Monday, February 27, 2017

अंडमान यात्रा - दिल्ली से पोर्ट ब्लेयर

संक्षेप में इस यात्रा को लिखेंगे। काम का बहुत दबाव है और समय की भारी कमी।
प्रत्येक सरकारी कर्मचारी को देश घूमने के लिये सरकार खर्चा देती है। इसे एल.टी.सी. कहते हैं। इसे लेने के इतने सारे नियम होते हैं कि किसी के लिये सभी नियम याद रख पाना संभव नहीं होता। फिर कुछ नियम ऐसे भी हैं जो समय-समय पर बदलते रहते हैं या आगे कुछ समय के लिये विस्तारित होते रहते हैं। मैं एल.टी.सी. के नियम ज्यादा नहीं जानता। वैसे भी चार साल में एक बार या दो बार इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। अपना चार साल में पचास बार बाहर जाने का काम है। एक बार खर्चा सरकार दे देगी, तो उनचास बार अपनी जेब से ही सब खर्चा करना होता है। तो सरकार द्वारा दी जाने वाली इस सुविधा को मैं अक्सर भूल जाता हूँ।
एल.टी.सी. का एक मास्टर सर्कुलर है अपने यहाँ। मैंने इसे ही पढ़ लिया और इसी के अनुसार टिकट बुकिंग कर ली। यह सर्कुलर कहता है कि अंडमान जाने के लिये आपको दिल्ली से पहले कोलकाता ट्रेन से जाना पड़ेगा और उसके बाद हवाई जहाज से। बाद में ... वापस लौटकर पता चला कि एक अस्थायी नियम भी चल रहा है जिसके अनुसार हम दिल्ली से सीधे पोर्ट ब्लेयर की फ्लाइट भी ले सकते हैं। लेकिन पहले मुझे इस नियम का पता नहीं था, इसलिये कोलकाता तक ट्रेन में बर्थ बुक कर ली और उसके बाद फ्लाइट।



