Friday, June 27, 2014

आसमानी बिजली के कुछ फोटो

बरसात में जब बिजली चमकती है तो सेकंड के सौवें हिस्से में सबकुछ हो जाता है। पता नहीं लोगबाग इतनी फुर्ती से इनके फोटो कैसे खींच लेते हैं? मैंने भी कोशिश की लेकिन जब तक क्लिक करता, तब तक दो सेकंड बीत जाते। कडकती बिजली के लिये तो दो सेकंड बहुत ज्यादा होते हैं। मुझे हमेशा अन्धेरी रात ही दिखाई देती।
इलाज निकला। कैमरे को ट्राइपॉड पर वीडियो मोड में लगाकर छोड दिया और अन्दर जाकर डिनर करने लगा। वापस आया तो करीब बीस मिनट की वीडियो हाथ लग चुकी थी। इसमें बहुत बढिया बिजली कडकती व गिरती भी कैद हो गई। दो-तीन बार ऐसा किया। आखिरकार उन वीडियो से कुछ फोटो हाथ लगे हैं, क्वालिटी बेशक उतनी अच्छी नहीं है लेकिन बिजली अच्छी लग रही है।

आप भी देखिये:




















टिप्पणियां भी करनी हैं आपको। बेहतर होगा कि अपने गूगल खाते का प्रयोग करते हुए टिप्पणी करें। टिप्पणी लिखने के बाद जो Publish बटन है, उसके दूसरी तरफ Notify me नामक विकल्प भी है। अगर आप इसे एक्टिवेट कर देंगे तो आपके बाद जो भी टिप्पणियां आयेंगी, उनकी सूचना आपको मेल पर मिल जायेगी। इसका फायदा है कि आपको पता चल जायेगा कि आपकी टिप्पणी के जवाब में किसने क्या कहा। आपको दूसरी टिप्पणियां देखने के लिये बार-बार ब्लॉग भी नहीं खोलना पडेगा। इस तरह एक वार्तालाप भी शुरू हो सकता है।

78 comments:

  1. ``bahut hi umda taswire!!!!!!
    jaise aasman me atisabari ka najara ho''
    kirti

    ReplyDelete
  2. सुन्दर प्रस्तुति।
    सुप्रभात।
    आपका दिन मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  3. Aap k dimag ki taarif karni hogi neeraj ...bhai....
    Taswir k liye thanks.........

    ReplyDelete
  4. transform to electo-valler from traveller. :)

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर
    आसमान में बिजली तैर रही है...
    और तकनीक माशा अल्लाह...

    ReplyDelete
  6. आसमानी आतिशबाज़ी का
    सुंदर व मनमोहक नज़ारे का
    दीदार कराने के लिए शुक्रिया ..
    नीरज जी

    ReplyDelete
  7. बढिया फोटोज हैं भाई

    ReplyDelete
  8. घूमक्कडी ज़िंदाबाद नीरज जी! प्रणाम| बहुत बढिया!!! आपकी फोटोग्राफी वाकई लाजवाब है!! आप तो पारस हो| जिस चीज को आप या आपके कदम छू लेते हैं वह सोना बनती‌ है! वाकई! आपके ब्लॉग पढते समय जो आनन्द और सुख मिलता है उससे एक चीज याद आ गई|‌ आपने ध्रुव के पुराने कॉमिक्स जरूर पढे ही होंगे! उन कॉमिक्स में जो गहरा सुख एवम् स्वाद था, वो आपके ब्लॉग में मिलता है! वाकई| आपका ब्लॉग एक मंत्रमुग्ध करनेवाला रिलॅक्सेशन टेक्निक है| और कॉमिक्स की ही भाँति मनोरंजन के साथ ज्ञान एवम् दृष्टिकोण भी देता है| क्या कहें! बहुत बहुत धन्यवाद|

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ap aj b dhrow k comice padhna chahte h to pyaretoons site pr padh skte ho

      Delete
    2. धन्यवाद निरंजन जी...

      Delete
  9. lage raho neeraj bhai...rahul sankrityan ke bad ka sthan aap hi ko diya hai maine...aise hi jari rakho apni yatra...safar aur anubhav ka..

    ReplyDelete
  10. फोटोग्राफी वाकई लाजवाब है!! Neeraj very Good

    ReplyDelete
  11. ye nature hai...........tumse accha kaun samjh sakta hai

    ReplyDelete
  12. bhut khubsurat neeraj bhai.akhir mehnat rang layi .

