Skip to main content

2009: मेरे अपने आंकड़े

पिछले साल इन दिनों में ही तय हो गया था कि मेरी बदली हरिद्वार से दिल्ली होने वाली है। इसलिए जनवरी का महीना काफी उथल-पुथल भरा रहा। जनवरी में ही इंटरव्यू और मेडिकल टेस्ट हुआ। फ़रवरी शुरू होते-होते सरकारी नौकरी भी लग गयी। नौकरी क्या लगी, बड़े बड़े पंख लग गए। मार्च में सेलरी मिली तो घूमने की बात भी सोची जाने लगी। कैमरा भी ले लिया।
अप्रैल की नौ तारीख को बैजनाथ के लिए निकल पड़ा। बैजनाथ हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में है। सफ़र में साथी था रामबाबू। बैजनाथ गए तो पैराग्लाइडिंग का स्वर्ग कहे जाने वाले बीड व बिलिंग भी हो आये। इसी यात्रा में चाय नगरी पालमपुरचामुंडा देवी के भी दर्शन किये।
इसके बाद मई का गर्म महीना आया। किसी और जगह को चुनता तो शायद कोई भी तैयार नहीं होता, लेकिन मित्र मण्डली को जब पता चला कि बन्दा शिमला जा रहा है तो तीन जने और भी चल पड़े। शिमला से वापस आया तो भीमताल चला गया। साथ ही रहस्यमयी नौकुचियातालनैनीताल का भी चक्कर लगा आया। इसके बाद कुछ दिन तक तो ठीक रहा, फिर जून आते आते खाज सी मारने लगी। तब चैन मिला गढ़वाल हिमालय की प्रसिद्द वादी व सैनिक छावनी लैंसडाउन पहुंचकर। इस बार के साथी रहे यह भी खूब रही वाले नरेश जी यानी प्रयास जी।
जुलाई का महीना यानी सावन का महीना। कांवडियों की बम बम। हम भी जा पहुंचे हरिद्वार कांवड़ लानेनीलकंठ गए और हरिद्वार से पुरा महादेव बागपत तक करीब 150 किलोमीटर की पैदल यात्रा की। इसी तरह अगस्त के बरसाती माहौल में जा पहुंचा मध्य प्रदेश। पहले तो भीमबैठका की गुफाएं देखीं, फिर महाकाल की नगरी उज्जैन होते हुए ताऊ के यहाँ इंदौर पहुँच गया। दूसरे ही दिन एक और ज्योतिर्लिंग ओम्कारेश्वर के दर्शन किये।
सितम्बर का महीना। बरसात ख़त्म होने के बाद और सर्दी शुरू होने से पहले का समय घुमक्कड़ों के लिए वरदान होता है। फिर भला मैं कैसे पीछे रहता? जा पहुंचा देवप्रयाग सचिन को साथ लेकर। लगे हाथों चन्द्रबदनी देवी के भी दर्शन कर लिए। जंगल में एक गुफा की खोज करते करते खुद ही भटक जाने में क्या आनंद आता है, वो आनंद लिया अक्टूबर में की गयी करोल यात्रा में। आजकल तो करोल के टिब्बे पर बरफ गिर गयी होगी। ना भी गिरी होगी तो देर-सबेर गिर ही जायेगी।
फिर आया नवम्बर। ठण्डा ठण्डा कूल कूल। ललित को साथ लिया और पहुँच गया धर्मशाला। कदम यहीं नहीं रुके बल्कि मैक्लोडगंज, दुर्गम त्रियुंड, कांगड़ा का किला, ज्वालामुखी और टेढ़ा मंदिर तक धावा बोला। साल का आखिरी महीना दिसम्बर। वैष्णों देवी के दर्शन करने जम्मू जाने की सूचना तो पहले ही प्रसारित कर दी थी। जब तक आप इसे पढोगे, तब तक शायद वापस भी ना आऊँ।
इतना होने के बाद रेलयात्रा का जिक्र ना हो, यह असंभव है। वर्ष 2009 में 90 बार रेल यात्रा की और 11935 किलोमीटर की दूरी तय की। पैसेंजर ट्रेनों से सर्वाधिक 58 बार में 4505 किलोमीटर, मेल/एक्सप्रेस में 22 यात्राओं में 3729 किलोमीटर और सुपरफास्ट में 10 यात्राओं में 3701 किलोमीटर की दूरी तय की। कुल मिलकर 31 दिसम्बर 2009 तक 300 रेलयात्राएँ हो जायेंगी व 36959 किलोमीटर की दूरी तय कर ली जायेगी। इनमे पैसेंजर से 159 बार में 12070 किलोमीटर, मेल/एक्सप्रेस में 99 बार में 14157 किलोमीटर और सुपरफास्ट में 30 बार में 10732 किलोमीटर की दूरी तय कर चुकूँगा।
अंत में नव वर्ष 2010 की सभी को शुभकामनाएं।