पहले तो सियालदाह दूरंतो में बर्थ बुक की, लेकिन जब वह अठारह-बीस घंटे तक लेट चलने लगी, तो जी घबरा गया। फिर कालका-हावड़ा मेल में बुकिंग कर ली। हावड़ा मेल में मार्जिन ज्यादा था, इसलिये लेट होने की सूरत में फ्लाइट छूटने की संभावना कम थी।
तो 16 जनवरी 2017 की सुबह सात बजे हम पुरानी दिल्ली स्टेशन पर हावड़ा मेल में बैठ गये। सेकंड़ ए.सी. में। अच्छी लगी सेकंड़ ए.सी. श्रेणी। पहली बार सफ़र किया। भीड़भाड़ नहीं। सहयात्री एक बंगाली परिवार था। भला परिवार था। मैंने उन्हें मोबाइल चार्ज करने को अपना बैटरी बैंक दे दिया और मुझे लैपटॉप चार्ज करने के लिये अपने कूपे का चार्जिंग पॉइंट मिल गया। चौबीस घंटे से भी ज्यादा लैपटॉप चार्जिंग पर लगा रहा, लेकिन बंगालियों ने कुछ नहीं कहा।
इलाहाबाद डिवीजन के बारे में कुछ नहीं कहूँगा। इस अकेली डिवीजन ने पूरी भारतीय रेल को बदनाम कर रखा है। मुझे नहीं पता कि केवल इस डिवीजन में ऐसी कौन-सी समस्या है कि दिल्ली से चलने के बाद मुगलसराय तक ट्रेन आठ-दस घंटे लेट होनी ही होनी है।
दूसरे मार्गों की ट्रेनें जैसे श्रीधाम एक्सप्रेस या गोंड़वाना एक्सप्रेस अगर लेट चल रही है, तो उसके कुछ वाज़िब कारण होते हैं, लेकिन इस मार्ग की ट्रेनें अगर लेट हैं तो इस डिवीजन की ख़राब कार्य-प्रणाली के अलावा कोई और कारण नहीं होता।
दिल्ली से सही समय पर चलकर ट्रेन छह घंटे लेट मुगलसराय पहुँची। मुगलसराय में सभी ट्रेनों को इलाहाबाद डिवीजन से छुटकारा मिल जाता है। फिर हावड़ा तक यह छह घंटे ही लेट रही। सुबह आठ बजे हावड़ा पहुँचने थे, दोपहर दो बजे पहुँचे। कल सुबह की फ्लाइट है।
सीधे पहुँचे किसन बाहेती जी की दुकान पर - चाँदनी चौक। कोलकाता में भी चाँदनी चौक है। और हू-ब-हू दिल्ली के चाँदनी चौक जैसा। लेकिन हम उनके लिये ऐसे मनहूस साबित हुए कि हमारे पहुँचते ही उनके बड़े ससुर का निधन हो गया। हमारे लिये आवश्यक निर्देश देकर वे अपनी ससुराल चले गये।
पता नहीं कोलकाता वालों के लिये मेट्रो कितनी ज़रूरी है, लेकिन हमें केवल दीप्ति के लिये इसमें यात्रा करनी थी। टोकन लो और कोई चेकिंग नहीं - सीधे मेट्रो में जा चढ़ो। जमीन के अंदर गैर-वातानुकूलित मेट्रो। किसन जी के अनुसार - “आपका नसीब अच्छा है, तो ए.सी. वाली मेट्रो भी मिल सकती है।” लेकिन हमारा नसीब अच्छा नहीं था।
कमाल की बात है कि कोलकाता की दूसरी मेट्रो लाइनों को भी भारतीय रेल ही बना रही है। भारतीय रेल ने दिल्ली मेट्रो को भी स्वयं संचालित करने की पूरी तैयारी कर रखी थी, लेकिन श्रीधरन साहब ने ऐसा नहीं होने दिया। भारतीय रेल को लग रहा था कि दिल्ली मेट्रो उसके बिना असफल हो जायेगी और तब यहाँ अपनी ई.एम.यू. चलायेंगे। इसके लिये दिल्ली में शाहदरा स्टेशन पर भारतीय रेल और मेट्रो को जोड़ती हुई एक लिंक लाइन भी है।
तो किसन जी के सुझाव के अनुसार हम पहुँचे विक्टोरिया मेमोरियल। पाँच बजे के बाद यहाँ प्रवेश नहीं मिलता और हम इसमें प्रवेश करने वाले आख़िरी यात्री थे। टिकट क्लर्क ने खटाक से खिड़की बंद की और हमारे पीछे खड़े कई यात्रियों को निराशा हाथ लगी। लेकिन हम भी इसके अंदर नहीं जा सके। केवल गार्डन में ही घूमे। जब तक गार्डन और बाहरी साज-सज्जा की चकाचौंध से आँखें हटतीं, मेमोरियल को खाली करने का हुक्म आ गया।
कुछ देर मैदान में बैठे। यह बहुत बड़ा मैदान है। इसके बराबर में ‘मैदान’ मेट्रो स्टेशन भी है। हम उत्तर भारतीयों को खाली ‘मैदान’ शब्द की आदत नहीं होती। कुछ न कुछ जुड़ना चाहिये; जैसे रामलीला मैदान, गाँधी मैदान। मैदान के उस तरफ़ कहीं हुगली नदी बहती है। लेकिन मेरी चप्पलों ने अब तक पैरों को काफ़ी नुकसान पहुँचा दिया था, इस कारण हुगली घाट की तरफ़ नहीं जा सके। ये वहीं चप्पलें थीं जो कुछ समय पहले मैंने इंदौर से सुमित डाक्टर से ली थीं। अंडमान में काफ़ी पैदल घूमना है, इसलिये दूसरी चप्पलें लेनी पड़ेंगी। आज ही यह काम भी कर लिया। और सुमित वाली इन ‘अत्याचारी’ चप्पलों को टॉयलेट चप्पल बना दिया।