    ReplyDelete
  13. Bahut khoob neeraj bhai

    ReplyDelete
  14. नीरज भाई काफी अच्छे फोटो है.. पर ये फोटो कहाँ से खिची गयी है?

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपनी बालकनी से खींचे हैं अजय भाई... छठीं मंजिल से...

      Delete
  15. फोटो एक से एक लाजवाब हैं ..... लेकिन एक दो फोटो अद्वितीय हैं....

    ReplyDelete
  16. कैमरे को टाई पाद पर वीडियो मोड में लगाकर छोड़ दिया। ---अच्छा लगा। वीडियो से फोटो कैसे बनाई। कृपया बताए।
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सर्वेश जी... इसके कई तरीके हैं। एक तो कैमरों में भी विकल्प होता है वीडियो के किसी हिस्से को फोटो में बदलने का। फिर कम्प्यूटर तो है ही। कोई भी वीडियो प्ले करो, जहां चाहो वहां pause करके स्क्रीनशॉट ले लो।

      Delete
  17. Incredible Photos!!!! Good job done Neeraj.To capture still photos of lightning just put your camera on tripod facing dark sky. Select "P" mode and set shutter speed time to 5-10.However this is possible only on Bridge or DSLR camera.

    ReplyDelete
  18. Incredible Photos!!!! Good job done Neeraj.To capture still photos of lightning just put your camera on tripod facing dark sky. Select "P" mode and set shutter speed time to 5-10 minutes.However this is possible only on Bridge or DSLR camera.

    ReplyDelete
    Replies
    1. समझ गया। होने दो इस बार बारिश। ऐसा ही करके देखूंगा।

      Delete
  19. नीरज जी चमकती बिजली को तस्वीरें मे बेखुभी से उतारा है,यह फोटो आपने अपनी पांचवी मंजिल से ही लिया या सबसे ऊपर छत से,

    ReplyDelete
    Replies
    1. छठीं मंजिल से... अपनी बालकनी से।

      Delete
  20. बहुत सुन्दर तस्वीरें ........ग्रेट जॉब

    ReplyDelete
  21. आप नीचे दिए लिंक से सॉफ्टवेर डाउनलोड कर सकते हो.
    http://www.dvdvideosoft.com/products/dvd/Free-Video-to-JPG-Converter.htm

    ReplyDelete
  22. नीरज जी हम आपकी हर पोस्ट बहुत उत्साह से पढते है ओर अच्छा या बुरा जो भी लगता है उसे कमेंट के रूप मे लिखते भी है.

    पहले कोई कमेंट मे आपसे कुछ पुछता था तभी आप उसका जबाव देते थे लेकिन अब हर कमेंट का जबाव दे रहे है,चाहे धन्यवाद ही कहे,यह हम जैसे पाठको के लिए आपके द्वारा दिया गया सबसे बडा उपहार है,
    सभी पाठको के लिए आपसे मुलाकात मुमकिन नही है कोई कही रहता है तो कोई कही पर कमेंटस के जरीए वह आपसे जुडे रहते है.
    धन्यवाद नीरज जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. इसका राज आगामी डायरी के पन्नों में बताऊंगा, सचिन भाई।

      Delete
  23. Neeraj bhai aap comment ka jawab de rahe hai..ye hum pathak ka utshavardhan karta hai........comment karne k liye........ye rishta aur v majboot hoga .......shubkamnaao k saat............
    Ranjit....

    ReplyDelete
    Replies
    1. रंजीत जी, आप इसी तरह कमेंट कीजिये। मैं हरसम्भव इस रिश्ते को मजबूती दूंगा। धन्यवाद आपका।

      Delete
  24. very beautiful photos for a first timer... 2-3 photos are perfect shots. Your idea of making a video of the lightning and then taking jpg out of video is very innovative. But as you know, video filming has lower quality jpgs... what camera does is taking smaller and low quality jpg images 25/sec and then joins them into a film...so obviously the photo taken out of a video will be a little blurry and lower in quality.... Still some of your fotos have good contrast and if you can lower their highlights, the picture will have more contrast.

    The best way is to leave camera for longer shutter Bulb mode or 1 minute mode, by fixing focus at a little less than infinity, with a tripod. that way only the lightning strike will be printed on film, because everything else is black.