Comments

  1. लेखा जोख नोट कर लिया!!



    मुझसे किसी ने पूछा
    तुम सबको टिप्पणियाँ देते रहते हो,
    तुम्हें क्या मिलता है..
    मैंने हंस कर कहा:
    देना लेना तो व्यापार है..
    जो देकर कुछ न मांगे
    वो ही तो प्यार हैं.


    नव वर्ष की बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  2. देखो भई नीरज ये घूमना फिरना तो ठीक है पर हर सैलरी पर ही घूमने नहीं निकल पड़ते. कुछ ब्रेक लगाओ.

    कल को शादी-वादी करोगे तो दूसरे ख़र्यों के अलावा गाड़ी- मकान वगैहरा के लिए भी पैसे की ज़रूरत होगी, आज चार पैसे बचा लोगे तो कल काम आएंगे...कुछ बचाना भी शुरू करो.. (समझो कि तुम मेरे भूतकाल हो)
    सस्नेह :-)

    ReplyDelete
  3. सिर्फ 2009 में ही इतना भ्रमण .. इसी तरह 2010 में भी नए नए अनुभव लें .. पोस्‍टों के माध्‍यम से हमें भी घुमातें रहें .. बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  4. मुसाफिर जी,

    गीता के सार की तरह आपने भी अपनी साल भर की यात्राओं का सार लिख डाला. आपके इस सार का एक हिस्सा मैं भी बना. अति हर्षित हूँ.

    नोट: कृपया मेरे ब्लौग का लिकं ठीक करें. आपकी अति कृपा होगी.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर लेखा जोखा किया. लगता है तुम्हारे पांव मे पहिये फ़िट हैं.:)

    काजलकुमारजी की बात पर ध्यान दिया जाये.:)

    नये साल की घणी रामराम.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. नुतन वर्ष की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. यूँ ही घूमते रहे ...:) नए साल की बधाई .जय माता दी

    ReplyDelete
  8. नीरज भाई काम कब करते हो? बहुत घुमते हो,ओर हिसाब कितब भी सही ओर पुरा पुरा रखा है, मजेदार ओर मन मोजी लगते हो, शायद मिलना हो जाये

    ReplyDelete
  9. सुन्दर ब्योरा!
    बहुत मंगलमय हो जी नया साल आपको।

    ReplyDelete
  10. नीरज भैया २०१० में भी आपसे ज्यादा उम्मीदे होगी , हो सके तो लेह लदाख का विवरण देना , तुम्हारे पीछे मै वहा जाना चाहता हूँ तुमसे टूर रिपोर्ट मिल जाए तो जाना काफी आसान होगा . यूँ ही घूमते रहे नए साल की बधाई
    नव वर्ष की बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

ट्रेन में बाइक कैसे बुक करें?