एसप्लानेड़ पहुँचे। पता नहीं बंगाली लोग इसकी सही वर्तनी कैसे करते होंगे? मैं तो अभी तक इसे इसप्लानाड़े बोलता हूँ। यहाँ एक बस अड्ड़ा है। ज्यादा बड़ा तो मुझे नहीं लगा, लेकिन हो सकता है कि बहुत बड़ा हो और मुझे न दिखा हो। अंधेरा हो गया था। यहाँ से हमें एयरपोर्ट जाने वाली बस पकड़नी थी और रास्ते में जोड़ा मंदिर उतरकर किसन जी के घर जाना था।
यहीं बस-अड्ड़े पर भूटान की एक बस खड़ी थी। यह भूटान नंबर की सरकारी बस थी और इस पर थिंपू या किसी और शहर की बजाय ‘भूटान’ लिखा था। यह बस थिंपू ही जाती होगी। हमारी दिल्ली से भी पाकिस्तान और नेपाल के लिये सरकारी बसें चलती हैं, लेकिन वे किसी बस-अड्ड़े से न चलकर अलग-अलग स्थानों से चलती हैं। इस तरह कश्मीरी गेट का बस-अड्ड़ा अंतर्राज्यीय ही रह गया, इधर कोलकाता में एसप्लानेड़ का बस-अड्ड़ा अंतर्राष्ट्रीय बस अड्ड़ा हो गया।
कोलकाता में ट्रैफ़िक के क्या कहने! डेढ़ घंटे में नौ किलोमीटर दूरी तय की।
आठ बजे तक किसन जी के यहाँ पहुँच गये। नहाये-धोये और खाना खाया। आधी रात के समय किसन जी वापस लौटे।
अगले दिन यानी 18 जनवरी को टैक्सी से एयरपोर्ट पहुँच गये। काफ़ी सारा सामान किसन जी के यहाँ छोड़ दिया। दीप्ति का यह पहला मौका था हवाई जहाज में बैठने का। पहले आईड़ी चेक, फिर चेक-इन और फिर सिक्योरिटी चेक - पंद्रह मिनट भी नहीं लगे और हम हवाई जहाज में बैठने के अधिकारी हो चुके थे।
कोलकाता से पोर्ट ब्लेयर पहुँचने में दो घंटे लगते हैं। दीप्ति ने खिड़की वाली सीट ले ली। मैंने पूछा - “कितनी देर तक जगी रहेगी?”
“ना, मैं सोऊँगी ही नहीं।”
“आच्छ्या जी, अगर आधा घंटा भी जाग ली, तो बड़ी बात होगी।”
“नहीं, असंभव। मैं बहुत रोमांचित हूँ। खिड़की से नज़र हटाऊँगी ही नहीं।”
“देख लेंगे।”
“देख लेना।”
विमान रन-वे की तरफ़ जब ‘टैक्सी’ हो रहा था, तो दीप्ति ने कहा - “मुझे डर-सा लग रहा है। जब विमान उड़ेगा, तो मेरी चीख भी निकल सकती है।”
“आँख बंद कर लेना। अगर चीख निकल पड़ी तो कहीं ऐसा न हो कि ये लोग दोबारा लैंड़िंग कराकर तुझे अस्पताल भेज दें।”
खैर, विमान ने गति पकड़ी, जमीन छोड़ी और आसमान में उड़ गया। लोग, घर, खेत सब छोटे होते चले गये। फिर समुद्र आ गया, फिर बादल आ गये और नीचे दिखना बंद। नीचे अगर कुछ दिख भी जाता तो सिवाय नीले पानी के अलावा कुछ नहीं। बीस मिनट में ही दीप्ति बोल पड़ी - “धत्त तेरे की। यह होती है विमान यात्रा? इतनी बोरिंग। अब डेढ़ घंटा कैसे कटेगा?”
और वह सो गयी।
आसमान में हवाएँ बड़ी तेज चल रही थीं। इतनी तेज कि विमान ट्रेन की तरह झटके लेने लगा। एयर-होस्टेसों ने चाय-स्नैक्स बेचना बंद कर दिया और यात्रियों को सीट-बैल्ट बाँधने का आदेश दे दिया और स्वयं भी सीट बैल्ट लगाकर बैठ गयीं। उड़ने से पहले इन्होंने सुरक्षा-उपाय भी बताये थे कि यदि विमान को समुद्र पर उतारना पड़ गया तो सभी सीटों के नीचे लाइफ-जैकेट हैं। इन्हें पहनकर आपातकालीन द्वारों से बाहर आना है। मैं भी विमान-यात्रा का इतना बड़ा अनुभवी नहीं हूँ। मुझे भी डर-सा लगने लगा। मलेशिया के उस विमान की याद आने लगी, जो पिछले साल समुद्र में डूब गया था और न कोई जिंदा बचा और न ही कोई उसका सुराग मिला। उसमें भी तो प्रत्येक सीट के नीचे लाइफ-जैकेट रही होंगी।
विमान बादलों के भीतर से होता हुआ जब कुछ नीचे आया तो अंडमान के द्वीप दिखने लगे। फिर और नीचे आया, और नीचे आया और लैंड़िंग के लिये रनवे पर दौड़ लगा दी।
अंडमान की धरती पर कदम रखा तो बूँदाबाँदी हो रही थी। गर्मी तो ज्यादा नहीं थी, लेकिन उमस चरम पर थी।