    There is a IOS application, very cheap or may be free which can automatically detect the lightning and click the shutter... it is something called lightning trigger switch.

    I have never shot lightning... because here in Iceland Bijli kabhi nahi kadakati... but I have shot Northern lights which also needs some technique same as lightning.... viz. F/11, low ISO may be 100, and longer shutter speed. PP is always required for such fotos.

    I will say commendable job done Neeraj....

    ReplyDelete
    Replies
    1. हां, तिवारी जी मैं जानता हूं कि वीडियो से फोटो निकालेंगे तो खराब गुणवत्ता ही आयेगी। विधान भाई ने भी सही कहा है कि इन फोटो में मेरा कुछ भी हाथ नहीं है, कुछ भी योग्यता नहीं है। मुझे ट्राइपॉड पर कैमरा रखकर कम शटर स्पीड (4, 5 मिनट) पर फोटो लेने चाहिये थे। सही बताऊं तो यह तकनीक मेरे ध्यान ही नहीं आई। मानसून ने दस्तक दे दी है। बिजलियां फिर कडकेंगी। और मैं वादा करता हूं कि इस बार आपको नीरज के फोटो मिलेंगे, जो निःसन्देह इन झूठे फोटुओं से कई गुने अच्छे होंगे।

      Delete
    2. कुछ भी योग्यता नही गलत है... आपका आईडिया नया था.. चित्र अच्छे आये पहली बार के हिसाब से तो कह सकते है कमाल के...कैमरे व तकनीक का रोल 50 प्र.श. होता है.... कैमरे के पीछे का जो दिमाग होता है...चित्र का कम्पोजीशन करना उसे एक सराहनीय चित्र बनाना वो बहुत जरूरी है.. .. जो भी महान फोटोग्राफर होते हैं... वो तकनीक का इस्तेमाल बाद में शुरू करते है..दिमाग और सृजनशीलता का पहले...
      मुझे अच्छा लगा कि मेरी सलाह का बुरा न मान कर उस पर अमल कर दिया और देखो लोग तुम्हारे उत्तर पा कर कितने खुश है....

      रंगो के दंगे वाले तुम्हारे चित्रों का इन्तजार कर रहे है..

      Delete
  25. बहुत खूब नीरज भाई....चाहे कोई भी तरीका अपनाया हो पर कड़कती बिजली के फोटो हमे बहुत अच्छी लगी... |

    कड़कती बिजली के फोटो देखकर मुझे एक छोटी सी घटना याद आ गयी...... अभी कुछ दिनों पहले हम लोग दार्जिलिंग के चाय बागान में घूम रहे थे और बारिश से बचने के लिए छाता लिए हुए ..... तभी तेज बारिश के बीच बहुत तेज आवाज (कड़कने की ऐसी आवाज तो मैंने पहले कभी नहीं सुनी ) के साथ बिजली कड़कने लगी .... और तभी मेरा और जिन लोगो के हाथ में छाता था सभी के हाथ झन्ना गया ......

    ReplyDelete
  26. neeraj bhai apka postal address likhiye

    ReplyDelete
  27. चमचमाती बिजली को विडियो में कैद करना फिर उससे फोटो निकालना, ये तो वही बात हो गई...जैसे दूध से पनीर निकालना।

    ReplyDelete
  28. Neeraj...bhai..bijli dikha k aap kahan bijli ki thrah gum ho gaye hai..........
    Ranjit.....

    ReplyDelete
  29. Well captured pics of lightning. keep it up neerajji. :)

    ReplyDelete
  30. Well captured pics of lightning. keep it up neerajji. :) regular reader of your blog-Rajni

    ReplyDelete
  31. अरे दिमाग ख़राब हो गया है इतने दिन से अपने कोई पोस्ट नहीं डाली है

    पिछली पोस्ट 27/06/2014 की थी

    अब कितने दिन और इंतज़ार करना पड़ेगा अगली पोस्ट के लिए.

    सुबह ऑफिस आते ही लैपटॉप ऑन करके सबसे पहले मनु जी और आपकी पोस्ट खोलता हूँ उनकी पोस्ट तो लगातार आ रही है और ठस पड़े हो ...

