूजा व जम्मू मेल से चली जाती हैं। हम दोनों को मजे से सोने के लिए बर्थ मिल गयी।

...
ट्रेन चली तो नींद भी आ गयी। सुबह साढे छः बजे आँख खुली, देखा कि ट्रेन लुधियाना स्टेशन पर खड़ी है। इसे तो अब तक मुकेरियां के पास पहुँच जाना चाहिए था। लगा कि यहाँ से चलकर जालंधर छावनी पर रुकेगी। पता नहीं दस बजे पठानकोट से चलने वाली टॉय ट्रेन को पकड़ भी पाएंगे या नहीं। लेकिन लुधियाना से चली तो सीधे चक्की बैंक ही जाकर रुकी। अब जम्मू जाने वाली सभी ट्रेनें पठानकोट को बाईपास कर देती हैं, तो चक्की बैंक रूकती हैं।
...
पठानकोट से खींचा गया फोटो
यहाँ से पहाड़ स्पष्ट रूप से दिख रहे थे। यहाँ तक कि धौलाधार की बर्फीली चोटियाँ भी। मैंने रामबाबू से कहा-" ओये, वो देख, बर्फ।"
"अरे यार, बर्फ नहीं है।"
"तूने बर्फ वाले पहाड़ देखे हैं कभी?"
"नहीं देखे, लेकिन वो बर्फ नहीं है।"
"तो फिर क्या है?"
"अरे बकवास बंद कर। वो बर्फ नहीं है। वैसे ही रेत-वेत है।"
"अरे भाई, यह हिमालय है। रेगिस्तान नहीं कि रेत वेत है।"
"बकवास बंद भी करेगा या नहीं?"
...
मैंने 'बकवास' बंद कर दी। चक्की बैंक से टम्पू से पठानकोट पहुंचे। रामबाबू कहने लगा कि मुझे तो भूख लगी है, पहले कुछ खाऊंगा। एक ठेली वाले से एक प्लेट चावल ले लिए। मैंने खुद ही बुदबुदाया-"वाह भई वाह!!!क्या शानदार नजारा है, धौलाधार की बर्फ का।" रामबाबू फिर बिगड़ गया-"तू चुप भी रहेगा या बर्फ-बर्फ करता रहेगा?"
"तुझसे कौन कह रहा है? थोड़ी देर तू चुप रह। फिर देखना, तू खुद ही कहेगा कि वाह, क्या नजारा है!!!"
हमारी बातें सुनकर ठेली वाला बोल पड़ा-"भाई साहब, वो बर्फ ही तो है।" तब रामबाबू को मानना पड़ा।
...
डलहौजी रोड रेलवे स्टेशन
जाना तो था बैजनाथ, फिर भी जोगिन्दर नगर तक का टिकट ले लिया। ढाई फुट चौड़ी रेल, उस पर खड़ी छोटी-सी गाडी। छोटे-छोटे कुल सात डिब्बे। निधारित समय पर गाडी चल पड़ी। भीड़ भी बढती ही गयी।

 
कांगडा रेल की खिड़की में खड़े हम
हमें सीट तो मिली नहीं थी, इसलिए खिड़की पर ही खड़े रहे। भीड़ से तंग आकर रामबाबू मुझे कोसने लगा कि मैंने पहले ही कहा था कि बस से चलो। मैंने कहा कि भाई, तू बस ज्वालामुखी रोड तक झेल ले। फिर सीट मिल जायेगी।
...
कांगडा घाटी
ज्वालामुखी रोड स्टेशन पर हमें दोनों को सीट मिल गयी। अब हम कांगडा घाटी का लुत्फ़ उठा सकते थे। असल में यह घाटी भी नहीं है, पठार है। धौलाधार की छत्रछाया में बसा पठार। 500 से 700 मीटर की ऊंचाई, जगह-जगह छोटे-छोटे टीले, और गहरी नदी घाटियाँ।

 
कांगडा रेल
...
कांगडा और नगरोटा होते हुए पालमपुर पहुंचे। यहाँ से हिमालय ऐसा लगता है कि छलांग लगाओ, और पहुँच जाओ। मैंने रामबाबू से पूछा -" बोल भाई, क्या शानदार रेतीला पहाड़ है!!!"

कांगडा घाटी में लहराते गेहूं के खेत
"अरे क्षमा कर, दोस्त। रेत नहीं है, बर्फ ही है।"
"अच्छा ये बता, अगर हम चढ़ना शुरू करें, तो उस छोटी तक कितनी देर में पहुँच जायेंगे?"
"बस, ज्यादा से ज्यादा दो घंटे में।"
"यार दो घंटे नहीं, दो दिन बोल। कम से कम दो दिन लगेंगे।"
"फिर बकवास कर रहा है। यहाँ से चोटी दस किलोमीटर भी नहीं है।"
तभी सामने बैठा एक लोकल लड़का बोला-"भाई, आप ठीक कह रहे हो, दो दिन में भी मुश्किल से ही पहुँच पाएंगे।"

चामुण्डा मार्ग रेलवे स्टेशन
...
NH-20 और धौलाधार
ये है नगरोटा रेलवे स्टेशन
और शाम को छः बजे तक बैजनाथ पपरोला पहुँच गए।

अगला भाग: बैजनाथ मंदिर

बैजनाथ यात्रा श्रंखला
1. बैजनाथ यात्रा - कांगड़ा घाटी रेलवे
2. बैजनाथ मंदिर
3. बिलिंग यात्रा
4. हिमाचल के गद्दी
5. पालमपुर यात्रा और चामुंड़ा देवी

Comments

  1. बर्फ तो काफी अच्छी दिख रही है. दिल्ली से पठानकोट तक आरक्षण क्यों नहीं करवाया.