विक्टोरिया मेमोरियल





कोलकाता भूटान बस
किसन जी के यहाँ रात्रि-भोज

कोलकाता हवाई अड्ड़ा

बादल और समुद्र

जॉली ब्वाय आईलैंड़

जॉली ब्वाय आईलैंड़

मरीन नेशनल पार्क के द्वीप

मरीन नेशनल पार्क के द्वीप





यह पोस्ट लिखने, फोटो एडिट करने और प्रकाशित करने में लगा कुल समय: 2 घंटे 5 मिनट






1. अंडमान यात्रा - दिल्ली से पोर्ट ब्लेयर
2. अंडमान यात्रा: सेलूलर जेल के फोटो
3. रॉस द्वीप - ऐसे खंड़हर जहाँ पेड़ों का कब्ज़ा है
4. नॉर्थ-बे बीच: कोरल देखने का उपयुक्त स्थान
5. नील द्वीप में प्राकृतिक पुल के नज़ारे
6. नील द्वीप: भरतपुर बीच और लक्ष्मणपुर बीच
7. राधानगर बीच @ हैवलॉक द्वीप
8. हैवलॉक द्वीप - गोविंदनगर बीच और वापस पॉर्ट ब्लेयर
9. अंडमान में बाइक यात्रा: चाथम आरा मशीन
10. अंडमान में बाइक यात्रा: माउंट हैरियट नेशनल पार्क
11. वंडूर बीच भ्रमण
12. अंडमान यात्रा की कुछ वीडियो

Thursday, February 23, 2017

उमेश पांडेय की चोपता तुंगनाथ यात्रा - भाग दो

उमेश पांडेय जी की चोपता-तुंगनाथ यात्रा का पहला भाग पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें

तीसरा दिन:
अपने अलार्म के कारण हम सुबह 5 बजे उठ गए। ठंड़ बहुत थी इसलिए ढाबे वाले से गरम पानी लेकर नहाया। फटाफट तैयार हो कर कमरे से बाहर निकले और ॐ नमः शिवाय बोल कर मंदिर की ओर प्रस्थान किया। यात्रा शुरुआत में तो ज्यादा मुश्किल नहीं थी, पर मेरे लिए थी। इसका कारण था मेरा 90 किलो का भारी शरीर। देबाशीष वैसे तो कोई नशा नहीं करते, पर उन्होंने सिगरेट जलायी। समझ नहीं आ रहा था कि ये सिगरेट पीने के लिए जलायी थी या सिर्फ फोटो के लिए। यात्रा की शुरुआत में घना जंगल है। सुबह 5:30 बजे निकलने के कारण अँधेरा भी था। इसलिए मन में भय था कि किसी भालू जी के दर्शन हो गए तो? पर ऐसा नहीं हुआ।
थोड़ी देर में ही उजाला हो गया। 1 किलोमीटर जाने पर एक चाय की दुकान मिली जिसे एक वृद्ध महिला चला रही थी। वहाँ नाश्ता किया। वहीं एक लाल शरबत की बोतल देखी । पूछने पर पता चला कि यह बुरांश का शरबत है। बुरांश उत्तराखंड़ में पाया जाने वाला फूल है । इसे राजकीय पुष्प का दर्जा भी प्राप्त है। अगर आप मार्च - अप्रैल के महीने में उत्तराखंड़ आये तो बुरांश के लाल फूल बिखरे हुए मिलेंगे।