    महाराज कोई नयी पोस्ट भी डालो

    में तरस रहा हूँ

    धन्यवाद

    ReplyDelete
  32. Neeraj...bhai...
    Kahan ho aap.....
    Kiya apne pathak se milne ka man nahi kar raha hai..kiya....
    Bahut din ho gaye maharaj .....
    Ab to darsan dijiye.....
    Aap ki kusalta ki kamna karte hai.............
    Ranjit......

    ReplyDelete
  33. Neeraj...bhai...

    ReplyDelete
  34. NEERAJ BHAI KAHAN HO AAP SARE PATHAK DUKHI HAIN

    ReplyDelete
  35. सुन्दर अतिसुन्दर तस्वीरें !!

    ReplyDelete
  36. आपने तो कमाल कर दिया बिजली को कैद कर दिया
    http://photo2rsd.blogspot.com/ मैँ ऐसा नहीँ कर पाया

    ReplyDelete
  37. missing ur post neeraj..........

    ReplyDelete
  38. बहुत सुंदर चित्र के लिए बधाई व आभार आदरणीय नीरज जी!
    धरती की गोद

    ReplyDelete
  39. उम्दा और बेहतरीन... आप को स्वतंत्रता दिवस की बहुत-बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ

    ReplyDelete
  40. बेहतरीन आकाशिय दामिनी की छवियो के लिए बहुत आभार /

    ReplyDelete
  41. mrng gu8 ni ho rhi ji, ankhe v ku6 ach6a pdne ka itejar kr rhi h

    ReplyDelete
  42. घुमक्कडी ज़िंदाबाद नीरज जी! प्रणाम! आप कैसे हैं और कहाँ हैं? किन वादियों में हैं? इतने दिनों से आपका ब्लॉग न आने से कुछ चिंता हो रही है| आशा है कि आप स्वस्थ एवम् सकुशल होंगे| आपकी अनुपस्थिति का कारण कहीं यह तो नही- आपकी शादी तो नही हुई है? फिर और चिंता होगी| :)‌ मेरी यह टिप्पणि आप प्रातिनिधिक मानिए| आपकी प्रतीक्षा में| - निरंजन.

    ReplyDelete
  43. Neeraj bhai ab please wapas aa jaoo.

    ReplyDelete
  44. किसी किसी के हाथ मं प्रकृति प्रदत्त हुनर होता है, ऐसा ही कुछ नीरज जी को भगवान ने खुले हाथ दिया है और जनाब नीरज जी उसका उपयोग भी दिल खोल कर कर रहें हैं। फोटो चाहे आसमानी बिजली की हो या प्रकृति के अन्य नजारे, अपने आप में अद्भुत होती हैं।

    ReplyDelete
  45. नीरज सर ...
    क्या लिखूँ..कुछ समझ में नहीं आता ....आपका वो यमुनोत्री वाला विवरण,आपका वो रूपकुंड का यात्रा वृतांत..या हिमालय को छोड़कर किसी और जगह की गयी घुमक्कड़ी..पता नहीं कितनी बार आपका ब्लॉग खोला और फिर पढता गया यमुनोत्री का विवरण ..वो चौकीदार ..वो नेपाली ....खैर वजह जो भी हो चाहे जाट देवता संदीप जी से विवाद या आपका लैपटॉप ख़राब होना...हमें नहीं पता..किसी के मित्रता के बीच कोई टिप्पणी करना ये भी अपने प्रकृति के अनुरूप नहीं है ..आपसे बस इतनी गुज़ारिश है की लिखते रहिये.. तकनीकी या विवाद के कारण अपनी घुमक्क्ड़ी को शब्दों से वंचित करना एक तरह का जुल्म करना ही है .........आज भी आपके आवास के आस पास से लौट गया मै...पर अगली बार मै आऊंगा जरूर आपको मनाने के लिए ..हुक्म करिये क्या लाऊ..



    ReplyDelete
  46. नीरज कहा गायब है ---कुछ तो बता

    ReplyDelete
  47. तारीफ तो करनी ही होगी आप की इस तकनीक की!
    मगर अाजकल हो कहाँ?

    ReplyDelete
  48. 1 October se blog shuru ho
    raha hai lekin abhi bhi 2-4 din aur lag
    sakte hai
    bhai mere ab to 2 din v ho gye aur 4 bhi...
    injar ka fal mitha hota hai bhai pr jayada intjar se fal sad v jata h.

    ReplyDelete