    ReplyDelete
  2. मजा आ गया। आपके साथ यूँ ब्लोग से घूमकर। जी तो खूब करता है कि हम भी घूमे पर ......।

    ReplyDelete
  3. चित्र और यात्रा वर्णन रोचक है अगली कड़ी का इन्तजार

    ReplyDelete
  4. चलिये आपके सफ़र से ही सही बर्फ़ वाले पहाड़ो के नज़ारे तो देखने मिल रहे है।

    ReplyDelete
  5. वाह JRS !

    नया कमरा तो कमाल का है !!
    रोचक यात्रा वर्णन व बर्फ देखकर मन प्रसन्न हो गया

    ReplyDelete
  6. ये हुई ना बात मुसाफिर जाट वाली.. बढ़िया दोस्त.. :)

    ReplyDelete
  7. हम भी सफ़र का लुत्फ़ उठा रहे हैं आपके साथ.

    ReplyDelete
  8. बहुत ्बढिया चिट्र दिखाये और भाई मुसाफ़िर तू कांगडा रेल म्ह खडा घणा समार्ट दिख रया सै.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. अच्‍छा वर्णन करते हें आप अपनी यात्रा का ... तस्‍वीरें भी अच्‍छी लगी ... अगली कडी का इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete
  10. Tasver dekh ki hi lag raha hai ki apki yatra bahut rochak rahi...

    aur camera bhi bahut achha kaam kar raha hai...

    ReplyDelete
  11. इस बार तो तो झनझना दिया. क्या बात है. मजा आ गया. फोटू भी मस्त मस्त है.

    ReplyDelete
  12. क्या बात है भाई वाह
    आप मेरे कस्बे जोगिन्दर नगर भी हो आए, खुशी की बात है

    ReplyDelete
  13. रोचक वृत्तांत है। आगे की प्रतीक्षा है। चित्र भी खूब आये हैं।

    ReplyDelete
  14. आपकी यात्राऐं और उनके वृतांत इतने रोचक होते हैं कि जाने का मन होने लगे.

    अब तो कैमरा भी आ गया है तो बात ही निराली हो गई है. आभार-आगे इन्तजार है.

    ReplyDelete
  15. जे बात! अब लग रहे हो पक्के मुसाफिर

    ReplyDelete
  16. अगली कडी का इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete
  17. Dear Neeraj,
    thanx for a nice post ! If u drive motorcycle ,u r welcome to join a blogger's trip to Sat-taal !
    Munish.

    ReplyDelete
  18. यहाँ तक का यात्रा विवरण फोटो के साथ बहुत अच्छा लगा अब बैजनाथ दर्शन भी करवा दीजिये
    - लावण्या

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।

जिम कार्बेट की हिंदी किताबें

इन पुस्तकों का परिचय यह है कि इन्हें जिम कार्बेट ने लिखा है। और जिम कार्बेट का परिचय देने की अक्ल मुझमें नहीं। उनकी तारीफ करने में मैं असमर्थ हूँ क्योंकि मुझे लगता है कि उनकी तारीफ करने में कहीं कोई भूल-चूक न हो जाए। जो भी शब्द उनके लिये प्रयुक्त करूंगा, वे अपर्याप्त होंगे। बस, यह समझ लीजिए कि लिखते समय वे आपके सामने अपना कलेजा निकालकर रख देते हैं। आप उनका लेखन नहीं, सीधे हृदय पढ़ते हैं। लेखन में तो भूल-चूक हो जाती है, हृदय में कोई भूल-चूक नहीं हो सकती। आप उनकी किताबें पढ़िए। कोई भी किताब। वे बचपन से ही जंगलों में रहे हैं। आदमी से ज्यादा जानवरों को जानते थे। उनकी भाषा-बोली समझते थे। कोई जानवर या पक्षी बोल रहा है तो क्या कह रहा है, चल रहा है तो क्या कह रहा है; वे सब समझते थे। वे नरभक्षी तेंदुए से आतंकित जंगल में खुले में एक पेड़ के नीचे सो जाते थे, क्योंकि उन्हें पता था कि इस पेड़ पर लंगूर हैं और जब तक लंगूर चुप रहेंगे, इसका अर्थ होगा कि तेंदुआ आसपास कहीं नहीं है। कभी वे जंगल में भैंसों के एक खुले बाड़े में भैंसों के बीच में ही सो जाते, कि अगर नरभक्षी आएगा तो भैंसे अपने-आप जगा देंगी।