Monday, February 20, 2017

उमेश पांडेय की चोपता तुंगनाथ यात्रा - भाग एक

मित्र उमेश पांडेय अपनी चोपता तुंगनाथ की यात्रा हम सबके साथ साझा कर रहे हैं। कुछ मामूली करेक्शन के बाद मैंने उनकी संपूर्ण पोस्ट को ज्यों का त्यों प्रकाशित किया है। यह उनका पहला लेख है और अच्छा लिखा है। आप भी आनंद लीजिये।
मानव शुरू से ही घुमक्कड़ प्रजाति का प्राणी रहा है। आदि काल से ही मानव ने नए-नए स्थानों की खोज की है। इन्हीं खोजों के दौरान कई नगरों का निर्माण भी हुआ। उनमे से अधिकांश ने अपने रहने का ठिकाना बना लिया और कुछ आज भी खानाबदोशों की तरह घूम रहे हैं।
मेरी घूमने-फिरने में रुचि हमेशा से ही रही है। हमेशा प्रयास रहता है कि जैसे ही समय मिले किसी स्थान की यात्रा पर निकल जाया जाये। लेकिन कभी छुट्टी तो कभी पैसों की तंगी के कारण कम ही जा पाता हूँ। मई 2016 में चम्बा और टिहरी बांध की यात्रा की थी। उसके बारे में कभी बाद में लिखूँगा।
पिछले एक वर्ष से नीरज जी का ब्लॉग ‘मुसाफिर हूँ यारों’ फॉलो कर रहा हूँ। बहुत अच्छा लिखते हैं। ब्लॉग पर ही इनके यात्रा संस्मरण ‘लद्दाख की पैदल यात्राएँ’ जो कि एक किताब है, के बारे में पता चला और ऑर्डर कर दी। यात्रा के विचार से तो मन घूम ही रहा था, किताब पढ़ते ही घुमक्कड़ी का भूत जाग उठा। 18 सितंबर का दिन था, जब तुंगनाथ यात्रा योजना बना ली और यात्रा का दिन निर्धारित किया 29 सितंबर से 2 अक्टूबर 2016। इन चार दिनों में 2 साप्ताहिक अवकाश, 1 कैजुअल लीव और बाकी का एक दिन हाफ डे।

Thursday, February 16, 2017

बरसूड़ी - एक गढ़वाली गाँव

9 जनवरी, दिन सोमवार, रात नौ बजे के आसपास अचानक पता चला कि बीनू कुकरेती के साथ ललित शर्मा, अजय और धर्मवीर माथुर उसके गाँव बरसूड़ी जा रहे हैं। उस समय मैं नाइट ड्यूटी जाने की तैयारी कर रहा था और नहाने ही वाला था। हालाँकि मुझे बीनू और ललित जी की इस यात्रा का पहले से पता था, लेकिन अब एकदम मेरा भी जाने का मन बन गया। आज नाइट करूँगा, तो कल मंगलवार पूरे दिन फ्री रहूँगा और परसों बुधवार मेरा साप्ताहिक अवकाश रहता है। एक भी छुट्टी नहीं लेनी पड़ेगी।
उधर शिमला समेत पूरे पश्चिमी हिमालय में भारी बर्फ़बारी हो रही थी। ऐसे में हमारा भी शिमला जाने का मन बनने लगा था। लेकिन कुछ ही दिन बाद होने वाली अंडमान यात्रा के मद्देनज़र शिमला जाना रद्द कर दिया। अब जब अचानक दीप्ति से बरसूड़ी चलने के बारे में बताया तो वह खुश हो गयी।
उधर बीनू, ललित जी और माथुर साहब कश्मीरी गेट से कोटद्वार वाली बस में बैठ चुके थे। मोहननगर से अजय भी इसी बस को पकड़ेगा। जब मैंने अजय को फोन किया तो वह निकलने ही वाला था। सुबह कार से चलने के मेरे आग्रह को उसने तुरंत मान लिया और इसकी सूचना बाकियों को भी दे दी।