अक्सर हमें ट्रेनों में बाइक की बुकिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। इस बार मुझे भी पड़ी तो कुछ जानकारियाँ इंटरनेट के माध्यम से जुटायीं। पता चला कि टंकी एकदम खाली होनी चाहिये और बाइक पैक होनी चाहिये - अंग्रेजी में ‘गनी बैग’ कहते हैं और हिंदी में टाट। तो तमाम तरह की परेशानियों के बाद आज आख़िरकार मैं भी अपनी बाइक ट्रेन में बुक करने में सफल रहा। अपना अनुभव और जानकारी आपको भी शेयर कर रहा हूँ। हमारे सामने मुख्य परेशानी यही होती है कि हमें चीजों की जानकारी नहीं होती। ट्रेनों में दो तरह से बाइक बुक की जा सकती है: लगेज के तौर पर और पार्सल के तौर पर। पहले बात करते हैं लगेज के तौर पर बाइक बुक करने का क्या प्रोसीजर है। इसमें आपके पास ट्रेन का आरक्षित टिकट होना चाहिये। यदि आपने रेलवे काउंटर से टिकट लिया है, तब तो वेटिंग टिकट भी चल जायेगा। और अगर आपके पास ऑनलाइन टिकट है, तब या तो कन्फर्म टिकट होना चाहिये या आर.ए.सी.। यानी जब आप स्वयं यात्रा कर रहे हों, और बाइक भी उसी ट्रेन में ले जाना चाहते हों, तो आरक्षित टिकट तो होना ही चाहिये। इसके अलावा बाइक की आर.सी. व आपका कोई पहचान-पत्र भी ज़रूरी है। मतलब

पुस्तक-चर्चा: पिघलेगी बर्फ

पुस्तक मेले में घूम रहे थे तो भारतीय ज्ञानपीठ के यहाँ एक कोने में पचास परसेंट वाली किताबों का ढेर लगा था। उनमें ‘पिघलेगी बर्फ’ को इसलिये उठा लिया क्योंकि एक तो यह 75 रुपये की मिल गयी और दूसरे इसका नाम कश्मीर से संबंधित लग रहा था। लेकिन चूँकि यह उपन्यास था, इसलिये सबसे पहले इसे नहीं पढ़ा। पहले यात्रा-वृत्तांत पढ़ता, फिर कभी इसे देखता - ऐसी योजना थी। उन्हीं दिनों दीप्ति ने इसे पढ़ लिया - “नीरज, तुझे भी यह किताब सबसे पहले पढ़नी चाहिये, क्योंकि यह दिखावे का ही उपन्यास है। यात्रा-वृत्तांत ही अधिक है।”  तो जब इसे पढ़ा तो बड़ी देर तक जड़वत हो गया। ये क्या पढ़ लिया मैंने! कबाड़ में हीरा मिल गया! बिना किसी भूमिका और बिना किसी चैप्टर के ही किताब आरंभ हो जाती है। या तो पहला पेज और पहला ही पैराग्राफ - या फिर आख़िरी पेज और आख़िरी पैराग्राफ।

46 रेलवे स्टेशन हैं दिल्ली में

एक बार मैं गोरखपुर से लखनऊ जा रहा था। ट्रेन थी वैशाली एक्सप्रेस, जनरल डिब्बा। जाहिर है कि ज्यादातर यात्री बिहारी ही थे। उतनी भीड नहीं थी, जितनी अक्सर होती है। मैं ऊपर वाली बर्थ पर बैठ गया। नीचे कुछ यात्री बैठे थे जो दिल्ली जा रहे थे। ये लोग मजदूर थे और दिल्ली एयरपोर्ट के आसपास काम करते थे। इनके साथ कुछ ऐसे भी थे, जो दिल्ली जाकर मजदूर कम्पनी में नये नये भर्ती होने वाले थे। तभी एक ने पूछा कि दिल्ली में कितने रेलवे स्टेशन हैं। दूसरे ने कहा कि एक। तीसरा बोला कि नहीं, तीन हैं, नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली और निजामुद्दीन। तभी चौथे की आवाज आई कि सराय रोहिल्ला भी तो है। यह बात करीब चार साढे चार साल पुरानी है, उस समय आनन्द विहार की पहचान नहीं थी। आनन्द विहार टर्मिनल तो बाद में बना। उनकी गिनती किसी तरह पांच तक पहुंच गई। इस गिनती को मैं आगे बढा सकता था लेकिन आदतन चुप रहा।