Monday, February 13, 2017

बाइक यात्रा: रामदेवरा - बीकानेर - राजगढ़ - दिल्ली

इस यात्रा-वृत्तांत को आरंभ से पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें
21 दिसंबर 2016
हमारी आज की योजना थी कि पहले फलोदी के पास खींचण गाँव जायेंगे और वहाँ प्रवासी पक्षियों को देखेंगे। खींचण के निवासी इन पक्षियों को मेहमान की तरह मानते हैं और उसी तरह इनकी देखभाल करते हैं। उसके बाद रात होने तक बीकानेर पहुँचेंगे और कुलवंत जी के यहाँ रुकेंगे। कल देशनोक में करणी माता का मंदिर देखेंगे, जिसे चूहों का मंदिर भी कहा जाता है। परसों यानी 23 तारीख़ को दिल्ली पहुँचकर ड्यूटी जॉइन कर लूँगा।
लेकिन इस कार्यक्रम में परिवर्तन करना पड़ा। कारण था कि 24 और 25 दिसंबर को झाँसी के पास ओरछा में एक घुमक्कड़ सम्मेलन होना था। इनमें बहुत सारे मेरे मित्र थे और इनमें भी कई तो सपरिवार आने वाले थे। मेरा दिल्ली से झाँसी जाने का आरक्षण नहीं था, लेकिन झाँसी से दिल्ली वापस आने का आरक्षण था और झाँसी में रेलवे विश्राम गृह में एक कमरा भी बुक था। हालाँकि आयोजकों ने ओरछा में भी कमरों की व्यवस्था कर रखी थी, लेकिन ये हमारे बजट से बाहर थे। तो इस तरह मैं 23 की दोपहर तक दिल्ली पहुँचता, लगातार 16 घंटों की ड्यूटी करता और ओरछा के लिये निकल जाता। एक लंबी बाइक यात्रा के तुरंत बाद इतनी लंबी ड्यूटी करना, वो भी रात में, बेहद मुश्किल कार्य है। यही सब सोचकर तय किया कि एक दिन पहले ही दिल्ली पहुँचना ठीक रहेगा। खींचण जाना रद्द कर दिया।

Saturday, February 11, 2017

थार बाइक यात्रा: वीडियो-6

आज की वीड़ियो... वही अपनी थार में बाइक राइड़िंग की... अच्छा लगता है ऐसी सड़कों पर बाइक चलाना...


Friday, February 10, 2017

थार बाइक यात्रा: वीडियो-5

थार मरुस्थल में खुद को धूप से बचाने का भेड़ों का यह व्यवहार हमें पसंद आया:

Thursday, February 9, 2017

वुड़ फॉसिल पार्क, आकल, जैसलमेर

इस यात्रा-वृत्तांत को आरंभ से पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें
20 दिसंबर 2012
हम तनोट में थे। सुबह उठे तो मंदिर में आरती समाप्त होने वाली थी। जाकर एक बार फिर दर्शन किये और प्रसाद लिया। कैंटीन में चाय पी और निकल पड़े - अपने दिल्ली वापसी के सफ़र पर। तनोट से निकलते ही घंटियाली माता का मंदिर है। रेत का ऊँचा धोरा भी है। अच्छी लोकेशन पर है यह मंदिर। इसकी भी देखरेख बी.एस.एफ. ही करती है। इसलिये फोटो लेने पर कोई रोक नहीं।
सड़क दो-लेन की है, बेहद शानदार बनी है। पिछली बार जब मैं साइकिल से आया था, तो यह सिंगल थी और इसे दोहरा बनाने का काम चल रहा था।
रास्ते में रणाऊ गाँव आता है। यह भी रेत के टीलों से घिरा है और इसकी स्थिति भी फोटोग्राफी के लिये शानदार है। कहते हैं कि यहाँ कुछ फिल्मों की भी शूटिंग हो चुकी है।

Wednesday, February 8, 2017

थार बाइक यात्रा: वीडियो-4

म्याजलार सड़क पर रेत के टीले के बीच से निकलती सड़क पर बाइक चलाने की वीड़ियो:


Monday, February 6, 2017

जैसलमेर से तनोट - एक नये रास्ते से

इस यात्रा-वृत्तांत को आरंभ से पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें
19 दिसंबर 2016
आज हम यात्रा करेंगे जैसलमेर से तनोट तक, लेकिन परंपरागत रास्ते से नहीं बल्कि निहायत नये और अनछुए रास्ते से।
जैसलमेर-सम रोड़ पर जहाँ से लोद्रवा की सड़क अलग होती है, वहाँ कुछ दूरियाँ लिखी थीं। इनमें प्रमुख था आसूतार 94 किलोमीटर। हमारी योजना इसी सड़क पर आसूतार, घोटारू, लोंगेवाला होते हुए तनोट जाने की थी। मैं सैटेलाइट से पहले ही इस सड़क की स्थिति देख चुका था। यह पूरी सड़क पक्की बनी है। इंटरनेट पर इसका कोई भी यात्रा-वृत्तांत नहीं मिलता।
लोद्रवा से आगे छत्रैल है और फिर कुछड़ी है। कुछड़ी में एक टी-पॉइंट है - बाये सड़क सम जाती है और दाहिने आसूतार। अगर कल हम सम रुकते, तो शायद सीधे इधर ही आते। हम दाहिने मुड़ गये।
थोड़ा आगे हाबुर गाँव है। यहाँ से सीधी सड़क जैसलमेर-तनोट रोड़ में मोकल के पास जाकर मिल जाती है और बायें जाने वाली सड़क आसूतार जाती है। यहाँ से हम भी आसूतार का पीछा करते-करते बायें मुड़ गये।
दो-लेन की यह सड़क सीमा सड़क संगठन ने बनायी है और बेहद शानदार बनी है। राजस्थान के इस सुदूर इलाके में जरा भी यातायात नहीं है। कभी-कभार कोई जीप आ जाती, जिससे स्थानीय निवासी आना-जाना करते हैं। बस कोई नहीं दिखी।

Saturday, February 4, 2017

थार बाइक यात्रा: वीडियो-2

थार बाइक यात्रा का एक और वीडियो सामने आया है...


Friday, February 3, 2017

थार बाइक यात्रा: वीडियो-1

मुनाबाव - म्याजलार - जैसलमेर सड़क पर सुमित जी डाक्टर साहब की बुलेट राइडिंग...



Thursday, February 2, 2017

लोद्रवा - थार में एक जैन तीर्थ

इस यात्रा-वृत्तांत को आरंभ से पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें
19 दिसंबर 2016
आज ज्यादा कुछ नहीं लिखेंगे। कुछ फोटो हैं, वे देख लेना और थोड़ा-सा लिख भी देता हूँ, इसे पढ़ लेना। काफ़ी रहेगा।
याद तो आपको होगा ही कि कल सुमित सम चला गया था और अपना टैंट लगाकर सोया था। हम दोनों जैसलमेर आ गये थे और एक गंदे-से होटल में अच्छी नींद ली। सुबह सुमित से व्हाट्स-एप पर बातचीत हुई, हमने अपनी लोकेशन उसे शेयर कर दी और कुछ ही देर में दरवाजे पर खटखटाहट हुई। सुमित आ गया था।